साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Tuesday, September 13, 2016

"खूब फूलो और फलो बेटा नितिन!" (चर्चा अंक-2464)

मित्रों 
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है। 
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

--
आज मेरे पुत्र का है जन्मदिन,
खूब फूलो और फलो बेटा नितिन!
--
--
बकरे की माँ कब तक, अपनी खैर मना पाएगी।
बेटों के संग-संग, उसकी भी कुर्बानी हो जाएगी।।

बकरों का बलिदान चढ़ाकर, ईद मनाई जाती है।
इन्सानों की करतूतों पर, लाज सभी को आती है... 
--

क्यों खड़े कर दिए मकाँ इतने ... 

दिख रहे ज़ुल्म के निशाँ इतने 
लोग फिर भी हैं बे-जुबां इतने... 
Digamber Naswa 
--
--

जब से कर ने गही लेखनी 

जब से कर ने गही लेखनी 
शीश तान चल पड़ी लेखनी 
बिन लाँघे देहरी-दीवारें 
दुनिया भर से मिली लेखनी... 
मैं ग़ज़ल कहती रहूँगी पर कल्पना रामानी 
--
--

वो तन्हा था क्या करता,
हाल -ए-दिल भी जो न कहता,
तुझे दीवानगी की  उसकी,
कभी पता लगता, ना लगता... 

--

दरमियाँ अपने ये पर्देदारियाँ 

जल रहीं जो याँ दिलों की बस्तियाँ 
कब गिरीं इक साथ इतनी बिजलियाँ... 
चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 
--
--
--

मैं पथिक 

मैं पथिक किस राह की ढूँढूँ पता 
गली गली मैं विकल 
मुक्तामणि सी फिरूँ यहाँ वहाँ... 
एक प्रयास पर vandana gupta 
--
--
--
--
--
--
--
--

3G मोबाइल मे 4G Jio सिम चलाये 

3G मोबाइल में 4G Jio SIM चलाने का तरीक़ा

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर लिंक्स शास्त्री जी आपका हृदय से आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति ...आभार!

    ReplyDelete
  3. नितिन को जन्मदिन पर शुभकामनाएं । सुन्दर मंगलवारीय अंक ।

    ReplyDelete
  4. उम्दा लिंक्स संयोजन |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...