Followers

Search This Blog

Thursday, October 08, 2020

चर्चा - 3848

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है

--

केबिन में क्रांति

--

--
--

जी चाहता है...

अपनी तूलिका में

लेकर सातों रंग 

रंग दूं कोरे कैनवास

भर दूं..

शब्दों की गागर से

भावशून्य सागर

खोज लूं..

--
--
--
--

जिंदगी के वस्ल वादों में 

मेरे इतराते इरादों में

कुछ ऐसी ठनी

कि हर बिगड़ी हुई बात 

नाज़ुक सी नाज़ की 

बदसूरत बर्बादी बनी

भागते गुबारों ने 

--
धन्यवाद 

दिलबागसिंह विर्क 

--

14 comments:

  1. धन्यवाद दिल बाग़ जी विर्क मेरी रचना शामिल कैअने के लिए |

    ReplyDelete
  2. सुन्दर सराहनीय चर्चा प्रस्तुति । मेरे सृजन को चर्चा में सम्मिलित करने के लिए आपका हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  3. 'केबिन में क्रांति' को शामिल करने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  4. बिना किसी भूमिका के सुंदर चित्रों से सजी सार्थक चर्चा ! आभार !

    ReplyDelete
  5. सुन्दर और सार्थक चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग सिंह विर्क जी।

    ReplyDelete
  6. इस हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार मंच पर संकलित पठनीय सामग्री तृप्ति प्रदान करता है । सुंदर प्रस्तुति के लिए हार्दिक आभार ।

    ReplyDelete
  7. I am Grateful™ that you shared this informational post. learn English

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर चर्चा

    ReplyDelete
  9. मेरी रचनाओं का लिंक शेयर करने के लिए बहुत बहुत आभार महोदय।

    ReplyDelete
  10. प्रकृति की शुद्ध हवा पर समर्पित ४ लाइन्स पढ़े

    https://helphindime.in/hindi-kavita-ek-savera-aur-thandi-hawa/

    ReplyDelete
  11. Amazing Information i gathered, thanks for great sharing. Also check my blog: English to Hindi dictionary

    ReplyDelete
  12. Really Nice Information It's Very Helpful Thanks for sharing such an informative post.
    https://www.vyaparinfo.com/looking-for-bulk-buyers-in-india/
    https://www.vyaparinfo.com/looking-for-distributors/

    ReplyDelete
  13. Very nice article. I really like your blog it is very helpful for me And pls visit my blog too thx ben 10 ultimate alien in hindi episodes.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।