Followers

Wednesday, March 20, 2019

"बरसे रंग-गुलाल" (चर्चा अंक-3280)

मित्रों!
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--

चिड़िया:  

होली 

होली के अवसर पर सारे,  
रंगों को मैं ले आऊँ,  
और तुम्हारे जीवन में मैं,  
उन रंगों को बिखराऊँ...  
Meena sharma  
--
--

छेवला उर्फ टेसू 

फागुन कीसमेटकर बैचेनियां 
दहक रहा टेसू महुये कीदो घूंट पीकर 
बहक रहा टेसू--- 
Jyoti Khare   
--

प्रियंका जी 

मोदी सरकार 55 वर्ष तक चिल्लाती रही बेटी बचाओ पढ़ाओ| राहुल जी को बहुत देर से समझ में आया वो भी इतना कि बेटी पढ़ाओ बेटी बढ़ाओ| अब राहुल जी तो ठहरे कुंवारे सो बेटी तो थी नहीं| हाँ बहन थी सो ऐन इलेक्शन के वक्त प्रियंका जी को बढ़ा दिया आगे| बोल जय गंगा मइया की विशेषकर इलाहाबाद से बनारस वाली की.... 
मेरी दुनिया पर Vimal Shukla 
--
--
--
--
--

शीर्षकहीन 

गालियों की हो रही है आजकल खूब बौछार,  
देश में आ गया है चुनाव फिर इक बार... 
आपका ब्लॉग पर i b arora 

5 comments:

  1. सुंदर चर्चा। सभी को होली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  2. होली की शुभकामनाएं। सुन्दर होली अंक।

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा.... होली पर ढेरों शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  5. बहुत खूबसूरत चर्चा, होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।