Followers

Thursday, March 28, 2013

"प्यार के रंग, होली के संग" ( चर्चा - 1197 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
उम्मीद है कि होली का दिन मौज मस्ती का रहा होगा | महाराष्ट्र में सूखे को देखते हुए पानी बर्बाद न करने की सलाहें तो गई थी मगर इस दिन किसको याद रहते हैं ये उपदेश | लोगों ने आपस में भी होली खेली तो श्रद्धालुओं ने अपने धर्मगुरुओं के साथ भी पानी बहाया | कुछ ने सूखे रंग मसले यह सोचकर कि पानी की बचत होगी लेकिन लाल-पीले चेहरे को पहले-सा करना के लिए अतिरिक्त पानी तो बहाना ही पड़ा | फिर भी कुछ जश्न तो जरूरी था ही क्योंकि ये सिर्फ रंग नहीं थे प्यार की सौगातें थी और प्यार शब्द यहाँ आ जाता है वहां तौल-मोल , नफा-नुक्सान सब गायब हो जाता है |
चलते हैं चर्चा की ओर 
 
जाले
Kamlesh Kumar Diwan
मेरा फोटो
फुरसत के पल........
 
मेरा फोटो
My Photo
आज की होलीमय चर्चा में बस इतना ही 
धन्यवाद

19 comments:

  1. बढ़िया लिनक्स लिए चर्चा ....

    ReplyDelete
  2. पानी बचने को लेकर आपकी बात समझ में नहीं आई जबकि अन्य धर्माव लंबी गो हत्या करते हैं उसमे बहुत पानी खर्च करते कोई आवाज़ नहीं उठता लेकिन हिन्दू अब अपने त्योहारों को भी न मनाये ये अवाक्स आ रही है.कितना उचित है सोचो,समझो और जागरूक बनो.

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    बढ़िया लिंक मिले हैं आज पढ़ने के लिए..!
    आभार दिलबाग विर्क जी!
    --
    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर लिंक्स! दिलबाग भाई आपकी प्रस्तुति और लिंक चयन अनोखा है। बधाई!
    इस अंक में मुझे स्थान देने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete

  5. आज के लिंक पढ़ने में काफी आसानी हुई.

    आभार विर्क जी.

    ReplyDelete
  6. चुनिंदा लिंक्स, आभार...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर लिंक्स! आज की छुट्टी का उपयोग करने का बेहतर साधन उपलब्ध कराया आपने!
    होली की हार्दिक शुभकामनायें!
    http://sankalp-art.blogspot.com

    ReplyDelete
  8. Thanks Dilbag ,for the Mohabbat nama post in the links.

    ReplyDelete
  9. होली की रंगारंग प्रस्तुति...हिन्दी हाइगा शामिल करने के लिए आभार|

    ReplyDelete
  10. होली पर रंगारंग प्रस्तुति,,,,सुंदर लिक्स,

    आपको होली की हार्दिक शुभकामनाए,,,

    Recent post: होली की हुडदंग काव्यान्जलि के संग,

    ReplyDelete
  11. होली की रंगारंग प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  12. शानदार चर्चा बेह्तरीन सूत्र, बधाई एवं शुभ कामनाये दिलबाग जी

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर रंगीन links लिए हुए सामाजिक आइना दिखाती हुई चर्चा
    दिलबाग जी बहुत बधाई

    ReplyDelete
  14. होली की हार्दिक शुभकामनाएँ। मेरी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए धन्यवाद !

    ReplyDelete
  15. उल्लूक के आईडिया को शामिल करने के लिए आभार | तबियत से सजायी गयी चर्चा लाजवाब है !

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर रंगारंग चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार
    होली की शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  17. डारि डारि संग राखे अंग, रंग फूल मनाए होरी रे ।
    दैइ फुहारीन पाखे रंग संग झूल मनाए होरी रे ॥

    ReplyDelete
  18. होली में रंगा चर्चा मंच |होली की हार्दिक शुभकामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर सूत्र सजे हैं चर्चा में।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...