समर्थक

Saturday, December 18, 2010

फुर्सत में .. मोहि कपट छल छिद्र न भावा ---शनिवार की चर्चा – चर्चा – मंच -372 ..

नमस्कार , आज शनिवार की चर्चा लेकर हाज़िर हुई हूँ आप सबके समक्ष …आज  के चर्चा मंच पर यही कोशिश रही है कि अधिक से अधिक लिंक्स आप तक   पहुंचा सकूँ …तो आज बातों में वक्त न ज़ाया करते हुए सीधे चलते हैं कुछ चुने हुए चिट्ठों पर ….
पहले आपके सामने है    काव्यांजलि
1-  डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी की सीख …नाविक की सीख  सीख लें तो बेहतर 

2-  गोविन्द सलोता   की कविता ….
मासूम की पुकार ….  कोई तो सुने  

3- डा० शरद सिंह की भावनाएं …..
उस  चंचल लडकी के सपने ..  कुछ तो पूरे हों .

4- अरविन्द जांगिड  की मजबूरी …
हर दौर में भी जिन्दा लगता हूँ .. लगना भी चाहिए ..

5-- सप्तरंगी पर वंदना जी की रचना ..
बिखरे अस्तित्त्व….    समेटने की कोशिश कीजिये .

6--वंदना शुक्ला बता रही हैं ….व्यतीत … बीत गयी सो बात गयी

7--वटवृक्ष पर पढ़िए
हमें गर्व है कि हम विकसित हो रहे हैं ..  होना भी चाहिए ..

8--आशा जी लायी हैं
सुरमई आँखों की स्याही .…. चमक बनी रहे .

9-- स्वप्न मंजूषा “ अदा “ कह रही हैं ..
मेरे घर की उखाड़ी साँस … अभी तक तो इंसान की ही साँस उखडती थी .. 

10 - अविनाश पूछ रहे हैं कि क्या ..प्रेम नहीं है ? … पढ़ कर बताते हैं …

11-- प्रकाश वरुण की कविता …
है कितना आसाँ कह देना , कि बीत गयी सो बात गयी ..  है तो मुश्किल ही . 

12- - राजवंत राज  बता रही हैं …शर्म आती है .. आती तो है .

13- डा० जे० पी० तिवारी जी  अन्तर बता रहे हैं ….
नेत्र  बनाम चक्षु सही है ..

14-- अनामिका कह रही हैं कि  …
वक्त  तो लगता है ...क्या सच में ?

15-- अनीता निहलानी जी बता रही हैं ….
जीवन जैसे खेल क्रिकेट  का. खेलते रहो ..

16- अरुण से राय   कह रहे हैं …विज्ञापन बनाते हुए ... आज कल विज्ञापन का ही दौर है .

17-  नवगीत कि पाठशाला पर पढ़िए नवीन चतुर्वेदी जी को …आप हम सब खुश रहें…. आमीन . .

18 ..रूप जी खुश हैं और कह रहे हैं …अच्छा लगता है ...क्या वाकयी  ?   

19 -- प्रांजल के चित्र पर शास्त्री जी की रचना पढ़िए ….
देखो मैंने चित्र बनाया… बहुत सुन्दर

20 - अरुणेश मिश्र  जी कह रहे हैं …..व्यंग में बड़ा दम है , साहित्य की मांग कम है .  बिलकुल सही .. 

21 -- दीपक बाबा  कैसे सौदागर हैं  जो कह रहे हैं …दर्द का खरीदार हूँ ...  तो बेच दीजिए सब दर्द .. 

22 -- अनुपमा पाठक दे रही हैं चेतावनी …संकट बढ़ता ही रहा ..  संभल कर .. 

23 - सत्यम शिवम लाये हैं ….
सफर में ठोकर ... बच के रहना ..

24-- आलोकिता बता रही हैं अन्तर ….
चिन्ता और चिता  का … एक अनुस्वार का अन्तर ..

25--पलाश चिंतित हैं ……ऐसा भी कर देते हैं लोग.अब क्या किया जा सकता है ?

26-- देवेन्द्र जी पूछ रहे हैं …
ऐसा क्यों  होता है ..?  अब क्या बताएँ कि क्यों होता है ?

27- सुमन सिन्हा  जी की खूबसूरत सोच ..
गुलमर्ग  बनेगा ..  इंतज़ार है ..
काव्यांजलि के बाद मैं लायी हूँ गद्य कलश …उम्मीद  है आपको लेख और कथाएं पसंद आएँगी ..
1- मनोज कुमार जी विचार ब्लॉग पर विषय लाये हैं ….पति – पत्नि

2—स्वप्न मंजूषा जी बता रही हैं ..शंकर की तीसरी आँख और शिवलिंग

3-  ललित शर्मा जी करा रहे हैं …
एक एंजिल से मुलाक़ात

4-  श्याम कोरी “ उदय “  जी  जप रहे हैं …
जय - जय  भ्रष्टाचार ..

5-  शिखा वार्ष्णेय लन्दन की ठण्ड के बारे में बताते हुए लायी हैं    ठिठुरता सेंटा 

6- डा० दराल बता रहे हैं ….सर्दियों का मौसम और दिल्ली की शादियाँ , तौबा तौबा 

7 - अर्चना जी लायी हैं ..नया साल नयी शुरुआत 

8 -- राजभाषा पर रेखा श्रीवास्तव जी की कहानी --पहले मेरी माँ है

9 - रश्मि रविजा का एक प्रश्न …हम उत्तर भारतीय क्या दे सकते हैं , इन सवालों के जवाब ?

10-  डा० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर कह रहे हैं ..बुजुर्गों के रहते देश को नौजवानों की ज़रूरत है नहीं ..
11--- आलोकिता की पढ़िए  प्रेरक    एक लघु  कथा 

12-  एम० वर्मा जी  बता रहे हैं मंगतू का गणित ….पेट्रोल की कीमत नहीं बढ़ी

13--राजकुमार सोनी जी कह रहे हैं ..तो हो गया न मामू केमिकल लोचा 

14 - अराधना चतुर्वेदी “ मुक्ति “ कर रही हैं    अडोस पड़ोस की बातें 

15 -- सलिल जी परेशान हैं ..संस्मरण , साहित्य और बेचारा बिहारी

16-- सतीश सक्सेना जी दिखा रहे हैं …ब्लोगर मीटिंग , ब्लॉग जगत का खूबसूरत चेहरा

17- अरविन्द  मिश्रा जी कर रहे हैं … संकलनों  की असमय मौत पर एक शोकांजलि .

18 -  शहरोज़  बता रहे हैं …ले  मशालें चल पड़ी है  नाजिया रांची शहर की .

19 -  पूजा उपाध्याय  कह रही हैं …आई  स्टिल  लव यू जान .

20-  महेंद्र मिश्र  जी कह रहे हैं …..हिंदी ब्लोगों के लिए नए एग्रेगेटर के विकल्पों पर विचार करना ज़रूरी . 

21 - रेखा श्रीवास्तव जी कुछ कह रही हैं …ऐसा भी क्या  ?

22 - करण समस्तीपुरी  मनोज ब्लॉग पर कह रहे हैं ..मोहि कपट छल छिद्र न भावा
आशा है आज की  चर्चा आपको पसंद आई होगी … और आपको अपने मनपसंद चिट्ठे ज़रूर मिले होंगे ….. फिर मिलते हैं …नमस्कार …. संगीता स्वरुप

44 comments:

  1. बहूऊऊउत सारे लिंक्स और बहुत व्यवस्थित .
    बहुत काम की चर्चा.
    पूजा उपाध्याय की पोस्ट बहुत अच्छी लगी.
    आभार.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा...
    आभार!

    ReplyDelete
  3. आपकी चर्चा दर्शाती है आपकी लगन और परिश्रम...
    बहुत अच्छी लगी..
    हृदय से आभारी हैं हम सभी...

    ReplyDelete
  4. गुड मोर्निंग मैम
    अदा जी की बात से मैं भी सहमत हूँ बहुत बढ़िया चर्चा !

    ReplyDelete
  5. यकीनन बहुत अच्छी और समग्र चर्चा ..
    आजकल चिट्ठाजगत नहीं खुल रहा है ऐसे में आपकी चर्चा के इतने सारे लिंक्स बहुत उपयोगी हैं और आपकी मेहनत को दर्शा रहे हैं.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर लिंकों स सजी शानदार चर्चा करने के लिए आपका शुक्रिया!

    ReplyDelete
  7. संक्षिप्त एवं सामयिक चर्चा ।

    ReplyDelete
  8. आपके निः स्वार्थ प्रयत्न का ही परिणाम है की हम सभी को इतने सुन्दर लिंक्स पर जाने का मौका मिलता है.
    आपका साधुवाद.

    ReplyDelete
  9. sundar charcha,achchhe links...aabhar..

    ReplyDelete
  10. बढ़िया चर्चा !

    ReplyDelete
  11. बहुत सारे लिंकों से सुसज्जित सुंदर चर्चा के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  12. काफी मेहनत के साथ तैयार की गई सुन्दर चर्चा ... अच्छे लिंक मिले.... सारगर्वित चर्चा के लिए आभारी हूँ .... आपका चर्चा मंच लोकप्रियता के शिखर पर दिनोंदिन पहुंचे .... शुभकामनाओं के साथ ...

    ReplyDelete
  13. उम्दा चर्चा...आभार इन लिंक्स के लिए.

    ReplyDelete
  14. विभिन्‍न ब्‍लॉग्‍स पर सामग्री पढ़ना, समझना और उपयुक्‍ततानुसार चयन कर संकलित करने का गंभीर दायित्‍व, और उसे बखूबी निबाहना। साधुवाद।

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुंदर चर्चा आज कि, मेरी रचना "सफर में ठोकर" को आज चर्चा मंच में जगह देने हेतु, आपको बहुत बहुत धन्यवाद.......यूँही आशीर्वाद बनाएँ रखे।

    ReplyDelete
  16. shukriya sngeeta di chrcha mnch me mujhe bhi sthan dene ke liye .
    bhut mehnat our pyar se taiyyar ki gai chrcha mnch ki aapki ye prstuti bhut si pthneey shmgri ko sngheet krti hai .sath hi links bhi nye nye mil rhe hai jo blog pathko ke liye nihsndeh bhut hi labhprd siddh honge .
    pustkayan pr meri prstuti ke liye aapka margdrshn sdaiv apekshit rhega .
    punh ek bar fir bhut bhut dhnywaad .

    ReplyDelete
  17. धन्यवाद. एग्रीगेटरों की अनुपस्थिति में आपकी चर्चा की महत्ता अब कहीं और ज़्यादा नज़र आने लगी है

    ReplyDelete
  18. आज चर्चा मंच की बगिया मेँ बहुत ही सुन्दर फूल खिले हैँ। आभार संगीता दी!

    ReplyDelete
  19. ढेर सारे लिंक देकर एक बार फिर से मंच का सद्प्रयास चिट्ठाजगत की अनुपस्थिति दूर करने का।
    मेरे ब्लोग ‘मनोज’ को मंच पर स्थान देने का शुक्रिया।

    ReplyDelete
  20. आज के नये अन्दाज़ की चर्चा बहुत सुन्दर लग रही है और लिंक्स भी काफ़ी है मगर वक्त नही है आज मेरे पास पढने का मगर बाद मे पढूँगी अभी 3 दिन और व्यस्त हूँ……………बहुत सुन्दर और सुगठित चर्चा…………आभार्।

    ReplyDelete
  21. सुन्दर चर्चा , बहुत सारे नए लिंक्स मिले .

    ReplyDelete
  22. shukriyaa.
    behtar blogers se milaane ke liye.

    ReplyDelete
  23. aapko kotish: dhanyawad aur aabhar , apne meri kawita charcha layak samjhi !

    ReplyDelete
  24. बहुत सुन्दर चर्चा , चिट्ठा जगत की कमी को पूरा करने की कोशिश काफी हद तक कामयाब रही ।

    ReplyDelete
  25. आभार एवं धन्यवाद! नए लिंक मिले.

    ReplyDelete
  26. गागर में सागर जैसी है यह चर्चा, बधाई।

    ReplyDelete
  27. shikha varshney said...
    बहूऊऊउत सारे लिंक्स और बहुत व्यवस्थित .
    बहुत काम की चर्चा.

    M VERMA said...
    यकीनन बहुत अच्छी और समग्र चर्चा ..
    आजकल चिट्ठाजगत नहीं खुल रहा है ऐसे में आपकी चर्चा के इतने सारे लिंक्स बहुत उपयोगी हैं और आपकी मेहनत को दर्शा रहे हैं.


    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" said...
    सुन्दर लिंकों स सजी शानदार चर्चा करने के लिए आपका शुक्रिया

    महेन्द्र मिश्र said...
    काफी मेहनत के साथ तैयार की गई सुन्दर चर्चा ... अच्छे लिंक मिले.... सारगर्वित चर्चा के लिए आभारी हूँ .... आपका चर्चा मंच लोकप्रियता के शिखर पर दिनोंदिन पहुंचे ...

    इन्ही सब में मेरा स्वर भी समिल्लित किया जाए........

    ReplyDelete
  28. achchhe links ke sath sundar prastutikaran..badhai....

    ReplyDelete
  29. आदरणीया सांगीता स्वरूप जी इस चर्चा में मेरे नवगीत का समावेश करने के लिए पुन: आभार|
    आपको बहुत बहुत बधाई इतनी सुंदर प्रस्तुति के लिए और बारंबार अभिनंदन आपके अथक परिश्रम के लिए|

    ReplyDelete
  30. सुन्दर चर्चा...आभार इन लिंक्स के लिए.

    ReplyDelete
  31. शुक्रिया..चर्चा मंच पर पोस्ट को शामिल करने के लिए...

    ReplyDelete
  32. main charcha manch par aati to hamesha hun jiski bhi rachna padhi comment usi k blog par de diya par socha chalo charcha manch ko bhi dhanyawaad de dun meri do do rachnayen ek saath prastut karne k liye.
    aabhar

    ReplyDelete
  33. चिट्ठा जगत के अभाव में चर्चा मंच का महत्व बढ़ जाता है। इतने सारे पोस्ट को पढ़ना ही कठिन काम है। चर्चा करने लायक पढ़ना तो और भी बड़ी बात है।
    ब्लॉग जगत के लिए आपका परिश्रम सर माथे पर।

    ReplyDelete
  34. bahut achchi -achchi cheejen padhne ko mili.dhanywad.

    ReplyDelete
  35. बहुत सारे सुन्दर लिंक्स..आभार

    ReplyDelete
  36. संगीता स्वरुप जी, मैं आपको धन्यवाद भर कहूं तो कम होगा, आपके अपनत्व ने मुझे भावविभोर कर दिया है। चर्चा मंच के लिए आप सचमुच बहुत श्रम करती हैं. लोगों को लोगों से जोड़ना एक स्तुत्य कार्य है और इस हेतु आप साधुवाद की पात्र हैं।

    ReplyDelete
  37. bahut hi sundar charcha...har link kmal ka....

    ReplyDelete
  38. शानदार!!मैं ही विलंबित सुर में गा रहा हूँ!! क्षमा!!

    ReplyDelete
  39. वाह! आज तो लिंक्स की भरमार है। आभार आपका जो आपने मेरे ‘विचार’ को यहां स्थान दिया।

    ReplyDelete
  40. sangita ji , bahoot sunder charcha. kafi achchhe link mile.

    ReplyDelete
  41. सुन्दर चर्चा संगीता जी... आज कल अत्यधिक व्यवस्ता की वजह से देर से आना हुवा.. चर्चा का सुन्दर स्वरुप और अच्छे लिंक्स मिले .धन्यवाद

    ReplyDelete
  42. थोड़ा विलंब से पहुंचा इसके लिए खेद है।
    आपने मेरे लेख को चर्चा मंच में स्थान दिया उसके लिए आपका आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin