Followers

Sunday, August 04, 2013

दादू सब ही गुरु किए, पसु पंखी बनराइ : चर्चा मंच 1327

"जय माता दी" रु की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.

प्रस्तुतकर्ता : डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’


प्रस्तुतकर्ता : रचना त्यागी 'आभा'

प्रस्तुतकर्ता : Neeraj Kumar
प्रस्तुतकर्ता : Minakshi Pant

प्रस्तुतकर्ता : Praveen Malik
प्रस्तुतकर्ता : Amrita Tanmay
प्रस्तुतकर्ता : मदन मोहन बहेती
प्रस्तुतकर्ता : Virendra Kumar Sharma
प्रस्तुतकर्ता : प्रतिभा सक्सेना
प्रस्तुतकर्ता : प्रवीण पाण्डेय
प्रस्तुतकर्ता : रश्मि शर्मा
प्रस्तुतकर्ता : Mukesh Kumar Sinha


प्रस्तुतकर्ता : ताऊ रामपुरिया


प्रस्तुतकर्ता : Sangya Tandon


प्रस्तुतकर्ता : तुषार राज रस्तोगी


प्रस्तुतकर्ता : ऋता शेखर मधु


प्रस्तुतकर्ता : VenuS "ज़ोया"

प्रस्तुतकर्ता : कमला सिंह जीनत

प्रस्तुतकर्ता : रश्मि शर्मा

प्रस्तुतकर्ता : वसुंधरा पाण्डेय निशी

प्रस्तुतकर्ता : Vandana Gupta

प्रस्तुतकर्ता : सुशील


प्रीत के गलियारे  
प्रस्तुतकर्ता : कविता विकास 

इसी के साथ आप सबको शुभविदा मिलते हैं रविवार को. आप सब चर्चामंच पर गुरुजनों एवं मित्रों के साथ बने रहें. आपका दिन मंगलमय हो
जारी है... 'मयंक का कोना'  (अद्यतन लिंक)
मित्रों आज 3-4 दिन के लिए देहरादून जा रहा हूँ।
(1)
बड़ी बहस : क्रिकेट का काठमांडू सम्मान !

आधा सच...पर महेन्द्र श्रीवास्तव

(2)
"लिखना-पढ़ना सिखला दो"
भैया! मुझको भी,
लिखना-पढ़ना, सिखला दो।
क.ख.ग.घ, ए.बी.सी.डी,
गिनती भी बतला दो।।
पढ़ लिख कर मैं,
मम्मी-पापा जैसे काम करूँगी।
दुनिया भर में,
बापू जैसा अपना नाम करूँगी।।
नन्हे सुमन
(3)
(अ)
माँ शारदे वन्दना ....हरिगीतिका छंद 

सृजन मंच ऑनलाइन पर shyam Gupta

(4)
आज का आदमी
अपनी ही पूँछ को* 
*मुँह में भर लेने की* 
*पवित्र इच्छा लिए* 
*पागल कुत्ते की भांति* 
*दौड़ता रहता है * ....
आपका ब्लॉग पर Dr. Sarika Mukesh 

(आ)
श्याम स्मृति-१६ –परम्परा व साहित्य जगत..आपका ब्लॉग पर shyam gupta
(5)
न्यायालय सरकार को सबका मालिक बताई है !
आज उच्च न्यायालय ने समझाई है 
वो कभी भी मालिक और नौकर के बीच में नहीं आई है...
उल्लूक टाईम्स पर सुशील 

(6)
गोरख-धंधे रात-दिन, हुआ जिन्न आजाद

"लिंक-लिक्खाड़" पर रविकर 

(7)
कुण्डलिया [ तीज ]
खुशियाँ लाया तीज है , गाएं गीत मल्हार 
आंगन पींगों से सजे , झूलें कर श्रृंगार||
गुज़ारिशपरसरिता भाटिया
(8)
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

! कौशल ! पर Shalini Kaushik

32 comments:

  1. शुभ प्रभात....
    अरुण भैय्या
    पहला रविवार होगा जो नेट से चिपकी रहूँगी
    अच्छे लिंक्स दिये हैं आज आपने
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुआयामी लिंक्स बहुत अच्छा लगता है पढ़ना |
    आशा

    ReplyDelete
  3. मित्रों.!
    6 अगस्त तक देहरादून प्रवास पर रहूँ।
    शायद तब तक नेट की सुविधा मिले या न मिले।
    --
    अरुण शर्मा अनन्त जी ने बहुत श्रम और मनोयोग से रविवार का चर्चामंच सजाया है।
    उनका आभार व्यक्त करता हूँ।

    ReplyDelete
  4. भावानुवाद सुन्दर बन पड़ा है साथ में मूल रचना भी होती। ॐ शान्ति (नहीं )

    दादू सब ही गुरु किए, पसु पंखी बनराइ
    प्रस्तुतकर्ता : डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’

    ReplyDelete
  5. nt
    भावानुवाद सुन्दर बन पड़ा है साथ में मूल रचना भी होती। ॐ शान्ति (नहीं )

    सौदेश्य बाल कविता अर्थ पूर्ण भाव पूर्ण

    भैया! मुझको भी,
    लिखना-पढ़ना, सिखला दो।
    क.ख.ग.घ, ए.बी.सी.डी,
    गिनती भी बतला दो।।
    पढ़ लिख कर मैं,
    मम्मी-पापा जैसे काम करूँगी।
    दुनिया भर में,
    बापू जैसा अपना नाम करूँगी।।

    ReplyDelete
  6. सांप-चील का षड्यंत्र
    छुछुंदर-नेवला सा ये तंत्र...
    गिरगिटों का घुमड़ी परेड
    मकड़ियों पर पड़ता रेड...

    यही है परिदृश्य का राजनीतिक समारोह।

    हाय! हाय!
    प्रस्तुतकर्ता : Amrita Tanmay

    ReplyDelete
  7. हाय! हाय!
    प्रस्तुतकर्ता : Amrita Tanmay

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा संयोजन एवं चयन ,भीगे हमारे भी नयन ,हुआ अपना अभी चयन।

    ReplyDelete
  9. bahut hi sundar aur vavidhyapurn links ka sanyojan. Arun ji aapka parishram aur prem is shandar prastuti ke peechhe spashtata se drishtigochar ho raha hai.. mere post ko sthan dene ka anekanek shukriya..

    ReplyDelete
  10. बढ़िया लिनक्स मिले.... आभार

    ReplyDelete
  11. रविवार के लिये सुन्दर और पठनीय सूत्र..आभार..

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर लिंक्स, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. रोचक व सुन्दर सूत्रों से सजी प्रस्तुति..हार्दिक आभार..

    ReplyDelete
  14. अच्छी चर्चा,
    मुझे स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर लिंक्स, आभार.

    ReplyDelete
  16. रोचक व सुन्दर सूत्रों से सजी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  17. अरुन जी आपके द्वारा सजाये गये सभी लिंक्स बहुत खूब हैं मेरी रचना को चर्चा में शामिल करने के लिए आपका तहेदिल से आभार

    सभी मित्रों को मैत्री दिवस की हार्दिक शुभकामनायें .....

    ReplyDelete
  18. मित्रता दिवस की शुभकामनाएँ...
    सुंदर लिंक्स...व्यवस्थित चर्चा...आभार !!

    ReplyDelete
  19. मैत्री दिवस की हार्दिक शुभकामनाये सभी मित्रों को ..
    सभी अच्छे लिंक्स के साथ मुझे भी सामिल करने के लिए आभार अरुण जी..!!

    ReplyDelete
  20. nice presentation .thanks to give place my post mayank ji ,happy friendship day to all .

    ReplyDelete
  21. ‘दादू’ सब ही गुरु किये, पसु पंखी बनराइ।
    तीन लोक गुण पंच सूं, सब ही माहिं खुदाइ।।
    ..बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति ...
    मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ
    ,,.आभार !!

    ReplyDelete
  22. अच्छी चर्चा, बढिया लिंक्स

    ReplyDelete
  23. सुन्दर चर्चा -
    आभार भाई अरुण जी-

    ReplyDelete
  24. बेहद खूबसूरत चर्चा में
    सुंदर सूत्रों की भरमार
    उल्लूक के दो दो सूत्रों
    के लिये दिल से आभार !

    ReplyDelete
  25. Sundar charcha badhaai aapko priy arun missing you all friends on friends ship day,whish you all a very happy friendship day.

    ReplyDelete
  26. बहुत कुछ है पठन योग्य ...

    ReplyDelete
  27. बहुत सुंदर चर्चा....मेरी रचना को शामि‍ल करने के लि‍ए धन्‍यवाद..

    ReplyDelete
  28. वाह बहुत खुबसूरत चर्चा मंच आपकी म्हणत ने इसे बहुत खूबसूरती से सजाया है मेरी रचना को भी इसमें शामिल करने का बहुत २ शुक्रिया |

    ReplyDelete
  29. सुंदर लिंक्स की सुंदर सज्जा ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...