Followers

Thursday, January 16, 2014

"फिसल गया वक्‍त" चर्चा - 1494

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
चलते हैं चर्चा की ओर 
My Photo
My Photo
filler1
मेरा फोटो
tape1
My Photo
मेरा फोटो
मेरा फोटो
आभार 
--
आगे है..."मयंक का कोना"
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
 Kashmir ,श्रीनगर के मुख्य आकर्षण 

Yatra, traveling India पर Manu Tyagi

--
जीवन-दात्री 

इसलिये नहीँ कि हिन्दू
मुस्लिम ।।।
इसलिये कि रूबी और
रेहाना की माँ को जब
दूध
नहीँ उतरा तो हमारी गौरी
ने भर भर माता का दूध दिया
पल गयीं।...
निरामिष  पर  सुज्ञ 

--
दूरदर्शन पर खुलेआम महिला शोषण 

! कौशल ! पर Shalini Kaushik 

--
भावनात्मक रूप से कमज़ोर है महिला 
शिखा और समीर इक्सिवीं सदी के युवा दोनों अपने अपने घर से दूर दिल्ली में नौकरी कर रहे थे ,पाश्चात्य सभ्यता से प्रभावित ,लगभग चार वर्ष से दिल्ली की एक पौश कालोनी में किराए पर जगह ले कर लिव इन रिलेशनशिप में रहना शुरू कर दिया था ,बिना शादी के इस तरह रहना आजकल फैशन बनता जा रहा है ....
Ocean of Bliss पर Rekha Joshi 

--
देखे होंगे 

मेरी तरह उसने भी तो रातों में 
चाँद से लिपटते तारे देखे होंगे 
चांदनी के आगोश में सिमटते 
वो मदहोश नज़ारे देखे होंगे ....
तमाशा-ए-जिंदगी पर 
Tushar Raj Rastogi
--
चौदह बरस विरह-ताप को 
कैसे सहेगी उर्मिला ? 

भारतीय नारी पर shikha kaushik

--
मुस्लिमपरस्त केजरीवाल ! 

ZEAL

--
मैं ‘आप’ को पसंद क्यों करता हूँ- मटुकनाथ 
बहुत दिनों के बाद फेसबुक पर बैठा, तो मित्रों ने प्रश्नों की झड़ी लगा दी कि आपने ‘आप’ में क्या देखा जो शामिल होने का मन बना लिया ? अलग अलग कितना जवाब दूँ। एक ही साथ सबके काम आ जाय, इसलिए अपने दिल की बात बता रहा हूँ...
मटुकजूली -पिंजर प्रेम प्रकासिया
--
दीप बन के जलूँ 

अंतर्मन की लहरें पर Dr. Sarika Mukesh

--
बालकहानी 
सोने की कढ़ी

बालकुंज पर सुधाकल्प
--
हतनुर जलाशय के किंगफिशर 
1472944464e89cdc7799ff
मनोज पर मनोज कुमार

--
"आइना छल और कपट को जानता है" 

सुख का सूरज

--
.....फिसल गया वक्‍त :)) 

कविता मंच पर संजय भास्‍कर

--
आप भी वोट कीजिए न..
Randhir Singh Suman
http://win.blogadda.com/view-blogs-voting/political/Loksangharsha/
http://win.blogadda.com/view-blogs-voting/political/Loksangharsha/

loksangharsha.wordpress.com

14 comments:

  1. अच्छा लिंक्स संयोजन !

    ReplyDelete
  2. आपके श्रम को नमन करता हूँ।
    हमेशा की तरह सुन्दर चर्चा।
    आभार भाई दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. nice
    http://win.blogadda.com/view-blogs-voting/political/Loksangharsha/

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर चर्चा । उल्लूक के "मकर संक्रान्ति - किश्त -2" को स्थान दिया । आभार ।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चर्चा-
    बढ़िया लिंक्स -
    आभार आदरणीय-

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा लिंक्स ...चैतन्य को शमिल करने का आभार

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर लिंक संयोजन...अंतर्मन की लहरें को शामिल करने हेतु हार्दिक आभार!!

    ReplyDelete
  8. अच्छे लिंक्स
    आभार

    ReplyDelete
  9. सभी लिंक्स पर््शंसनीय और रोचक हैं।कहानी को स्थान देने के लिए शुक्रिया ।

    ReplyDelete
  10. सुन्दर, रोचक व पठनीय सूत्र, आभार..

    ReplyDelete
  11. मुझे तनहाई डँसती है, को शामिल करने के लिये शुक्रिया

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...