साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, July 17, 2014

बिन बरसे जा रहा है सावन { चर्चा - 1677 }

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 

जुलाई का आधा महीना बीत गया है, धरती बारिश को तरस गई है । आँखें बादलों को देखते-देखते तक गई हैं लेकिन अभी तक कोई संभावना नहीं दिख रही, हाँ इधर-उधर से बारिश के समाचार आ रहे हैं लेकिन लगता नहीं कि  सावन आ चुका है , बिन बरसे जा रहा है सावन । 


13 comments:

  1. दिलबाग द्वारा सुंदर सूत्रों के साथ पेश आज की गुरुवारीय चर्चा । 'उलूक' आभारी है सूत्र 'ध्यान हटाना भी कभी जरूरी होता है' को स्थान देने पर ।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    पर्याप्त लिंक्स पढ़ने के लिए |मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत इसमें चर्चाओं का है अम्बार।
    आपने शामिल किया मुझको अतः आभार।

    ReplyDelete
  4. आज दिलबाग विर्क जी का संकलन बहुत सामयिक लगा. “बिन बरसे जा रहा है सावन....” शीर्षक बहुत पसंद आया. साधुवाद.

    ReplyDelete
  5. आभार आदरणीय दिलबाग सर।
    आपकी नियमितता कभी भंग नहीं होती है।
    कम से कम बुध और बृहस्तपतिवार का दिन तो ऐसा है कि मैं आराम से बाहर भी जा सकता हूँ और रात को वापिस आकर चैन की नींद सो सकता हूँ।
    --

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय गुरु जी-
      छोटी बेटी स्वस्ति-मेधा का एडमिशन (M Tech IIT Gandhinagar ) हुआ है-
      १९ को गांधीनगर जा रहा हूँ-
      २८ तक की छुट्टी ली है ब्लॉग से भी -
      सादर

      Delete
  6. सुन्दर चर्चा-
    आभार भाई दिलबाग जी -

    ReplyDelete
  7. बढ़िया प्रस्तुति व सूत्र , आ. विर्क साहब , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति .... आभार !

    ReplyDelete
  9. सर्वर्स संपन्न इस चर्चा के लिए साधुवाद ! मेरी रचना इस मँच पर प्रकाशनार्थ धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  10. दिलबाग विर्क जी,बहुत बढ़िया चर्चा,मेरी रचना इस मँच पर आपने शामिल किया आभार, धन्यवाद

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"साँसों पर विश्वास न करना" (चर्चा अंक-2855)

मित्रों! मेरा स्वास्थ्य आजकल खराब है इसलिए अपनी सुविधानुसार ही  यदा कदा लिंक लगाऊँगा। रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  द...