समर्थक

Tuesday, June 01, 2010

साप्ताहिक काव्य मंच –२ ( संगीता स्वरुप ) चर्चा मंच - 170

लीजिए  हाज़िर हूँ एक बार फिर चर्चा मंच पर साप्ताहिक काव्य मंच ले कर….आज इस काव्य मंजूषा में चर्चित और कम  चर्चित ब्लोगर्स को एक साथ लायी हूँ….साप्ताहिक चर्चा होने के कारण थोड़ी लंबी  होती है चर्चा…लिंक्स भी ज्यादा होते हैं…बस एक गुज़ारिश है कि जो आपने न  पढ़ीं हों वहाँ आप जाइयेगा ज़रूर…..आशा है मेरी पसंद आपको भी पसंद आएगी ….संगीता

नीरज......

इस पर आज नीरजजी अपने गुरुदेव प्राण शर्मा जी की एक बेहतरीन कविता लाये हैं.... मैंने तेरा नाम लिखा है...


जीवन में एक बार कभी जो
वक्त मिले तो देखने जाना
ताजमहल के एक पत्थर पर
मैंने तेरा नाम लिखा है

मौन के खाली घर में... ओम आर्य »
clip_image002

स्पर्श लौट आते हैं हथेली में

जहाँ प्रेम नहीं है वहाँ से स्पर्श लौट आते हैं....पढ़िए ओम जी के जज़्बात इस कविता के माध्यम से
एक नीड़ ख्वाबों,ख्यालों और ख्वाहिशों का … पर पढ़िए  प्रिया    की रचना ..विरोधाभास में कैसे दिल की बात लिखी है..

याद बिल्कुल नहीं आते मुझे तुम




सोचते होगे के
याद आते हो मुझे तुम
गलत हो तुम
हमेशा की तरह
My Photo

शलभ जी बता रहे हैं कि जीवन को विस्तार देने के लिए क्या करना चाहिए ….पढ़िए उनकी यह रचना

"खुले मन से सबसे मिलना चाहिये...




RAJ RANJAN

एक नए ब्लोगर हैं...इनकी ये रचना कहीं ना कहीं दिल को छूती है...

PAPA……इस रचना में ये अपने पिता का तर्पण नहीं करना चाहते…पर क्यों? ये जानने के लिए ज़रूर पढियेगा ..हांलांकि थोड़ी अनगढ़ रचना है …फिर भी ..

YOGESH KUMAR KAPIL

मौत ,तू नयी ज़िन्दगी है

योगेश जी मौत में नयी जिंदगी की बात कर रहे हैं…कैसे रख रहे हैं अपनी बात ये तो आप पढ़ कर ही जान पायेंगे….

 My Photo

फ़लसफा : ज़िंदगी   पर धर्मेन्द्र जी लाये हैं पांच कविताएँ .यह बताने के लिए कि आखिर कविता होती क्या है…आप भी जानिए …….
पाँच कविताएँ  ..एक यहाँ पढ़ा रही हूँ..बाकी इनके ब्लॉग पर पढ़िए …
१:
कविताएँ हैं विस्मयकारी दवाएं ,
जो हमें जिंदा रखती हैं
जब हम जीने के ख्वाहिशमंद हैं ;
और जब हम मरना चाहते हैं
तब भी जिंदा रखेगी ,
सुनाकर मृत्यु के कुतूहलपूर्ण विवरण |

My Photo

गीत कलश   में राकेश खंडेलवाल जी

देखिये कि कल्पना में क्या क्या बुन रहे हैं..
कल्पनातीते

वह अधर के कोर पर अटकी हुई सी मुस्कुराहट
वह नयन में एक चंचल भाव पलकें खोलता सा
भाल का वह बिन्दु जिसमे सैकड़ों तारे समाहित
कंठ का स्वर शब्द में ला राग मधुरिम घोलता सा
My Photo

कुछ मेरी कलम से   रंजू भाटिया जी  याद कर रही हैं कुछ ..यादों के पल

जीवन की रेल पेल में
हर संघर्ष को झेलते
हर सुख दुःख को सहते
कभी मैंने चाही नही इनसे मुक्ति
पर कभी बैठे बैठे यूं ही अचानक
जब भी याद आई तुम्हारी
तब यह मन आज भी
भीगने सा लगता है  ……
मेरा फोटो

निर्झर'नीर!

ये ना जाने खेल खेल में क्या  ढूँढ रहे हैं??? आप भी जानिये…

खोयी थी खेल-खेल में.......

ख़ुद को ढूँढ़ता हूँ या खुदी को ढूँढ़ता हूँ
कैसी ये बेखुदी है मै किस को ढूँढ़ता हूँ !
कस्तूरी हिरन जैसे मैं भी दौड़ रहा हूँ
खुद से बाहर जाके ख़ुदा को ढूँढ़ता हूँ !
मेरा फोटो

अनुभूतियाँ  

पर प्रताप नारायण सिंह लाये हैं..

जंगल की हवा अब तो ….


पुर-दर्द निदा और बू-ए-ग़ोश्त उभरती है
जंगल की हवा अब तो शहरों में भी चलती है
आतिश से मुफ़लिसी की, जल जाए लकीरे-बख़्त
भूनी हुई मछली भी, हाथों से फिसलती है
 
My Photo

नीरव »   पर डा० राजेश नीरव लाये हैं 

बरखा गीत

गर्मी में बरखा की बात हो तो कितनी सुखद अनुभूति देती है…..ये कविता भी ठंडी फुहार जैसी ही है..
दूत बनाकर बादलों को
मैं लिखूँ पाती कोई
मेघमय आकाश सारा
आच्छन्न है हरीतिमा पर
हौले से आकर गालों पर
टकराती है बूँद कोई
My Photo

भीगी ग़ज़लपर श्रद्धा जी परेशान हैं कि उनके चाहने  वाले नहीं मिल रहे…

अरे …अरे कुछ और मत सोचिये ..शायद इनका इशारा पाठकों से है….एक खूबसूरत ग़ज़ल आप तक लायी हूँ……
आखिर हमारे चाहने वाले कहाँ गए
रोशन थे आँखों में, वो उजाले कहाँ गए
आखिर, हमारे चाहने वाले कहाँ गए


रिश्तों पे देख, पड़ गया अफवाहों का असर
वाबस्तगी के सारे हवाले कहाँ गए


शरद कोकास …बात कर रहे हैं पसीने की…जी ये गर्मी से निकला पसीना नहीं है…..खुद ही स्पष्ट कर दिया है कि  यह कविता उस पसीने के बारे में नहीं है

उन्माद के दौरान
हथेलियों से उपजा पसीना यह नहीं
उन बादलों का पसीना है
जो भरसक कोशिश करते हैं
हमारे खेतों में बरसने की
श्याम सखा श्याम जी अपने -

कथा-कविता-

                           पर कुछ इस ढंग से आपबीती कह रहे हैं…
औरत अबला रही होगी कभी

अपने अपने हस्तिनापुर
बंधे थे
राजा दशरथ
अपने वचन से
इसलिए दु:ख पाए
या फिर शापगzस्त थे
श्रवण के
अंधे माता-पिता के श्राप से
 

गीत मेरे .....
 
पर वाणी जी अपने दोस्त की बेफाई से थोडा क्षुब्ध हैं…अपने जज्बातों को कैसे बयां कर रही हैं…आप खुद पढ़िए…

दोस्त बनकर गले लगाता है वही…..

दोस्त बनकर गले लगाता है वही
पीठ पर खंजर भी लगाता है वही....

मनोज………पर

मनोज जी की चिन्ता बहुत जायज़ है….पर्यावरण का हाल यह है कि पर्वतों से निकलने वाली नदियाँ भी सूख रही हैं….इसी का सजीव चित्रण किया है  इस रचना में…
ग्रीष्म और पर्वताँचल की नदियाँ

गर्मी की ऋतु आते ही
पर्वताँचल की
अधिकांश नदियाँ
छोड़ देती हैं,
कल-कल, छल-छल…….
My Photo

जज़्बात  पर
वर्माजी की क्षणिकाएं पढ़िए.. बहुत संवेदनशील रचनाएँ मिलीं पढने को ……

पत्नी रोज़ सामानों की लिस्ट पकड़ा देती है


image
My Photo

अंधड़

पर गोदियाल जी लोगों की फितरत को शब्द देते हुए कह रहे हैं …
यूं भी बावफा होते है लोग


निसार राहे वफ़ा करके जाना कि राहे जफा होते है लोग,
सच में, हमें मालूम न था कि यूं भी खफा होते है लोग !
My Photo

गिरीश पंकज  पर गिरीश जी बता रहे हैं कि…..कैसे..नून तेल याद रहा..इस कविता के माध्यम से
यही कहने का प्रयास है कि आज इंसान केवल अपने  स्वार्थ के बारे में ही सोचता है…बहुत खूबसूरत शब्दों में इस व्यथा को उकेरा है…

गीत./नून, तेल, लकड़ी के पीछे...

नून, तेल, लकड़ी के पीछे
एक उम्र बेकार हो गयी.
कैसे करता पार इसे मैं,
स्वारथ की दीवार हो गयी.   ……..
My Photo
धर्मेन्द्र केशरी का ब्लॉग है

धर्मछाया….आज हर इंसान डरा हुआ है….आइये देखें कि इनको क्यों डर लग रहा है…

डर लगता है.

कभी तुम्हें खोने से डरता था
आज पाने से डर लगता है..
तन्हा होने से डरता था
अब महफिल से डर लगता है..
कभी सब कुछ कह जाता था तुम्हें
pragyan-vigyan

यह ब्लॉग डा०  जे० पी० तिवारी जी का है….इनका वहाँ कोई प्रोफाइल नहीं है…लेकिन यदि हिंदी भाषा का आप सौंदर्य पढ़ना चाहते हैं तो एक बार ज़रूर जाइयेगा .

समय क्या है?

वर्तमान , भूत और भविष्य काल के सन्दर्भ में ये रचना विचारणीय है

समय क्या है?
काल का प्रवाह या
जिन्दगी का प्रश्नपत्र?
जिसमे करना पड़ता है
समाधान द्वंद्वों का.
मेरा फोटो
ज़िन्दगी »
 पर वंदनाजी एक बड़ी रूमानी सी नज़्म ले कर आई हैं….

यूँ आवाज़ ना दिया करो

सुनो
यूँ आवाज़ ना दिया करो 
दिल की बढती धड़कन 
आँखों की शोखियाँ 
कपोलों पर उभरती 
हया की लाली
कंपकंपाते अधर 
तेरे प्यार की 
चुगली कर जाते हैं
 और  अब लायी हूँ बच्चों का कोना ……आपको भी ज़रूर मनभावन लगेगा


मेरा फोटो

पाखी की दुनिया

पाखी के सपनों में परी आई है  उसने परी पर कविता बनायीं है
सपने में आई परी

पाखी ने सपने में देखा
इक प्यारी सी परी
आसमां से उतरी वो
हाथों में लिए छड़ी


सरस पायस  पर  डा० रूप

चन्द्र  शास्त्री जी की बालकविता का आनंद लीजिए
मन ख़ुशियों से फूला

उमस-भरा गरमी का मौसम,
तन से बहे पसीना!
कड़ी धूप में कैसे खेलूँ,
इसने सुख है छीना!!


नाइस » पर पढ़िए 

“सूरज-चन्दा:

सूरज चाचा , सूरज चाचा
जैसे  ही  तुम  आते  हो
नयी  सुबह की  नयी किरण को
अपने  संग  में लाते हो  |





मेरा फोटो

    और  चर्चा के अंत में     उच्चारण »  पर पढ़िए माँ  सरस्वती की स्तुति…जिनके आशीर्वाद से काव्य का सृजन होता है …. “रचनाएँ रचवाती हो!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”

                                                           10

रोज-रोज सपनों में आकर,
छवि अपनी दिखलाती हो!
शब्दों का भण्डार दिखाकर,
रचनाएँ रचवाती हो!!
अब लेती हूँ आप सबसे विदा …फिर हाज़िर होऊँगी अगले सप्ताह नए लिंक्स और नयी कविताओं के साथ……ये सफर कैसा रहा ? बताइयेगा ज़रूर..

31 comments:

  1. दोस्त, बहुत खूबसूरत रंगों से और विविध कविताओ से सजी आपकी ये चर्चा पाठक को खुद-ब-खुद ही पढने के लिए आकर्षित कर रही है. हर लिंक को पढने की उत्सुकता अपने आप ही जाग जाती है. लगता है बहुत मेहनत की है आपने. इतनी अच्छी चर्चा का रूप मैंने आज तक नहीं देखा.
    बधाई.

    ReplyDelete
  2. अच्छे लिंक और अच्छी वर्चा के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  3. वाह..संगीता जी!
    रंग-बिरंगी मनभावन और सुन्दर चर्चा के लिए
    आपको बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  4. Ish Behtareen kaavy charchaa ke liye sadhuwad, sangeetaa ji.

    ReplyDelete
  5. bahut hi ramneey charcha...
    sundar ati sundar...
    badhai..

    ReplyDelete
  6. मैं अपने कुछ रचनाकारों से क्षमा चाहूंगी ...जिनकी कविताएँ मैंने इस लिंक में ली थीं लेकिन कुछ तकनिकी खराबी के कारण या मेरे अज्ञानता के कारण यहाँ प्रदर्शित नहीं हो पाई हैं....

    मैं उन सभी से खम चाहती हूँ....

    राज्रंजन जी ,
    योगेश कुमार कपिल ,
    ओम आर्य जी ,
    प्रिया
    और रूप चन्द्र शास्री जी ,

    बहुत ढूँढ कर ये लिंक लायी थी पर .....

    आशा है आप सब क्षमा करेंगे

    ReplyDelete
  7. सुंदर साप्ताहिक चर्चा...बढ़िया चिट्ठा चर्चा के लिए हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  8. मैंने किसी तरह से उन लिंक्स को जोडने का प्रयास किया है...असुविधा के लिए माफ़ी चाहती हूँ

    ReplyDelete
  9. आईये, मन की शांति का उपाय धारण करें!
    आचार्य जी

    ReplyDelete
  10. अच्छा प्रयास

    ReplyDelete
  11. आदरनिये संगीता जी,
    आपका ह्रदय से आभार ..... आपने मेरी कविता को एक मंच प्रदान किया है....
    आपका ही,
    शलभ गुप्ता

    ReplyDelete
  12. vaah...? ek sath itani pyari-pyari kavitaon ke link...? aakhir charchakaar kaun hai, bahut-bahut badhai...aur aabhar bhi...

    ReplyDelete
  13. कित्ती प्यारी चर्चा. एक साथ ढेर सारे लिंक्स...वाह, बच्चों की भी बातें..और हाँ, पाखी की दुनिया भी..आभार !!

    _____________
    _________________
    'पाखी की दुनिया' में ' अंडमान में आया भूकंप'

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्दर चर्चा...

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  16. क्या बात है... सुन्दर सी रंग बिरंगी ,एकदम साफ़ सुधरी सी चर्चा है बेहतरीन लिंक्स के साथ

    ReplyDelete
  17. sangeeta ji
    bahut hi khoobsoorat harcha ki hai..........bahut mehnat ki hai...........har link padhne ko majboor karta hai.

    ReplyDelete
  18. अच्छे लिंक और अच्छी वर्चा के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  19. वाह संगीता जी ..... बहुत लाजवाब चर्चा की है ... अच्छे लिंक दिए हैं आपने ...

    ReplyDelete
  20. प्रशंसनीय अभियान ।

    ReplyDelete
  21. Sangeeta ji se pata chala ki hamari post charchamanch pe aayi h to charchamanch k bare m pata chala ......baut khoobsurat manch hai .
    sangeeta ji or charcha manch dono ko aabhar .

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर चर्चा किया है आपने! काफी सारे लिंक मिले और आपने बहुत मेहनत किए है इस चर्चा को शानदार रूप से प्रस्तुत करने के लिए!

    ReplyDelete
  23. हम भी चर्चा पर कभी कभी पहुँच जाते हैं, अच्छा चुनाव करके रखा है. इतनी अच्छी प्रस्तुति के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  24. achha prayas hai mere liye faaydemand, kyunki meri dilchaspi khas taur pe kavita men hai....

    aur shukriya mujhe bhi is list men shamil karne ke liye

    ReplyDelete
  25. waah, bahut saare badhiyaa links mile...bahut bahut shukriya :)

    ReplyDelete
  26. jaise tinka tinka jod kar ke ek ghosala banta hai waise hi apne in behtreen posts ko ikattha karke gagar me sagar bharne ka kam kiya hai......

    dhanywad

    ReplyDelete
  27. आपकी पैनी नज़रें ऐसे ऐसे अनमोल मोती ढूंढ़ कर लाती हैं की क्या कहें, अभी तक दो मोतियों की रचनाएँ ही पढ़ पाया हूँ धर्मेन्द्र और राज रंजन की, कमाल का चयन है!

    ReplyDelete
  28. आप इसी तरह नए लेखकों को प्रोत्साहन देती रहें, शुभकामना!

    ReplyDelete
  29. .बढ़िया चिट्ठा चर्चा के लिए .. बधाई

    ReplyDelete
  30. आभार अच्छी और चुनी हुई रचनाएँ पढ़वाने का।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin