Followers



Search This Blog

Thursday, September 05, 2013

शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ( चर्चा- 1359 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है
शिक्षक हूँ और शिक्षक दिवस पर चर्चा लगा रहा हूँ , यह सौभाग्य की बात है , शिक्षक और गुरु का दर्जा तो भगवान से भी ऊपर माना गया है लेकिन आज का गुरु गुरु कहलाने लायक है इस पर प्रश्नचिह्न हैं , कितने ही गुरु ऐसे हैं जिन पर घिनौने अपराधों के आरोप लगे हुए हैं । शिक्षक भी गुरु के पद से तो उतर ही चुका है । अब वह शिक्षक भी रह पाएगा इसमें संदेह है । निजी अनुभव के आधार पर कहता हूँ की आज का शिक्षक शिक्षक कम लिपिक अधिक है । सरकारी स्कूलों में पढाई का कार्य बहुत पीछे है , अनिवार्य कार्य तो मिड-डे मील तैयार कारवाना, बैंक में बच्चों के खाते और राशि के लिए चक्कर लगाना , विभिन्न प्रकार की सूचनाएं विभाग को उपलब्ध करवाना और समुदाय के कामों में हाथ बंटाना । 
इतना होने पर भी सभी शिक्षकों को शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 
 
आह्वान गुरु का सम्मान करने का 

‘हविश’ की ‘घोड़ा-दौड़’ में, ’धर्म’ हुआ ‘बिगड़ैल’

पासवर्ड की चुगली करता ब्राउजर 

गुन-गुन करता भँवरा आया

चूक हुई है, मंदिर-मस्जिद 'विर्क' इमारत का नाम नहीं 
My Photo
उल्लूक का धंधा 
मेरा फोटो
खो जाती है पगडण्डी भी

मैं अकेली राह पर यूँ चल रही हूँ !
मेरा फोटो
गिरने से क्या घबराना
पंजाबी लघुकथा
अपने हिस्से का दुःख 
Laghu-Katha - My Hindi Short Stories -Pavitra Agarwal
प्राणी रक्षक
मेरा फोटो
सुरक्षा योजनाओं का ‘गंगाजल’ 

ये खुलती और बंद होती खिड़कियाँ 

एक खेल यह भी 

प्रीत की रीत नि‍भा जाउं
धन्यवाद
--
"मयंक का कोना" 
--
शत शत नमन सद्गुरु के चरणों में !

भारतीय नारी पर shikha kaushik 

--
कितनी सुरक्षित आपकी बेटी ?
 कितनी सुरक्षित है हमारी बेटियाँ इस समाज में ,रह रह कर यह सवाल सुमन को कचोट रहा था .उसकी अंतरंग सखी दीपा ने रो रो कर अपना बुरा हाल कर लिया था उसके घर की नन्ही कली को किसी ने मसल दिया था और उसके दुःख से सुमन भी बहुत दुखी थी,उसकी आँखों में भी आंसुओं का सैलाब उमड़ आया था...
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi 

--
कब तलक बैठें-------

बात विरोधाभास से ही टकराती है सांप के काटे चिन्ह पर नागफनी ऊग जाती है--- हर सुबह दीखता रहा सूरज सांझ के आसरे में कब तलक बैठें खा गये हैं गोलियां खूब उडने की रात के अंधपन में क्या देखें...
उम्मीद तो हरी है .........
--
ओ तितली हो क्यूं उदास

Akanksha पर Asha Saxena

--
'मजदूर' की बेटी, पर 'मजबूर' नहीं, 
7 साल में हाईस्कूल, 13 साल में एमएससी

शब्द-शिखरपरAkanksha Yadav 

14 comments:

  1. शिक्षक दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  2. शिक्षक दिवस और हरियाणा ब्‍लागर्स के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि ब्लॉग लेखकों को एक मंच आपके लिए । कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा |

    ReplyDelete
  3. सबको शिक्षकदिवस की शुभकामनायें, बड़े ही सुन्दर सूत्र।

    ReplyDelete
  4. शिक्षक दिवस पर चर्चा आज लगाया है
    दिलबाग दिल खोल के इसे सजाया है
    आभारी है उल्लूक ऊपर वाले के धंधों
    पर लिखा गये कुछ को उसने
    उल्लूक का धंधा जो बताया है ! :)

    ReplyDelete
  5. शिक्षकदिवस की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. गुरु ब्रह्मा गुरुर्विष्णु : गुरुर्देवो महेश्वर:
    गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मै श्री गुरावेनम:!!!!!!
    सभी को शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं !!!!!

    ReplyDelete
  7. शिक्षक दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें ! बहुत सुंदर सूत्रों से सजी चर्चा है आज की ! मेरी रचना को इसमें स्थान देने के लिये धन्यवाद !

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा-
    आभार आदरणीय

    गुरुवर करूँ प्रणाम मैं, रविकर मेरो नाम |
    पाया अक्षर ज्ञान है, पाया ज्ञान तमाम |
    पाया ज्ञान तमाम, निपट अज्ञानी लेकिन |
    बहियाँ मेरी थाम, अनाड़ी हूँ तेरे बिन |
    सतत मिले आशीष, पुन: आया हूँ दरपर |
    करिए शुभ कल्याण, शिष्य सच्चा हूँ गुरुवर -

    ReplyDelete
  9. सबको शिक्षकदिवस की शुभकामनायें, बड़े ही सुन्दर सूत्र।

    ReplyDelete
  10. आज 'शिक्षक-दिवस; पर आप सभी मित्रों को हार्दिक वधाई !
    बजुत सटीक चर्चा-संयोजन समयानुकूल !

    ReplyDelete
  11. आज मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  12. शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं--
    सुंदर लिंक्स
    बेहतरीन संयोजन

    सादर
    "ज्योति"

    ReplyDelete
  13. बहुत सुंदर चर्चामंच सजाया है आपने....मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।