साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Wednesday, January 22, 2014

रविकर सर पर पैर रख, भाग सके तो भाग; चर्चा मंच 1500


अंतर-तह तहरीर है, चौक-चाक में आग-
अंतर-तह तहरीर है, चौक-चाक में आग |
रविकर सर पर पैर रख, भाग सके तो भाग |

भाग सके तो भाग, जमुन-जल नाग-कालिया |
लिया दिया ना बाल, बटोरे किन्तु तालियां |

दिखे अराजक घोर, काहिरा जैसा जंतर |
होवे ढोर बटोर, आप में कैसा अंतर || 


नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जयंती (२३ जनवरी) पर विशेष

Kumar Gaurav Ajeetendu 

नींद में ही सही...


Anita


खान अब्दुल गफ्फार खान

HARSHVARDHAN 







Untitled

bhuneshwari malot 
दर्पण एक धनी नौजवान अपने गुरू के पास यह पूछने के लिए गया कि उसे जीवन में क्या करना चाहिये । गुरू उसे खिडकी के पास ले गए और उस





 

15 comments:

  1. सुप्रभात
    पठनीय और प्रभावित करती लिंक्स |मी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  2. लिया दिया ना बाल, बटोरे किन्तु तालियां .......... ये ताली बजाने वाले हाथ , शीघ्र ही थप्पड़ भी बन जायेंगे,,,
    सुंदर एवं पठनीय सूत्र संकलन ,, आभार आपका ..

    ReplyDelete
  3. स्नेह के लिए आभार रविकर जी .....

    ReplyDelete
  4. सजाये हुये सुन्दर सूत्र

    ReplyDelete
  5. अच्छे सूत्र व बेहतर प्रस्तुति , आ० रविकर सर व मंच को धन्यवाद
    Information and solutions in Hindi

    ReplyDelete
  6. sundar links se susajjit badhiya charcha

    ReplyDelete
  7. बढ़िया एवँ पठनीय सूत्रों से सुसज्जित मंच ! मयंक का कोना आज रिक्त ही रह गया ! आशा है सब कुशलमंगल ही होगा ! ब्लॉगमंच व ब्लॉगालय पर आज की चर्चा की लिंक भी नहीं दी शास्त्री जी ने ! अवश्य ही कोई विशिष्ट कारण रहा होगा !

    ReplyDelete
  8. sundar links....mujhe inmay shamil kiya abhar

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर और व्यवस्थित चर्चा।
    आभार।
    --
    मित्रों।
    4 दिनों तक नेट नहीं चला।
    कल शाम से ठीक हुआ है तो
    अपनी हाजिरी लगा दी है।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...