Followers

Saturday, August 31, 2013

स्लो कनक्शन से फटाफट चर्चा (चर्चा मंच-1354)

मित्रों!
कल से हमारे क्षेत्र का ब्रॉडबैंड बाधित है। मोबाइल सिम से प्रयास कर रहा हूँ फटाफट चर्चा लगाने की। देखिए कहाँ तक सफल हो पाता हूँ!

--
सत्यार्थमित्र पर सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी 

--
काव्यान्जलि पर धीरेन्द्र सिंह भदौरिया

--

'कवरेज' (लघुकथा )

--
आधा सच...पर महेन्द्र श्रीवास्तव

--

--
नामुराद सांसें भी आईं कुछ इस तरह अहसान से आज चलते - 
चलते ज़िन्दगी जो उम्र का इक पन्ना फाड़ गई ….
--

--

--

--
वाग्वैभव पर vandana

--

--
Rhythm पर नीलिमा शर्मा

--
 नारी मुझको रोना आता तेरी इस लाचारी पर , कौन करेगा गर्व भला भारत की ऐसी नारी पर !! कोख में कन्या-भ्रूण है सुनकर मिलता आदेश मिटाने का , विद्रोह नहीं क्यूँ तू करती ?क्यूँ ममता तेरी जाती मर !!...
समाज पर Kartikey Raj 

--
जुम्मा जुम्मा आ कर अभी तो पाँव कुछ जमाई है कुछ बातें समझनी बहुत जरूरी होती हैं पता नहीं क्यों नहीं समझ पाई है पढी़ लिखी है और समझदार है दिखती मजबूत सी है बाहर से काम करने में भी काफी होशियार है पर हर जगह के अपने अपने कुछ उसूल होते हैं बहुत से लोग होते हैं जो बहुत पुराने हो चुके...

--
 अ -युक्त मनुष्य के अंत :करण में न ईश्वर का ज्ञान होता है ,न ईश्वर की भावना ही। भावना हीन मनुष्य को शान्ति नहीं मिलती और अशांत मनुष्य को सुख कहाँ ?...
आपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma

--

--
(1) लोकतंत्र की शक्ल में, दिखने लगी चुड़ैल | परियों सा लेकर फिरे, पर मिजाज यह बैल | पर मिजाज यह बैल, भेद हैं कितने सारे | वंश भतीजा वाद, प्रान्त भाषा संहारे | जाति धर्म को वोट, जीत षड्यंत्र मन्त्र की | अक्षम विषम निहार, परिस्थिति लोकतंत्र की |...

--
१ श्री कृष्ण नाम है आनंद की अनुभूति का, प्रेम के प्रतिक का , ज्ञान के सागर का और जीवन की पूर्णता का। २ श्री कृष्ण ने गीता में दिया है निति नियमो का ज्ञान जीवन को जीने का सार , पर इस युग में तो मानव ने राहों में रोप दिए है क्षुद्रता के कंटीले तार।....
sapne(सपने) पर shashi purwar 

--
ख्बाब था मेहनत के बल पर , हम बदल डालेंगे किस्मत ख्बाब केवल ख्बाब बनकर, अब हमारे रह गए हैं ...
आपका ब्लॉग पर मदन मोहन सक्सेना 

--
Computer Tips & Tricks पर Faiyaz Ahmad

--

--
MY BIG GUIDE पर Abhimanyu Bhardwaj

--
अटकल दुश्मन लें लगा, है चुनाव आसन्न | बुरे दौर से गुजरती, सत्ता बांटे अन्न | सत्ता बाँटे अन्न, पकड़ते हैं आतंकी | आये दाउद हाथ, होय फिर सत्ता पक्की | हो जाए कल्याण, अभी तक टुंडा-भटकल | पकड़ेंगे कुछ मगर, लगाते रविकर अटकल ...

--
.. मुझे विश्वास है यह पृथ्वी रहेगी यदि और कहीं नहीं तो मेरी हड्डियों में यह रहेगी जैसे पेड़ के तने में रहते हैं दीमक जैसे दाने में रह लेता है घुन यह रहेगी प्रलय के बाद भी मेरे अन्दर यदि और कहीं नहीं तो मेरी ज़बान और मेरी नश्वरता में यह रहेगी और एक सुबह मैं उठूंगा मैं उठूंगा पृथ्वी-समेत जल और कच्छप-समेत मैं उठूंगा मैं उठूंगा और चल दूंगा उससे मिलने जिससे वादा है कि मिलूंगा...
हम और हमारी लेखनी पर गीता पंडित 

--
"लिंक-लिक्खाड़" पर रविकर

--
आपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma

--
क्या बने बात जहां बात बनाये न बने |
 यार है यार बना साथ मुलाकात रहे
 कब रहे यार अगर साथ निभाए न बने |...
गुज़ारिश पर सरिता भाटिया 

--
मित्रों आज के लिए बस इतना ही...
नमस्ते..!

15 comments:

  1. कई नये रोचक सूत्र मिले, जाकर पढ़ते हैं।

    ReplyDelete
  2. अच्छा ही रहा सबकुछ!

    ReplyDelete
  3. कागज कलम दवात
    अब कहाँ देखा जाता है
    इंटरनेट बंद हो जाता है
    तब समझ में आ जाता है
    ब्च्चों के हाथ में कापी
    किताब पेन की जगह
    मोबाइल क्यों नजर आता है
    आभारी है "उल्लूक "
    सुंदर सूत्रों से सजी चर्चा में
    ऎसे में भी उसके अखबार
    का पन्ना लाकर जब
    कोई दिखा ही जाता है !

    ReplyDelete
  4. बढिया चर्चा
    मुझे शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  5. स्लो कनेक्शन के बावजूद बढ़िया लिंक्स हैं आज भी शास्त्री जी |
    आशा

    ReplyDelete
  6. बढिया चर्चा
    मुझे शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चर्चा-
    आभार आपका-

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया चर्चा,
    मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आभार शास्त्री जी,,,,

    RECENT POST : फूल बिछा न सको

    ReplyDelete
  9. बहुत उम्दा लिनक्स मुझे शामिल करने का शुक्रिया

    ReplyDelete
  10. धीमे कनेक्शन के बावजूद भी आपनें अच्छी चर्चा सजाई है !

    ReplyDelete
  11. व्यवधान के बावजूद अच्छी चर्चा
    यही तो हमारी खासियत है.......
    कुछ भी हो जाए....
    ब्लागिंग नहीं न छोड़ेंगे.....

    मैं शिकायत मेट की नहीं
    बल्कि अपने सेट की करती हूँ
    कल ले दे कर एक ड्राईव्ह ठीक करवाया
    और आज सुबह पूरा चौपट हो गया..
    अस्तु........ सभी ड्राईव्ह को साफ कर अभी फिर
    चालू की हूँ......सिस्टम इंजीनियर का कहना है
    देखें कब तक साथ देता है....

    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. कृपया मेट को नेट पढें

      Delete
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
    ---
    हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {साप्ताहिक चर्चामंच} पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल में दूसरी चर्चा {रविवार} (01-09-2013) को हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002 को है। कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |
    ---
    सादर ....ललित चाहार

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया चर्चा ..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"राम तुम बन जाओगे" (चर्चा अंक-2821)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...