Followers


Search This Blog

Saturday, July 27, 2019

"कॉन्वेंट का सच" (चर्चा अंक- 3409)

शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--
--
--
--
--

पुलक 

noopuram 
--

आखिर प्रेम का गान जीत ही गया 

एक फालतू पोस्टके बाद इसे भी पढ़ ही लें। लोहे के पेड़ हरे होंगे तू गान प्रेम का गाता चल यह कविता दिनकर जी की है, मैंने जब पहली बार पढ़ी थी तब मन को छू गयी थी, मैं अक्सर इन दो लाइनों को गुनगुना लेती थी। लेकिन धीरे-धीरे सबकुछ बदलने लगा और लगा कि नहीं लोहे के पेड़ कभी हरे नहीं होंगे, यह बस कवि की कल्पना ही है... 
--
--
--
--
--

5 comments:

  1. सुन्दर शनिवारीय अंक।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात सर
    बहुत ही सुन्दर चर्चा प्रस्तुति, उम्दा रचनाएँ, मुझे स्थान देने के लिए तहे दिल से आभार सर
    प्रणाम
    सादर

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।