साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Tuesday, January 06, 2015

मिटते फसल समेत, फिदाइन इनकी फितरत; चर्चा मंच 1850


ओले गोले सा बरस, चौपट करते खेत |
गलते थोड़ी देर में, मिटते फसल समेत |

मिटते फसल समेत, फिदाइन इनकी फितरत। 
पहुँचाना नुक्सान, हमेशा रखते हसरत ।  

बड़े अधम ये लोग, जहर दुनिया में घोले । 
होता रविकर खेत, पड़े बेमौसम ओले ॥। 

राजीव कुमार झा 


रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 


देश-प्रेम के लिए न्योछावर
हँस-हँस अपने प्राण करेंगे। 
हम भारत के भाग्य विधाता
नया राष्ट्र निर्माण करेंगे।।
गौतमगाँधीइन्दिरा जी की
हम ही तो तस्वीर हैं,
हम ही भावी कर्णधार हैं
हम भारत के वीर हैं,
भेद-भाव का भूत भगा कर
नया राष्ट्र निर्माण करेंगे। 
हम भारत के भाग्य विधाता
नया राष्ट्र निर्माण करेंगे।।


6 comments:

  1. सार्थक लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा।
    आदरणीय रविकर जी आपको नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    उम्दा लिंक्स |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  3. सार्थक चर्चा
    नववर्ष की बधाई।

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...
    आभार!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर चर्चा । आभारी हूँ रविकर जी 'उलूक' के सूत्र 'है तो अच्छा है नहीं है तो बहुत अच्छा है" को जगह देने के लिये ।बंदरों के उत्पात से नेट नहीं चल पा रहा है कई दिनों से अन्य ब्लागों पर ना जाने का खेद है ।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...