Followers

Sunday, July 05, 2020

शब्द-सृजन-28 'सरहद /सीमा' (चर्चा अंक-3753)

स्नेहिल अभिवादन।
रविवासरीय प्रस्तुति में आपका हार्दिक स्वागत है। 
--
शब्द-सृजन-28 के लिए विषय  दिया गया था -
सरहद /सीमा 
सरहद, सीमा, बाउंड्री, दो देशों के बीच अधिकार क्षेत्र तय करती रेखा आदि को समझने के लिए हम राजनीतिक नक़्शों का इस्तेमाल करते हैं।भारत और चीन के बीच सीमा निर्धारण का नक़्शा तय नहीं है। अपने-अपने दावों और सहमति के आधार पर वास्तविक नियंत्रण रेखा (एल ए सी ) को आपसी सहमति से दोनों देश मानते आ रहे हैं। विवादित क्षेत्र वे हैं जहाँ दोनों देशों का दावा है। इन्हीं क्षेत्रों में करोना महामारी के बीच धोखेबाज़ चीन ने अपनी सेना तैनात कर दी है और अपना एकमात्र हक़ जता रहा है जिस पर भारत को सख़्त एतराज़ है।  
भारत अपने स्तर पर बिना उकसावे से प्रभावित हुए अनेक विकल्पों के माध्यम से जवाबी कार्रवाई कर रहा है। 
सरहद हरेक नागरिक के लिए भावनात्मक पक्ष है जो हमें राष्ट्रीयता की भावना से जोड़ती है। जाँबाज़ बहादुर सैनिकों के नायाब जज़्बे और क़ुर्बानियों का इतिहास हमें सरहद के प्रति संवेदनशील और भावुक बनाता है। जिसकी रखवाली करते करते सैनिक अपना जीवन अर्पण कर देते हैं।सरहद और सैनिक का रिश्ता बहुत ही गहरा होता है जो मेरे लिए शब्दों में उकेरना बहुत ही मुश्किल है।  
आइए सुनते हैं एक देश भक्ति गीत सरहद पर शहीद हुए उन वीर योद्धाओं को समर्पित-

अब पढ़ते हैं सरहद पर सृजित शब्द-सृजन में सृजित कुछ आप ही की रचनाएँ-
-अनीता सैनी 
--
दोहे  
"सरहद पर मुस्तैद" 
 (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 
 
उच्चारण 
--
चींटियाँ  

किसी सियासी सरहद से 
बेख़बर रहतीं हैं चींटियाँ 
बड़े लक्ष्य 
हौसले से हासिल करने   
हाथ डालतीं हैं चींटियाँ।
 --
सरहदें 
 
 विश्व पूरा बटा है अनगिनत देशों में 
सरहदों ने अलग किया है एक दूसरे से सब को|
अधिकाँश देशों में है तनातनी कहीं नहीं है शान्ति
 बैठे है सब दहकते अंगारों पर |  
---
सरहद पर जाते सैनिकों के मनोभाव 

कंधों पर दायित्व बड़े, राह में पर्वत खड़े ।
देश की रक्षा हित हो प्राण भी देना पड़े।।
मां-बाबा,भगिनी-भ्राता, प्रिया को याद कर लें।
आंगन बिलखते छोड़े,नन्हो को दिल में धर लें।।
--
वीर रस की रचना...  
छेड़ो मत शेरों को ....... 

छेड़ो मत शेरो को दहाड़ सुन कर मर जाओगे ,
यहां शौर्य से अग्नि बरसती है भष्मीभूत हो जाओगे।
मित्र बन कर भारत आये कुदृष्टि डालते पावन धरती पर,
धोखेबाजी नस नस में तेरे पैरों से कुचले जाओगे।।
-- 
सरहद...….

देश की .सरहद...पावन धाम है
उसके कण कण में 
भासितशहीदों की सांस है।।
 देश प्रेम के अमृत का 
 जब योद्धाओं ने पान किया
  सारे रिश्ते बौने होगये
 बन्दे मातरम बस याद रहा।।
--
सैनिक मेरे देश के 

शहादत की चाह से सैनिक
कब सरहद पर जाता है ?.......
हर इक पिता कब पुत्र-मरण में,
सीना यहाँ फुलाता है ?.......
--
सरहद के इस पार  

सरहद के इस पार।
भूले-से भी कदम बढ़ाये
खाओगे बड़ी मार।
सरहद के.......
हम सरहद के रखवाले हैं, 
हम से पंगा मत लेना।
मुफ्त में जान गवाओगे तुम,
हम से दंगा मत लेना।
--
सरहद 

सोचती हूँ अक्सर 
सरहदों की
बंजर,बर्फीली,रेतीली,
उबड़-खाबड़,
निर्जन ज़मीनों पर
जहाँ साँसें कठिनाई से
ली जाती हैं वहाँ कैसे
रोपी जा सकती हैं नफ़रत? 
--- 
सरहद 
 
मंशा मानव की झलकी होगी आँखों में जब
आँचल में लिपटी अपने बहुत रोई होगी।
आँसू पोंछें होंगे जब सैनिक ने उसके 
प्रीत में बावरी दिन-रैन न सोई होगी।
क़िस्से कहे होंगे सैनिक ने घर के अपने 

सीने से लगकर अश्रु दोनों ने बहाए होंगे ।

कंकड़-पत्थर संग आघात सीसे-सा पाया 

मटमैले स्वप्न दोनों ने नैनों में धोए होंगे। 

--

आज का सफ़र यहीं तक 

फिर मिलेंगे 

आगामी अंक में🙏

--

14 comments:

  1. Great Thanks for sharing this valuable information.I have a blog about Love Shayari and Hindi Shayari

    ReplyDelete
  2. बेजोड़ प्रस्तुति।बहुत ही सुंदर और सराहनीय रचनाएँ प्रस्तुत की गई है।सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आतिउत्तम प्रस्तुति, देशभक्ति की भावनाओं से ओत प्रोत सभी रचना के रचनाकारों को नमन।
    हमारी रचना को शामिल करने के लिए अनिता जी हार्दिक धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद अनीता जी |

    ReplyDelete
  6. सरहद पर आधारित रचनाओं का सुन्दर संगम।
    अनीता जी आपके श्रम को नमन।

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन भूमिका और सरहद विषय पर विविधापूर्ण सारगर्भित सूत्रों से सजी बहुत सुंदर प्रस्तुति अनु।
    मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत आभार।
    सस्नेह शुक्रिया।

    ReplyDelete
  8. सरहद के महत्व को इंगित करती प्रभावी भूमिका के साथ अत्यन्त सुन्दर चर्चा प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  10. सरहद पर सभी उत्कृष्ट रचनाओं से सजी शानदार प्रस्तुति.... मेरी रचना को स्थान देने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद।
    सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  11. सुंदर सार्थक और सराहनीय प्रस्तुति।
    सभी रचनाएं बेजोड़
    सरहद पर मनकों छूती भावभीनी ओज रचनाओं में मेरी रचना को शामिल करने केलिए हृदय तल से आभार।
    सभी रचनाकारों को बधाई।
    शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  12. शब्द सृजन का सबसे सुंदर और महत्वपूर्ण अंक ,सरहद और सैनिक के सबंधों को बाखूबी दर्शाता प्रभावपूर्ण भूमिका अनीता जी,सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं। सीमा पर डटे एक एक सैनिक और उनके परिवारजनों को सत सत नमन। देर से आने की माफी चाहती हूँ।

    ReplyDelete
  13. very very heart touching lines keep it up.
    shayari
    life shayari

    ReplyDelete
  14. Thanks Sir You are share this great information that's really helful and Good work Keep It Up. I have A Blog About Dosti Shayari and
    Love Shayari ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।