चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Sunday, August 11, 2013

"ॐ नम: शिवाय" : चर्चामंच १३३४

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.


प्रस्तुतकर्ता : Manav Mehta



प्रस्तुतकर्ता : निवेदिता श्रीवास्तव

प्रस्तुतकर्ता : सु..मन
प्रस्तुतकर्ता : Priti Surana

प्रस्तुतकर्ता : प्रीति टेलर

प्रस्तुतकर्ता : निहार रंजन

प्रस्तुतकर्ता : Rinku Siwan

प्रस्तुतकर्ता : Virendra Kumar Sharma

प्रस्तुतकर्ता : Deepti Sharma

प्रस्तुतकर्ता : प्रवीण पाण्डेय

प्रस्तुतकर्ता : Ramaajay Sharma
प्रस्तुतकर्ता : Akshitaa Yadav



प्रस्तुतकर्ता : Albela Khtari



प्रस्तुतकर्ता : Asha Saxena



प्रस्तुतकर्ता : धीरेन्द्र सिंह भदौरिया



प्रस्तुतकर्ता : Anupama Tripathi



प्रस्तुतकर्ता : सरिता भाटिया

प्रस्तुतकर्ता : Amit Srivastava

प्रस्तुतकर्ता : Arvind Mishra

प्रस्तुतकर्ता : सुशील

प्रस्तुतकर्ता : रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

प्रस्तुतकर्ता : Anita


इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है 'मयंक का कोना'
उदास नुक्कड़, लाल चोंच वाली चिड़िया...

प्रतिभा की दुनिया ...

--
"उपवन लगे रिझाने" 
मेरे काव्य संग्रह 'धरा के रंग' से
एक गीत
"उपवन लगे रिझाने"
मौन निमन्त्रण देतीं कलियाँ, 
सुमन लगे मुस्काने।
वासन्ती परिधान पहन कर, 
उपवन लगे रिझाने।।
पाकर मादक गन्ध 
शहद लेने मधुमक्खी आई,
सुन्दर पंखोंवाली तितली
 को सुगन्ध है भाई,
चंचल-चंचल चंचरीक, 
आये गुंजार सुनाने।
वासन्ती परिधान पहन कर, 
उपवन लगे रिझाने।।
"धरा के रंग"
--
मायके से विदाई की बेला

मायके से विदाई की बेला मन और आँखों का एक साथ भरना , एक -एक करके बिखरा सामान सहेजना ... बिखरे सामान को सहेजते हुए हर जगह- हर एक कोने में अपना एक वजूद भी नज़र आया, जो बरसों उस घर में जिया था ...
नयी उड़ान +पर उपासना सियाग
--
"किंग सॉफ्ट ऑफिस" 
एंड्राइड मोबाइल के लिए फ्री में डाउनलोड करें !

Computer Tips & Tricks पर Rinku Siwan

--
शाहरुख़-सलमान के क़दमों के निशान मिटाके देख

! कौशल ! पर Shalini Kaushik 

--
छनकी पायल - हाइगा में

हिन्दी-हाइगा पर ऋता शेखर मधु

18 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा!
    अरुण जी आपका श्रम झलक रहा है आज की चर्चा में।
    --
    सभी पाठकों को नागपंचमी की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया अरुण भाई !बहुत सुन्दर सार्थक सेतु सजाये हैं। साज सज्जा भी अभिनव है। शुक्रिया हमारे सेतु को बिठाने के लिए।

    ReplyDelete
  3. शुभ प्रभात
    शुक्रिया अरुण भाई
    आपकी आज की मेहनत ने हमारा रविवार सार्थक बना दिया
    सादर

    ReplyDelete

  4. और फिर ये तो नाटक खेलते हैं हर फिल्म में नाटक खेलते हैं जिसकी कथा अलग होती है जैसे हमारे हर जन्म की कथा अलग होती है। बढ़िया प्रस्तुति। सटीक टिपण्णी की है।

    ! कौशल ! पर Shalini Kaushik

    ReplyDelete
  5. शुभप्रभात अरुण जी ,
    बहुत सुंदर चर्चा सजाई है ....!!बहुत आभार हमारे लेख को ,लक्ष्मण राव जी को यहाँ स्थान मिला ...!!

    ReplyDelete
  6. मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  7. रोज की तरह
    एक सुंदर चर्चा
    सामने आई है
    आभारी हूँ
    उल्लूक की पोस्ट
    भी आपने दिखाई है !

    ReplyDelete
  8. अरुन जी, विविध रंगों से सजी चर्चा , आभार !

    ReplyDelete
  9. सुंदर और विस्तृत चर्चा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर चर्चा सजाई है .... आभार आपका :)

    ReplyDelete
  11. बढ़िया चर्चा हैं आज |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  12. .सार्थक व् सराहनीय लिंक्स संयोजन .मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार शाहरुख़-सलमान के क़दमों के निशान मिटाके देख .

    ReplyDelete
  13. सुंदर और विस्तृत चर्चा.

    ReplyDelete
  14. बहुत उम्दा लिंक्स ,,,
    मेरी पोस्ट को मंच में स्थान देने के लिए ,,,आभार अरुन जी,,,

    ReplyDelete
  15. सुन्दर सूत्रों का संकलन, आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin