Followers

Thursday, September 12, 2013

चर्चा - 1366

 आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
My Photo
छू लूं आसमां
My Photo
मेरी ज़ुल्फ़ अब परेशाँ नहीं होती

जिसने प्रीत निभाई है

तपन के बाद बरसातें, किसे अच्छी नहीं लगतीं
My Photo
उठी जो पलकें

वक्त की पेशानी पर सिलवटें 

व्यवसाय और ज्योतिष 
आपका ब्लॉग
ये सारी दुनिया है विरोधाभास की
मेरा फोटो
जो बात गुड़ में है, वह कहीं नहीं है
My Photo
लिखना खुद अपना
सम्पादक
मन भीगा -भीगा सा

एक लेखिका की मौत 

रेलवे यात्रा
मेरा फोटो
 मैं प्रेम में नहीं हूँ मगर

सँजो रही हूँ  जीवन का एक एक पल

थाम लो एक बार फि‍र.....

मूवी के बाद अब गेम भी 
आज के लिए  बस इतना ही 
आभार 
दिलबाग 
"मयंक का कोना"
--
कार्टून :- उपले थापता, तै बेरा पाटता

काजल कुमार के कार्टून
--
Free will is necessary for love
प्रश्न :यदि परमात्मा ने हमें कर्म करने की स्वायत्तता न दी हुई होती ,हम उसे प्रेम करें ही करें वह इस बात के लिए भी हमें बाधित कर सकता था। फिर माया का फंदा भी हमारे गिर्द न होता। आखिर परमात्मा ने माया रची ही क्यों और रच ही दी तो हमें दूसरा विकल्प परमात्मा को भूलने का ) क्यों दिया ? Free will is necessary for love उत्तर :प्रेम के लिए विकल्प ज़रूरी है चयन का। मशीन या फिर किसी माडल के साँचें टेम्पलेट को यह विकल्प उपलब्ध नहीं है। माया हमें विकल्प उपलब्ध कराती है। जब हम माया का तिरस्कार करते हैं तभी ईश्वर तत्व की प्राप्ति का विकल्प खुलता है। माया निठल्ले को ही पकड़ ती है ...
आपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma 

--
शीर्षकहीन
शांतिपूर्ण क्षण-क्षण रहे,  सुखमय  रहे समाज |
दुनिया के ऐश्वर्य की,  मिले   आप   को   भेंट,
यही प्रार्थना-कामना,  करता  प्रभु  से  'राज' |
सृजन मंच ऑनलाइन पर DrRaaj saksen
--
"अच्छी नहीं लगतीं" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

वफा और प्यार की बातें, किसे अच्छी नहीं लगतीं। 
तपन के बाद बरसातें, किसे अच्छी नहीं लगतीं। 
मिलन होता जहाँ बिछड़ी हुई, कुछ आत्माओं का,  
चमकती वो हसीं रातें, किसे अच्छी नहीं लगतीं।।

--
गुरु वन्दना (रुबाइयाँ )"रुबाइयाँ "की रूप देने की कोशिश की। 
अगर आपको लगे कुछ कमी रह गयी है ,
कृपया टिप्पणी के रूप में बताएं, आभारी रहूँगा। 

मन ,वुद्धि ,विवेक का स्रष्टा होज्ञान विज्ञानं के तुम विधाता होब्रह्मा  रूपेण हो सिरजनहार तुमशतकोटी प्रणाम तुम्हे , मेरे ज्ञान-गुरु हो।
--
विचित्र कथ्य-भावों की एक ग़ज़ल 'आईना' पर ..
एक रुबाई एवं ग़ज़ल ....डा श्याम गुप्त....
रुबाई...
किसने कहा कि भाग्य-विधाता है आईना |
चांदी की पीठ हो तभी बनता है आईना |
है आपकी औकात क्यावह बोल जाता है -क्या इसलिए न आपको भाता है आईना |  

--
----भूली -बिसरी यादें .......

मुझे कुछ कहना है ....पर अरुणा 

--
नफरत की दिवार
क्या दीवार हमने बनाई है, न इंट न सीमेंट की चिनाई है , 
पानी नहीं लहू से सिचतें है हम , 
कभी-कभी रेत की जगह, इंसानों के मांस पिसते है हम। । 
पुरातन अवशेषों से भी नीचे धसी है नींव की गहराई , 
शुष्क आँखों से दिखती नहीं बस दिलों में तैरती है परछाई।...
अंतर्नाद की थाप पर  Kaushal Lal

--
तुम्हीं दर्द हो दवा तुम्हीं हो

जीवन पथ पे चला अकेला छोड़ दुनिया का झूठा मेला सहम गए क्यों ? 
वास्तविकताओं से सामना हुआ ज्योंहि 
आगे खड़ी है मंज़िल तेरी हिम्मत कर लो ओ बटोही,…
My Expression पर Dr.NISHA MAHARANA
--
मुक्तक : 335 - रोजी-रोटी न.....

डॉ. हीरालाल प्रजापति

--
कंप्यूटर में इस्तेमाल की गई USB devices की पूरी जानकारी !

Computer Tips & Tricks पर Faiyaz Ahmad 

--
"स्कूल बस"
बालकृति "नन्हें सुमन" से
एक बालकविता "स्कूल बस"
 
बस में जाने में मुझको,
आनन्द बहुत आता है।
खिड़की के नजदीक बैठना,
मुझको बहुत सुहाता है।।...

27 comments:

  1. वाह इससे ताज़ा कुछ नहीं हो सकता.

    धन्‍यवाद

    ReplyDelete
  2. भाई दिलबाग विर्क जी आपका आभार।
    आप चर्चा मंच के लिए बहुत मनोयोग से छाँट-छाँट कर करीने से लिंक लगाते हैं।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. दिलबाग का है अपना
    कुछ अलग अंदाज
    उसकी चर्चा में बहुत
    कुछ होता है खास
    शुक्रिया है कहने को
    बस उल्लूक के पास !

    ReplyDelete
  4. बहुत हि बढ़िया चर्चा मंच सजा है आज दिलबाग sir एवं गुरु जी को प्रणाम

    ReplyDelete
  5. बड़े ही सुन्दर और पठनीय सूत्र..आभार।

    ReplyDelete
  6. बढ़िया प्रस्तुति-
    सुन्दर चर्चा-
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  7. bahut sundar ......rang birange links dhanyavad nd aabhar .....

    ReplyDelete
  8. छा गए चर्चा मंचीय ,मुख चिठ्ठा पे आय।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर चर्चा मंच सजाया ,

    मुख चिठ्ठा पे जाय बिठाया।

    ReplyDelete
  10. स्वास्थ्य सचेत लोग फिर से गुड़ खाने लगे हैं ,ब्राउन शुगर भी। गुड़ चने तीन महीने खाओ हिमोग्लोबीन तीन पाइंट बढाओ। लौह तत्व का भी अच्छा स्रोत है गुड़।

    लोक कहावतों में भी गुड़ का अपतिम स्थान है -आदमी गुड़ न दे गुड़ जैस बात तो कह दे ,गुड़ खाय गुलगुलों से परहेज़ ,गुरु गुड़ ही रह गया ,चेला शक्कर है गया।

    लड़की को लड़का होने पर यानी आपके नाना बन ने पर लड़की के सुसरालिये क ई इलाकों में आज भी गुड़ की भेली भेजते हैं नाना के लिए।

    जो बात गुड़ में है, वह कहीं नहीं है


    इसलिए ज़नाब गुड़ खाया कीजिये खाना खाने के बाद पुराने गुड़ से कब्ज़ टूटती है ।

    ReplyDelete
  11. सुन्दर सौद्देश्य बोध वर्धक।

    बस में जाने में मुझको,
    आनन्द बहुत आता है।
    खिड़की के नजदीक बैठना,
    मुझको बहुत सुहाता है।।...

    ReplyDelete
  12. अब इलेक्ट्रनि मीडिया में हिंदी के बिना काम नहीं मिलता है। हिंदी और अंग्रेजी कमसे कम दो भाषाएँ आपको अच्छी आनी चाहिए।विज्ञापन का माया संसार विज्ञापन हिंदी में रचता है बा -कायदा विज्ञापन साहित्य कई मूर्धन्य साहित्यकार (मूढ़ धन्य वास्तव में )लिख रहे हैं।

    लोगों में वराहभगवान् का अंश बढ़ गया है इसीलिए अंग्रेजी पनप रही है। हिन्दुस्तानी रोता हिंदी में है आसमान में उड़ते ही अंग्रेजी बोलने लगता है। अच्छी बात है अब कई परिवारों में अच्छी हिंदी बोलने वाले बच्चों को एक विरल जिन्स समझा जाने लगा है।

    भाषा बनी न राष्ट्र की, यह दिल्ली की भूल

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच को देख आजकल कई मंच बन गये हैं ,ये चर्चा मंच की ही एक सफलता है।

    ReplyDelete
  14. बढ़िया चर्चा लगाई है आज दिलबाग जी |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  15. चुनिन्दा लिंक्स से सजा सुव्यवस्थित चर्चामंच दिलबाग जी ! मेरी रचना को भी इसमें सम्मिलित किया आपने इसके लिये आभारी हूँ !

    ReplyDelete
  16. dilbag ji bahut sundar prastutikaran hai dil bhi hamara bag bag ho gaya , hamen shamil karne ke liye tahe dil se abhaar .sammilit hokar apne parivar se punah mila diya aapne , abhaar

    ReplyDelete
  17. prabhavshali bahut badhia charcha ......Dilbaag ji hriday se aabhar meri krity shamil kii.

    ReplyDelete
  18. बहुत हि बढ़िया चर्चा मंच , आभार

    ReplyDelete
  19. क्या बात है डॉ आशुतोष जी ,

    पढ़ी जो गजल उसकी दिल पे एतबार हुआ ,

    इश्क बार बार हुआ।


    उठी जो पलकें

    ReplyDelete
  20. खाकर के चोट आईना टुकड़ों में बंट गया,
    फिर भी तो अपना धर्म निभाता है आईना |
    शिकवा गिला क्या आईना है बेजुबान श्याम’
    खुद आपका ही अक्स दिखाता है आईना |

    बहुत सुन्दर गजल भाव सम्प्रेषण और अर्थ सम्प्रेषण में भी उज्जवल।

    बधाई डॉ श्याम गुप्त जी श्याम।

    मीरा हो या राधा बने रहो श्याम ,

    रोज़ सुबहा शाम।
    विचित्र कथ्य-भावों की एक ग़ज़ल 'आईना' पर ..
    एक रुबाई एवं ग़ज़ल ....डा श्याम गुप्त....
    रुबाई...
    किसने कहा कि भाग्य-विधाता है आईना |
    चांदी की पीठ हो तभी बनता है आईना |
    है आपकी औकात क्या, वह बोल जाता है -क्या इसलिए न आपको भाता है आईना |

    ReplyDelete
  21. मीरा हो या राधा बने रहो श्याम ,

    रोज़ सुबहा शाम।

    तुम राधे बनो श्याम ,

    या मीरा के घनश्याम।

    खाकर के चोट आईना टुकड़ों में बंट गया,
    फिर भी तो अपना धर्म निभाता है आईना |
    शिकवा गिला क्या आईना है बेजुबान श्याम’
    खुद आपका ही अक्स दिखाता है आईना |

    बहुत सुन्दर गजल भाव सम्प्रेषण और अर्थ सम्प्रेषण में भी उज्जवल।

    बधाई डॉ श्याम गुप्त जी श्याम।

    ReplyDelete
  22. बहुत बहुत धन्यवाद ! डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' जी ! मेरी इस रचना '' रोजी-रोटी न.........''को अपने मंच पर स्थान देने के लिए ! सभी पाठकों को गणेशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ । - See more at: http://www.drhiralalprajapati.com/2013/09/335.html?showComment=1378991515706#c5263388601375848497

    ReplyDelete
  23. सुंदर सराहनीय लिंक्स संकलन ! बेहतरीन चर्चा !!

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर लिंक्‍स हैं...मेरी रचना शामि‍ल करने के लि‍ए आभार...

    ReplyDelete
  25. बहुत शानदार सूत्रों से सजाया चर्चा मंच हार्दिक आभार दिलबाग जी मेरी रचना को शामिल करने के लिए

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...