Followers


Search This Blog

Tuesday, July 28, 2020

"माटी के लाल" (चर्चा अंक 3776)

स्नेहिल अभिवादन। 

आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक  स्वागत है।

बिना किसी भूमिका के
 "माटी के लाल" 
जो देश के लिए हँसते-हँसते अपना सर्वस्व न्योछावर कर देते है, 
उन्हें शत-शत नमन करते हुए चलते हैं...
 आज की रचनाओं की ओर...
******

दोहे

 "कौन सुखी परिवार" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 
रिश्तों-नातों से भरा, सारा ही संसार।
प्यार परस्पर हो जहाँ, वो होता परिवार।।
--
सम्बन्धों में हों जहाँ, छोटी-बड़ी दरार।
धरती पर कैसे कहें, कौन सुखी परिवार।।
******

सैनिकों की प्रीत को परिमाण में न तोलना 
वे प्राणरुपी पुष्प देश को हैं सौंपतें।
स्वप्न नहीं देखतीं उनकी कोमल आँखें 
नींद की आहूति जीवन अग्नि में हैं झोंकते।
******

डिमेंशिया

फिर!
तिनके-तिनके बटोरकर
मेरी भूली-बिसरी यादों को,
और बांधे अपने नयनों के कोर में,
निहारती रही थी तुम,
अग्नि-स्नान मेरा, अपलक।
*******

उसी पथ पर

सर्वदा, तय पथ पर, तन्हा वो सूरज चला!
बिखेर कर, दिन के उजाले,
अंततः, छोड़ कर,
तम के हवाले!
बे-वश, वो सूरज ढ़ला!
******
'चांद आज साठ बरस का हो गया' इतना कहकर पापा ने ईंट
 की दीवार पर पीठ टिकाते हुए मेरी आंखों 
में कुछ पढ़ने की कोशिश की.
******

जो बर्फ की चोटियों पर चढ़ गए,
जो अस्त्र शस्त्र लेकर भिड़ गए।
अरि जो बैठा था टाइगर हिल ऊपर
शस्त्र मशीन गन, छुपा बनाये बंकर।
******
My photo
ए सभी देश के धीश सुनो,
नापाक पाक और चीन सुनो,
हम माटी के रखवाले हैं,
कारगिल के वही मतवाले हैं,
जिसने फ़तह की तारीख़ों को 
लहू से लिखना जाना है,
*******

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में कारावास यात्रा करने वाली 

कवयित्री विद्यावती ‘कोकिल’ की कव‍िताऐं

प्रसिद्ध कवयित्रियों में स्थान रखने वाली विद्यावती ‘कोकिल’ का आज जन्‍मदिन है।
 विद्यावती का जन्‍म 26 जुलाई 1914 के दिन मुरादाबाद के हसनपुर (उत्तर प्रदेश) में हुआ था।
******
जिस दिन एक बेटी अपने घर से, अपने परिवार से, अपने भाई,मां तथा पिता से 
जुदा होकर अपनी ससुराल को जाने के लिए अपने घर से विदाई लेती है, 
उस समय उस किशोरमन की त्रासदी, वर्णन करने के लिए कवि को भी शब्द नही मिलते !
*******
Kavita%2BRawat
कलाल की दुकान पर पानी पीओ तो शराब का गुमान होता है 
फूलों के कारण माला का धागा भी पावन हो जाता है 
अच्छा पड़ोसी मूल्यवान वस्तु से कम नहीं होता है 
देने वाले का हाथ सदा लेने वाले से ऊँचा रहता है 
******

वक़्त की साँकल में अटका इक दुपट्टा रह गया

आँसुओं से तर-ब-तर मासूम कन्धा रह गया
वक़्त की साँकल में अटका इक दुपट्टा रह गया
मिल गया जो उसकी मायाजो हुआ उसका करम
पा लिया तुझको तो सब अपना पराया रह गया
******
आज का सफर यही तक 
आप सभी स्वस्थ रहें ,सुरक्षित रहें।
--

14 comments:

  1. बहुत ही शानदार आज की चर्चा मंच की पोस्ट

    ReplyDelete
  2. देश के बलिदानी वीरों को समर्पित यह अंक बिना भूमिका के भी श्रेष्ठ है।

    किन्तु यह कैसी विडंबना है कि कोई राष्ट्र प्रेम के लिए मृत्यु को छाती से लगा अपने पवित्र रक्त से माँ भारती के पादपद्य पखार रहा है, तो कोई उसकी इसी उदारता का लाभ उठा सांसारिक धनदौलतों से अपनी तिजोरी भर रहा है।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुंदर सराहनीय प्रस्तुति आदरणीय कामिनी दीदी।मेरे सृजन को स्थान देने हेतु सादर आभार।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चित्रमया चर्चा।
    आज की चर्चा में अच्छे पठनीय लिंकों का समागम है।
    आदरणीया कामिनी सिन्हा जी आपका आभार।

    ReplyDelete
  5. देश के अमर शहीदों का बलिदान और शोर्य सर्वोपरि है
    बहुत बढ़िया लिंक्स
    आभार

    ReplyDelete
  6. उम्दा व सराहनीय प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. सुन्दर संकलन रचनाओं का ...
    आभार मेरी गज़ल को यहाँ जगह देने के लिए ...

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन और लाजवाब संकलन ..सभी रचनाएँ अत्यन्त सुन्दर ।

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा कलेक्शन काम‍िनी जी , और हां मेरी ब्लॉग पोस्ट को इसमें शाम‍िल करने के ल‍िए आपका बहुत बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. चर्चा मंच की आज की बेहतरीन प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई और बहुत -बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  11. सुंदर अंक। सभी रचनाएँ श्रेष्ठ हैं। विशेषकर आदरणीय दिगंबर नासवा जी की गजल के हर एक शेर पर दिल से "वाह!" निकलती रही। बेहतरीन प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  13. आभार आपका जो इस रचना को सम्मान दिया ...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।