समर्थक

Sunday, February 07, 2010

“शीर्षक चर्चा” (चर्चा मंच)

"चर्चा मंच" अंक-57
चर्चाकारः डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
आज के
"चर्चा मंच" को सजाते हैं।


आज केवल प्रविष्ठियों के शीर्षक ही शीर्षक दे रहा हूँ-
Taau.in
ताऊ की रविवारीय चौपाल

कतरनें

हम अमेरिकी दलाल नहीं हैं भारत भूषण

अनवरत

क्या बतलाएँ दुनिया वालो! क्या-क्या देखा है हमने ...!

मीडिया उत्तेजना फैलाने में न्यायालय की अवमानना की भी परवाह नहीं करता

स्वप्न मेरे................

चाहत

उच्चारण

“ मुक्त होना चाहता हूँ।”

ज़िन्दगी

क्या फिर ऋतुराज का आगमन हुआ है ?

Gyan Darpan
ज्ञान दर्पण

बैटरी से चलने वाले रिक्शा
गत्‍यात्‍मक चिंतन
नाना मुनि के नाना मत ... हिन्‍दी ब्‍लॉग जगत के आलेखों को पढकर कमेंट किया जाए या नहीं ??
An Indian in Pittsburgh -
पिट्सबर्ग में एक भारतीय

एक वह होली
GULDASTE - E - SHAYARI वीर बहुटी
मनोरमा
सच की लड़ाई
bhartimayank
"रविवासरीय साप्ताहिक पहेली-19" (अमर भारती)
आरंभ Aarambha
" बने करे राम मोला अन्धरा बनाये " यह गीत छत्तीसगढ से ट्रेन से गुजरते हुए आपने भी सुना होगा
नुक्कड़
कविता वाचक्‍नवी जी का कल जन्‍मदिन, आज अक्षरम् सम्‍मान और दिल्‍ली ब्‍लॉगर मिलन समारोह में शिरकत करेंगी (अविनाश वाचस्‍पति)
आदित्य (Aaditya)
खुशी का मंत्र...
हास्यफुहार
मंहगी सब्जी
ललितडॉटकॉम

परम्परागत कारी्गर और प्राचीन विज्ञान
मसि-कागद
प्रेम के दुश्मन.. हाय-हाय..
भारतीय किसान यूनियन.. हाय हाय…दीपक 'मशाल'
अंधड़ !
गुमशुदा की तलाश !
Hindi Tech Blog
स्क्रेच्ड सीडी डीवीडी से डाटा प्राप्त करें

दिल-ए-नादाँ

बैंक में नही था बैलेंस घर में नही है आटा उस पर भी कर दिया है अब नौकरी को टाटा दिल ऐ नादाँ तुझे हुआ क्या है...(बकौल राजकुमार केसरवानी



किसका जूता, किसका सर...

मिसफिट

नन्हा दिन जाड़े का रोक सका कौन गुरसी में आग लोग मुद्दों पे मौन ?


सुरेश चिपलूनकर से बात चीत

झा जी कहिन

अपने अंदाज में हम अईसे बतियाते हैं...


ये पोस्ट चर्चा नहीं सिर्फ़ मेरे द्वारा पढी गई कुछ पोस्टों का लिंक है आप भी पढ सकते हैं

देशनामा

देश का कोई धर्म नहीं, कोई जात नहीं, कोई नस्ल नहीं तो फिर यहां रहने वाले किसी पहचान के दायरे में क्यों बांधे जाएं।


आंसू रोक कर दिखाओ इसे पढ़ने के बाद...खुशदीप

मानसिक हलचल

|| MERI MAANSIK HALCHAL ||
|| मेरी (ज्ञानदत्त पाण्डेय की) मानसिक हलचल ||
मन में बहुत कुछ चलता है। मन है तो मैं हूं| मेरे होने का दस्तावेजी प्रमाण बन रहा है यह ब्लॉग|


उत्कृष्ट का शत्रु

हृदय गवाक्ष

नित्य समय की आग में जलना, नित्य सिद्ध सच्चा होना है। माँ ने दिया नाम जब कंचन, मुझको और खरा होना है.......!


बाबुल तेरे प्यार ने तो मुझे सिर पर चढ़ा लिया

काव्यमंजूषा

हिन्दी काव्य संग्रह .......


निश्छल बचपन

काव्य मंजूषा

रिपोर्ट....रिपोर्ट.....एक सच्ची घटना....

युवा सोच युवा खयालात
रजनी ग़र तुम न होती

TAPASHWANI

बे रस होती आधुनिक काव्य और तकनीक


कैसे लिखूं और क्या लिखूं

धान के देश में!

ब्लोगिंग की समस्यायें
हमारा गुजरात
राजकुमार भक्कड़ ने किया अलबेला खत्री का सम्मान

लाइट ले यार !

हर इन्सान के अन्दर एक बहुत प्यारा सा, बच्चा छिपा होता है, जीवन की व्यस्तताएं तथा जिम्मेवारियों के कारण हम उस बच्चे को हंसने से रोकते रहतें हैं . "कोई क्या कहेगा" के भय से वह बच्चा कभी सब के सम्मुख नहीं आ पाता और हम बड़प्पन का लबादा ओढे रह कर, हँसना लगभग भूल जाते हैं ! बड़प्पन की इस बेवकूफी से निकलने का प्रयास है, " लाइट ले यार " !


चाँद पर मेरी प्रापर्टी और उड़नतश्तरी !

समयचक्र

चिट्ठी चर्चा : आपको खुश रहने का मंत्र दे ही देता हूँ
साहित्य शिल्पी
कटी पतंग [सप्ताह का कार्टून] - अभिषेक तिवारी

------

रचनाकार परिचय:-

अभिषेक तिवारी "कार्टूनिष्ट" ने चम्बल के एक स्वाभिमानी इलाके भिंड (मध्य प्रदेश्) में जन्म पाया। पिछले २३ सालों से कार्टूनिंग कर रहे हैं। ग्वालियर, इंदौर, लखनऊ के बाद पिछले एक दशक से जयपुर में राजस्थान पत्रिका से जुड़ कर आम आदमी के दुःख-दर्द को समझने की और उस पीड़ा को कार्टूनों के माध्यम से साँझा करने की कोशिश जारी है.....

मित्रों!
अब तो आपको इनमें से
अपनी मनपसन्द पोस्ट लिंक खोलकर पढ़नी ही पड़ेंगी!
अब आज की चर्चा को समाप्त करने की आज्ञा दीजिए!

15 comments:

  1. ये तरीका भी बहुत अच्छा लगा... आभार

    ReplyDelete
  2. शीर्षक चर्चा भी नया सफल प्रयोग है.

    ReplyDelete
  3. चर्चा का यह नया प्रयोग भी बढ़िया लगा |

    ReplyDelete
  4. waah waah .......bahut hi sundar charcha rahi aur kai link bhi yahin mil gaye .........shukriya.

    ReplyDelete
  5. अच्छी चर्चा....नए ब्लोग्स का रास्ता मिला....

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर लगा यह तरीका भी, शुभकामनाएं.

    राम्राम.

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  8. Charcha ke aapke sare prayog apane aap me anupam hai :)

    Saadar
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. मयंक जी चर्चा विशाल

    कर दिया आपने मालामाल

    ReplyDelete
  10. नये अंदाज में सुन्दर और विस्तृत चर्चा!

    ReplyDelete
  11. शास्त्री जी
    आभार सबसे प्रभाव शील रहा ये इंटरव्यू काफी लोग पहुंचे
    आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  12. अच्छी चर्चा । लिंक तो मिल ही गये ।
    आभार ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin