Followers

Friday, August 02, 2013

सुना लतीफा पाक ने, कैप्टन सौरभ क़त्ल : चर्चा मंच 1325


'बेशर्म' पाकिस्तानः कैप्टन सौरभ कालिया की शहादत ...

पाकिस्तान का झूठ एक बार फिर दुनिया के सामने आ गया है. कारगिल जंग के दौरान शहीद हुए कैप्टन सौरभ कालिया के बारे में पाकिस्तान ये कहता रहा कि उनका शव गड्ढे में मिला था, लेकिन इंटरनेट पर तेजी से फैल रहे एक वीडियो से जाहिर हो ...






सुना लतीफा पाक ने, कैप्टन सौरभ क़त्ल 
बजा तालियाँ भूल मत, लगे ठिकाने अक्ल  

लगे ठिकाने अक्ल, माफ़ ना होगी हरकत  
रहा सदा तू भोग, कभी ना होय बरक्कत 

बहे पाक में खून, बददुवा दिया खलीफा
हर दिन मरता पाक, नहीं क्या सुना लतीफा 




जीवन भर का साथी ....मेरा जीवन साथी


Alokita 
घूमते शब्द कानन में उन्मुक्त से,
जान पाये नहीं आज तक व्याकरण।
बस दिशाहीन सी चल रही लेखिनी
कण्टकाकीर्ण पथ नापते हैं चरण।।

Kulwant Happy  




पारस मणि के कवर पेज पर

Chaitanyaa Sharma 




ana  




sushma 'आहुति' 




Vandana Singh 


कुर्सी की खातिर


shyama arora 



बहुत मुश्किल

मदन मोहन सक्सेना  


हरिगीतिका छंद ..... डा श्याम गुप्त .....

shyam Gupta  


 AAWAZ 


Virendra Kumar Sharma  

 अरुण जी निगम के साथ रविकर विमर्श-

  रविकर की कुण्डलियाँ 

छंद कुण्डलिया : मिलें गहरे में मोती

अरुण कुमार निगम
 सृजन मंच ऑनलाइन 


घर से बाहर एक घर

कविता रावत



अधूरी स्वीकृति


डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति 
 


 वो बूढ़ी दादी अमीना की हवेली,हामिद पोते नहीं मिलते।

पी.सी.गोदियाल "परचेत"  

 "मयंक का कोना" अद्यतन लिंक
(1)
"ब्लॉग - चिठ्ठा" का शुभारंभ

(2)
"एक संस्मरण"
रूप 'मयंक' एवं अमर भारती

चित्र में- (बालक) मेरा छोटा पुत्र विनीत, मेरे कन्धें पर हाथ रखे बाबा नागार्जुन और चाय वाले भट्ट जी, पीछे-तीस वर्ष पूर्व का खटीमा का बस स्टेशन।
    बाबा नागार्जुन की तो इतनी स्मृतियाँ मेरे मन व मस्तिष्क में भरी पड़ी हैं कि एक संस्मरण लिखता हूँ तो दूसरा याद आ जाता है....
(3)
मुक्तक
काश! उसको हमने यूँ गले से लगाया होता, 
अपने धड़कते दिल का हाल बताया होता! 
कह देती बस धड़कनें,जो ना कह पाए हम, 
समझ ही लेता वो बस फिर क्या था गम ...
गुज़ारिश पर सरिता भाटिया

(4)
हिन्दी फोंट्स का संग्रह आपके लिए

Hindi Tech - तकनीक हिंदी में

(5)
हार जीत
हारजीत पाने को आतुर रहतें हैं  खोने को तैयार नहीं है
जिम्मेदारी ने मुहँ मोड़ा ,सुविधाओं की जीत हो रही.
आपका ब्लॉग

21 comments:

  1. शुभ प्रभात रविकर भाई
    उत्कृष्ट चर्चा है आज की
    अच्छे लिंक्स दिये हैं आपने
    सादर

    ReplyDelete
  2. अद्यतन लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा।
    रविकर जी आपका आभार।

    ReplyDelete
  3. आदरणीय रविकर जी!
    अब आप बुधवार की चर्चा लगायेंगे।
    --
    शुक्रवार की चर्चा का काम बहन यशोदा दिग्वजय अग्रवाल देखेंगी।
    --
    यशोदा दिग्विजय़ अग्रवाल का चर्चाकार के रूप में चर्चा मंच में स्वागत है!
    --
    आभार सहित!

    ReplyDelete
  4. अच्छी चर्चा की गई है।
    अच्छे लिंक्स हैं यहां..

    ReplyDelete
  5. सभी लिंक एक से बढ़कर एक
    अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया लिनक्स मिले..... चैतन्य को शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन चर्चा, ढेर सारे लिंको के साथ, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. चर्चा में ढेरों सुन्दर लिंक, आभार रविकर जी !

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स एवं प्रस्‍तुति ... यशोदा जी का चर्चामंच पर अभिनन्‍दन है ...

    ReplyDelete
  10. सुन्दर लिंक, आभार

    ReplyDelete
  11. बढ़िया लिंक्स हैं |
    आशा

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया। धन्‍यवाद एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  13. आज मेरे ब्लॉग की चौथी वर्षगांठ के सुअवसर पर मेरी ब्लॉग पोस्ट चर्चा में लगाकर मेरी ख़ुशी में शामिल होने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ...आभार!

    ReplyDelete
  14. आज मेरे ब्लॉग की चौथी वर्षगांठ पर मेरी ब्लॉग पोस्ट चर्चा पर लगाकर मेरी ख़ुशी में शामिल होने हेतु बहुत आभार
    सादर!

    ReplyDelete
  15. रविकर जी... बहुत सुन्दर चर्चा, मन लगा कर बनायी गयी है... आपको बधाई... और धन्यवाद.. इस चर्चा में हमारी पोस्ट अधूरी स्वीकृति भी शामिल की गयी है ... सादर

    ReplyDelete
  16. ravi ji sundar links hai , priy yashoda aapka manch par swagat hai ,

    ReplyDelete
  17. सुंदर सुहानी चर्चा.....

    रविकर की बाँछें खिलीं,हिला समूचा तंत्र
    तुरत साधना-रत हुये,जब पाया गुरु-मंत्र
    जब पाया गुरु-मंत्र , ध्यान में डूबे ऐसे
    योगी हो तल्लीन , ध्यान में डूबे जैसे
    गई कुण्डली जाग, सजी कुण्डलिया सुंदर
    बादशाह बेताज , हमारे कविवर 'रविकर' ||

    सादर.....

    ReplyDelete
  18. वाह क्या बात है
    यशोधा जी charchamanch पर आपका स्वागत है
    गुरु जी प्रणाम हमें स्थान देने के लिए शुक्रिया
    रविकर sir बढ़िया लिंक्स के साथ बढ़िया प्रस्तुति

    ReplyDelete
  19. सुन्दर सूत्रों की चर्चा..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...