Followers

Thursday, April 08, 2021

चर्चा - 4030

 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 

कोई नेता हो, अभिनेता हो, खिलाड़ी हो जब वह लोगों का रोल मॉडल बन जाता है, तब उसकी व्यक्तिगत ज़िंदगी पर भी लोगों का अधिकार हो जाता है। ऐसे में सिर्फ़ उसका बोलना ही नहीं, अपितु पहरावा और अन्य क्रिया-कलापों पर समाज की नज़र रहती है। उस व्यक्ति विशेष का भी नैतिक दायित्व बनता है कि वह इस सबको समझकर ख़ुद को मर्यादित करे। फ़ेसबुक पर कुछ लोग किसी ख़ास व्यक्ति के आपत्तिजनक शब्द बोले जाने की यह कहकर सपोर्ट कर रहे थे कि ऐसे शब्द हर कोई बोल रहा है। यह सच है कि हमारी भाषा दूषित हुई है, लेकिन सामान्य और विशेष व्यक्ति के व्यवहार में अंतर तो होना चाहिए, तभी सुधार की संभावना बरकरार रहेगी। इस संदर्भ में साहित्य भी निराश कर रहा है। होना ये चाहिए कि सिनेमा साहित्य का अनुसरण करे, लेकिन हो ये रहा है कि साहित्य भी सिनेमा की टपोरी भाषा का अनुसरण कर रहा है । जब साहित्य की भाषा दूषित होगी, जब रोल मॉडल बन चुके लोगों की भाषा दूषित होगी, तो आम लोगों की भाषा को सुधारने का कोई उपाय नहीं बचेगा।

चलते हैं चर्चा की ओर 

दिलबागसिंह विर्क 

8 comments:

  1. बहुत सुन्दर और उपयोगी लिंकों की चर्चा की है आपने।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग सिंह विर्क जी।

    ReplyDelete
  2. एक से बढकर एक बेहतरीन लिंक हैं।

    ReplyDelete
  3. प्रभावशाली भूमिका और सुंदर रचनाओं का चयन, आभार आज की चर्चा में शामिल करने हेतु !

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. सार्थक चर्चा । कवि प्रदीप के विषय में पढ़ना मुश्किल हुआ । टेक्स्ट का बैक ग्राउंड ऐसा था कि अक्षर दिख नहीं रहे थे ।

    ReplyDelete
  6. महामारी के इस कठिन दौर में सब सुरक्षित व स्वस्थ रहें, यही कामना है

    ReplyDelete
  7. सुंदर अंक विभिन्न तरह की चर्चाओं के साथ सुंदर भूमिका।
    सभी रचनाकारों को बधाई।
    सभी रचनाकारों का सुंदर सृजन।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार।

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब , बेहतरीन लिंक दिए हैं !
    आभार !

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।