समर्थक

Thursday, August 22, 2013

"संक्षिप्त चर्चा - श्राप काव्य चोरों को" (चर्चा मंचः अंक-1345)

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
पिछले सप्ताह मेरी खुद की तबीयत खराब थी तो आज ब्रॉड बैंड का बैंड बज चुका है , कुछ लिंक लगाएँ हैं इन्हे ही काफी समझना ।

चलते हैं चर्चा की ओर

  
--

  
screenshot3 
  
 
जाले  
  
  
My Photo  
--
My Photo  

धन्यवाद
--
"मयंक का कोना" अद्यतन लिंक
(1)
इश्क मुझे मुकम्मल चाहिए था

 मौन के विस्तार में सिमटी रफाकत कि तहरीरे 
सच्ची तस्वीरों के झूठे भेद ..
कागज मेरा मीत है, कलम मेरी सहेली......
(2)
श्याम स्मृति...स्त्री-शिक्षा व शोषण-चक्र

यदि शिक्षा व स्त्री-शिक्षा के इतने प्रचार- प्रसार के पश्चात् भी शोषण व उत्प्रीणन जारी रहे तो क्या लाभ ? हमें बातें नहीं, कर्म पर विश्वास करना चाहिए, परन्तु यथातथ्य विचारोपरांत...
भारतीय नारी पर shyam Gupta 
(3)
नहीं जानती मैं यह सच है या भ्रम

अक्सर कुछ आहटें एक पदचाप सी पीछा करती है मेरा एक साया सा रहता है मेरे साथ लिपटी रहती है एक महक एक नम स्पर्श की नहीं जानती मैं यह सच है या भ्रम ...
नयी उड़ान +पर उपासना सियाग
(4)
श्रीमदभगवत गीता दूसरा अध्याय (श्लोक ४६ -५० )

आपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma

(5)
"शूद्र वन्दना"
अपने काव्य संकलन सुख का सूरज से
"शूद्र वन्दना"
पूजनीय पाँव हैं, धरा जिन्हें निहारती।
सराहनीय शूद्र हैं, पुकारती है भारती।।...

सुख का सूरज

(6)
रक्षाबंधन
मेरा फोटो
ॐ ..प्रीतम साक्षात्कार ..ॐ पर सरिता भाटिया 

(7)
बादलों के रंग

बेचैन आत्मा पर देवेन्द्र पाण्डेय 

21 comments:

  1. भाई दिलबाग विर्क जी!
    आपने अस्वस्थ होतो हुए भी इतनी सुन्दर चर्चा को अंजाम दिया।
    आपकी निष्ठा और श्रम के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर व रोचक सूत्र, आराम से बैठकर पढ़ते हैं।

    ReplyDelete
  3. तनिक हरकत नहीं करता सिसकती आह सुन मेरी,
    अगर गूंगा नहीं तो दिल तेरा बहरा हुआ होगा,

    ये सारा जिस्म थक के दोहरा हुआ होगा ,

    मैं सजदे में झुका था आपको धोखा हुआ होगा।


    चली आई मुझे तू छोड़ कर चुपचाप राहों में,
    तुझे महसूस शायद मुझसे ही खतरा हुआ होगा,

    ये कैसी रेल धक्कम पेल है भैया ,

    नहीं गणतंत्र ये तुझको मुफत राशन मिला होगा।

    बहुत बढ़िया प्रस्तुति है अरुण भाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार आदरणीय सर जी आशीष एवं स्नेह यूँ ही बनाये रखिये

      Delete
  4. वाह रविकर जी वाह !

    लेकिन रानी तेज, और वह पूरा अहमक |
    करवा लेती काम, फाइलें चाटे दीमक ||

    प्रजा तंत्र अब चाटे दीमक

    ReplyDelete
  5. साहित्यिक इतिहासिक फ़िल्मी परिवेश लिए अद्भुत आलेख प्रस्तुत किया है आपने बंधन रक्षा का पर। पुरुषोत्तम संगम युग पर स्वयं परमात्मा शिव अपने कल्प पहले के बच्चों को राखी बांधकर उनसे पवित्र होने का वचन लेते है। आत्मा के निज स्वरूप पवित्रता और प्रेम आनंद और शांति में स्थिर होने का पर्व है रक्षा बंधन मनुष्य मात्र का पर्व है यह सिर्फ भाई बहन का नहीं।

    (6)
    रक्षाबंधन

    ॐ ..प्रीतम साक्षात्कार ..ॐ पर सरिता भाटिया

    ReplyDelete
  6. लेकिन रानी तेज, और वह पूरा अहमक |
    करवा लेती काम, फाइलें चाटे दीमक ||

    प्रजा तंत्र अब चाटे दीमक

    फाइलें चाटे दीमक

    ReplyDelete
  7. पूजनीय पाँव हैं, धरा जिन्हें निहारती।
    सराहनीय शूद्र हैं, पुकारती है भारती।।
    बेहद सुन्दर रचना "-हिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती ,स्वयं प्रभा समुज्जवला स्वतंत्रता पुकारती "रचना सहज होंठों पर आ गई।

    ReplyDelete
  8. शीघ्र पूर्ण स्वस्थ हों
    आप भी आपका ब्राड बैंड भी-

    सुन्दर चर्चा-
    आभार आदरणीय दिलबाग जी-

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत धन्यवाद आपका रूपचन्द्र जी .....................
    मुझे चर्चामंच में शामिल करने के लिए .....................

    ReplyDelete
  10. आदरणीय दिलबाग भाई जी बेहद सुन्दर चर्चा लगाई है आपने जबकि आप अस्वस्थ हैं, हार्दिक आभार आपका. मुझे स्थान देने हेतु दिल से शुक्रिया

    ReplyDelete
  11. Thanks for the Mastets tach post.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर चर्चा, आभार.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..
    आभार

    ReplyDelete
  14. आदरणीय दिलबाग भाई जी बेहद सुन्दर चर्चा लगाई है,आपका आभार!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर चर्चा, आभार.

    ReplyDelete
  16. सुंदर सुसज्जित चर्चा
    मुझे शामिल करने के लिए गुरु जी हार्दिक आभार
    गुरु जी दिलबाग sir प्रणाम

    ReplyDelete
  17. अच्छा मंच सजाया है.... बधाई ...

    ReplyDelete
  18. विलम्ब से पहुंचने के लिए क्षमा!
    बहुत ही सुन्दर चर्चा! बहुत ही सुन्दर और उपयोगी लिंक्स! मेरे प्रयास को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin