Followers

Wednesday, January 01, 2014

हों हर्षित तन-प्राण, वर्ष हो अच्छा-खासा : चर्चा मंच 1479


 "लिंक-लिक्खाड़"

अच्छा-खासा वर्ष यह, गत वर्षों से बीस |
आम हुवे *आमात्य कुल, ख़ास काढ़ते खीस |
*मंत्री  

ख़ास काढ़ते खीस, देख ईश्वर की सत्ता |
बिन उनके आशीष, हिले ना जग में पत्ता |

हो जग का कल्याण, पूर्ण हो जन-गण आसा |
हों हर्षित तन-प्राण, वर्ष हो अच्छा-खासा ||
(१)
chandan bhati 

(२)

ज्ञान/विज्ञान/स्वाभिमान

Mukesh Kumar Sinha 

१२ 

२१. नववर्ष आया

नवगीत की पाठशाला 
१३ 

विश्वास का रंग...!

अनुपमा पाठक 
१४ 

धामिन, करैत और राजा

Neeraj Kumar 
१५ 

दिल और दिमाग तथा फेफड़ों की बीमारियों के अलावा धूम्रपान दिमाग की अपविकासी बीमारी रोग समूह डिमेंशा (DEMENTIA)की वजह बन सकता है। सिगरेट में मौज़ूद आर्सेनिक तथा सायनाइड विषाक्त तत्व दिमागी कोशाओं को नष्ट कर सकते हैं। ऐसे में ब्रेन अटेक (STROKE )का ख़तरा सहज ही बढ़ जाता है।

Virendra Kumar Sharma 

'मयंक का कोना'
--
नव वर्ष सबको मंगलमय हो।

अंतर्नाद की थाप पर Kaushal Lal 

--
नव-वर्ष पर- वंदना 
सब के जीवन में कर दो प्रभु
खुशियों की बौछार,
सब का जीवन सुख से भर दो,
सुखमय हो संसार...
उन्मेष Unmesh
मानसी पर 
Manoshi Chatterjee मानोशी चटर्जी 
--
कौन बनेगा प्रधानमंत्री ? 

काव्य मंजूषा पर स्वप्न मञ्जूषा 

--
नवागत वर्ष सन् 2014 ई. की 
हार्दिक शुभकामनाएं 

ग़ाफ़िल की अमानत पर 

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़ि
--
छः और क्षणिकाएँ 

कल जब मिलूंगा आपसे जानता हूँ- 
आप क्या कहेंगे 
और आप भी मेरा 
जवाब जानते हैं फिर भी/ 
फांदते हुए तमाम 
घटनाओं-दुर्घटनाओं को हम चले आते हैं... 
चले जाते हैं... एक शब्द पर सवार...
ज़िन्दग़ी के आकाश में पर 
उमेश महादोषी 
--
नए साल की नई कहानी 

पर्वत -सागर -माटी - पानी
नए साल की  रचो- कहानी ।
खेत हमे दें अन्न ढ़ेर सा
जल से भरें हो पोखर- ताल ।
बाग- बगीचे हरे भरें हों ,
फूलों की  सुरभित जयमाल ।
कोयल गाये गीत ख़ुशी के ,
लगे प्रकृति की  रानी ।
नए साल की  नई कहानी ।...
Fulbagiya पर हेमंत कुमार
--
२०१४ के लिए हार्दिक शुभकामनायें 

एक प्रयास मेरा भी पर अरुणा

--
ओढ़ चुनर सितारों की निशा ये जाने को है , 
सुनहरी चादर तान नव विहान आने को है 

सृजन मंच ऑनलाइन पर 
Annapurna Bajpai 
--
भोर सुहानी २०१४ नूतन वर्षाभिनंदन ! 

शस्वरं पर : राजेन्द्र स्वर्णकार

--
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें 

Sudhinama पर sadhana vaid 

--
शुभकामना देती ''शालिनी'' 
मंगलकारी हो जन जन को -२०१४ 

! कौशल ! पर Shalini Kaushik

--
नया साल 2014 मुबारक 

Kunwar Kusumesh

--
ऐ नव वर्ष के प्रथम प्रभात 

शब्द-शिखर पर Akanksha Yadav 

--
नववर्ष अभिनंदन 
स्वागत स्वागत,
नव वर्ष,
कण-कण में,
व्यापत है,
हर्ष -हर्ष ।..
आपका ब्लॉग पर रमेशकुमार सिंह चौहान

--
नये साल 
आना ही है तुझको 
मुझसे बुलाया नहीं जा रहा है 

उल्लूक टाईम्स पर सुशील कुमार जोशी

24 comments:

  1. नव वर्ष की शुभकामनाएं!
    सादर!

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दरचर्चा प्रस्तुति...!
    रविकर जी आपको नयेसाल 2014 की प्रथम चर्चा करने का सौभाग्य मिला है।
    बधाई हो।
    --
    सभी पाठकों और साथियों को ईस्वीय नववर्ष-2014 की हार्दिक शुभकामनाएं।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. हो जग का कल्याण, पूर्ण हो जन-गण आसा |
      हों हर्षित तन-प्राण, वर्ष हो अच्छा-खासा ||

      शुभकामनायें आदरणीय

      Delete
  3. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..
    चर्चामंच परिवार के साथ ही सभी ब्लॉगर्स साथियों और पाठकों को नए साल की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  4. चिट्ठा-चर्चा हो रही रंग-बिरंगी खासा
    बना रहे उत्साह,जुराए सबकी आशा

    ReplyDelete
  5. आभारी हूँ !
    नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  6. नव वर्ष शुभ और मंगल माय हो समस्त चर्चा मंच परिवार को |

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया लिंक्स व प्रस्तुति , आ० रविकर सर व मंच को नव वर्ष की बधाई एवं शुभकामनाएं , धन्यवाद
    नया प्रकाशन -: जय हो विजय हो , नव वर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  8. रोंप खुशियों की कोंपलें
    सदभावना की भरें उजास
    शुभकामनाओं से कर आगाज़
    नववर्ष 2014 में भरें मिठास

    नववर्ष 2014 आपके और आपके परिवार के लिये मंगलमय हो ,सुखकारी हो , आल्हादकारी हो

    ReplyDelete
  9. bahut hi sundar charcha jyadatar links par ho aayi hun

    ReplyDelete
  10. रविकर लौट के आया है
    नये वर्ष की नयी कोपलें
    ढूँढ ढूँढ कर यहाँ दिखाया है
    सज रही है चर्चा में आज
    बहुत नूर है मयंक केकोने
    ने भी बहुत गजब ढाया है :)

    आभार उल्लूक का कुछ उल्लूकपना 'नये साल आना ही है तुझको मुझसे बुलाया नहीं जा रहा है"
    भी यहाँ चिपकाया है !

    ReplyDelete
  11. चर्चा मंच पर पधारे सभी मित्रों को नव वर्ष की कोटि कोटि वधाइयां !
    चर्चामंच की सामयिक संयोजन-विधि हेतु साधुवाद !! मेरी रचना को प्रकाशित करने हेतु धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  12. नव वर्ष के अवसर पर बहुत ही सुंदर चर्चा ! मेरी प्रस्तुति को चर्चामंच पर आपने सम्मिलित किया इसके लिये आभारी हूँ ! सभी पाठकों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  13. नूतन वर्ष की शुभकामनायें.....................

    ReplyDelete
  14. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएं आदरणीय.. सारे बेहतरीन लिंक्स सजाये है . मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ..

    ReplyDelete
  15. आपको भी नव वर्ष 2014 के अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  16. सभी को आंग्ल-नववर्ष की शुभ कामनाएं ....

    ReplyDelete
  17. सुंदर चर्चा !
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
    Replies
    1. अति सुन्दर चर्चा मंच स्तरीय सेतु रविकर का लिख्खाड़ी रंग लिए। आभार हमारे सेतु चयन के लिए।

      Delete
  18. ख़ास काढ़ते खीस, देख ईश्वर की सत्ता |
    बिन उनके आशीष, हिले ना जग में पत्ता |

    हो जग का कल्याण, पूर्ण हो जन-गण आसा |
    हों हर्षित तन-प्राण, वर्ष हो अच्छा-खासा ||
    ख़ास चिठ्ठा २०१४ खोलेगा कच्चा पकी हुई कांग्रेस का .

    ReplyDelete
  19. अति सुन्दर चर्चा मंच स्तरीय सेतु रविकर का लिख्खाड़ी रंग लिए। आभार हमारे सेतु चयन के लिए।

    ReplyDelete
  20. नया साल 2014 मुबारक

    नया साल 2014 मुबारक

    Kunwar Kusumesh

    ReplyDelete

  21. अमरावती सी अर्णवनेमी पुलकित करती है मन मन को ,
    अरुणाभ रवि उदित हुए हैं खड़े सभी हैं हम वंदन को .
    ............................................................

    अलबेली ये शीत लहर है संग तुहिन को लेकर आये ,

    बहुत ख़ास रचना है २०१४ की ,कई चहरे बे नकाब होंगें चौदह में ,

    साल नया बनाये रहे। शहज़ादा आये चाहे जाए।
    --
    शुभकामना देती ''शालिनी''
    मंगलकारी हो जन जन को -२०१४

    ! कौशल ! पर Shalini Kaushik

    ReplyDelete

  22. अमरावती सी अर्णवनेमी पुलकित करती है मन मन को ,
    अरुणाभ रवि उदित हुए हैं खड़े सभी हैं हम वंदन को .
    ............................................................

    अलबेली ये शीत लहर है संग तुहिन को लेकर आये ,

    बहुत ख़ास रचना है २०१४ की ,कई चहरे बे नकाब होंगें चौदह में ,

    साल नया उत्साह आपका बनाये रहे। शहज़ादा आये चाहे जाए।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...