Followers

Thursday, August 08, 2013

प्रधानमन्त्री का रोल ( चर्चा - 1331 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
मैं कड़े शब्दों में पाकिस्तान के कृत्यों की निंदा करता हूँ । अब आगे से ऐसे हमले बर्दाश्त नहीं होंगे । --------- मैं जरा रिहर्सल कर रहा था , क्या भरोसा कभी प्रधानमन्त्री का रोल अदा करना पड़ जाए । वैसे आप भी रिहर्सल कर लीजिए बिलकुल आसान रोल है , बस चुप बैठे रहना होता है और कभी-कभार ये बोलना होता है । आप कर लेंगे यकीनन । 
चलते हैं चर्चा की ओर 
उच्चारण
सरिता भाटिया का प्रोफ़ाइल फ़ोटो
My Photo
My Photo
मेरा फोटो
[sperrow.jpg]
My Photo
My Photo
आज की चर्चा में बस इतना ही 
धन्यवाद 

21 comments:

  1. शुभ प्रभात
    बोले सो निहाल,,,,
    आदरणीय आभासी प्रधान मंत्री को नमन
    अच्छे लिंक्स दिये आपने

    सादर

    ReplyDelete
  2. आपकी महनत से हमें एक स्थान पर बहुत सी लिंक्स मिल जाती हैं |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर और व्यापक चर्चा!
    आभार भाई विर्क जी आपका।

    ReplyDelete
  4. चर्चा हमेशा ही होती है एक सुंदर चर्चा
    आज की चर्चा उसकी एक कडी़ है
    मयंक के कोने की खल रही कमी है
    आभार उल्लूक भी दिख रहा कहीं है !

    ReplyDelete
  5. बढ़िया लिंक्स
    सुंदर चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  6. बिलकुल सही कहा, वाकई आसान है। बहरहाल अच्छी चर्चा रही!!!

    ReplyDelete
  7. आदरणीय दिलबाग जी पठनीय सूत्रों से सजी चर्चा
    मेरी रचना को चर्चा मंच पर लगाने के लिए आभार
    गुरु जी को प्रणाम

    ReplyDelete
  8. "मैं जरा रिहर्सल कर रहा था , क्या भरोसा कभी प्रधानमन्त्री का रोल अदा करना पड़ जाए ।"

    अच्छा तभी तो कहूं कि आजकल विर्क जी हरवक्त जनपथ पे ही मंडराते क्यों नजर आते है :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही ---यहि आशा अटक्यो रहै, अलि गुलाब के मूल....

      Delete
  9. सुंदर चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  10. NICE LINKS .BEST WISHES FOR ''HAPPY EID ''

    ReplyDelete
  11. शु्क्रिया बच्चन से जुड़ी मेरी प्रविष्टि को यहाँ स्थान देने के लिए !

    ReplyDelete
  12. अच्छी चर्चा है...गोदियाल जी की इच्छा-आशा फलीभूत हो....

    ReplyDelete
  13. आज सवा दो मॉस के बाद अपने प्रिय चर्चा मंच पर आ कर कृतार्थ हो सका हूँ |थोड़ा बहुत उंगलियाँ चलने लगी हैं |
    अथ, आज के चर्चा मंच में लगभग सभी रचनाओं के शीर्षक ज्वलंत समस्याओं को ले कर हैं | वास्तव में लेखनी की क्रान्ति महत्वपूर्ण है |
    इस चर्चा मंच के सफल प्रस्तुतीकरण हेतु भाई दिलाबाग विर्क को कूटी कोटि वधाइयां-धन्यवाद मेरी रचना को स्थान देने हेतु !

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर चर्चा, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  15. सुंदर चर्चा,बेहतरीन उम्दा लिंक्स ,,,

    RECENT POST : तस्वीर नही बदली

    ReplyDelete
  16. सुंदर लिंक्स .. आभार.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।