Followers


Search This Blog

Tuesday, June 01, 2021

"वृक्ष"' (चर्चा अंक 4083)

सादर अभिवादन 

आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है

(शीर्षक और भूमिका आदरणीया अनीता सुधीर जी की रचना से ) 


"भोजन का निर्माण कर ,वृक्ष करे उपकार।
प्राणवायु देते सदा ,जो जीवन आधार ।।"

"वृक्ष " प्राणवायु देने के आधार है और ये बात पिछले कुछ दिनों से प्रकृति हमें भली-भांति समझा रही है 
ऐसा नहीं था कि -पहले हम ये बात नहीं जानते थे मगर, हमारी तो आदत है सब जानते हुए भी अनजान और लापरवाह बन गलतियां करते रहना.... 
अनीता जी हमें फिर से याद दिला रही है इस सुंदर मनमोहक रचना के माध्यम से... 
आईये शपथ ले,हम से जितना हो सकेगा हम वृक्षारोपण करेंगे... 
आनंद उठाते हैं कुछ बेहतरीन रचनाओं का   

------------------------

 वृक्ष




वृक्ष काटते जा रहे, पारा हुआ पचास।
वृक्षों का रोपण करें,इस आषाढ़ी मास ।।

जड़ें मृदा को बाँधतीं, लगे बाढ़ पर रोक।
 वृक्ष क्षरण जब रोकते, तभी मिटे ये शोक।।

----------------





प्रीत जगे जिस घट अंतर में 

वही कुसुम सा विहँसे खिल के, 

यह वरदान उसी से मिलता 

जो माधव मधुर सलोना है !



---------------------------------

-------------------------------------


विदिशा ने देखा, चन्दन क्लास ख़त्म होने के बाद उसके पीछे-पीछे चला आ रहा था। वह कैन्टीन की तरफ मुड़ गई। कैन्टीन में काउन्टर पर एक चाय का आर्डर कर पेमेन्ट करके वह एक टेबल पर आ गई। कैन्टीन में इस समय एक लड़का और दो लड़कियाँ एक अन्य टेबल पर बैठे हुए थे। अभी चाय आई ही थी कि सामने वाली कुर्सी पर चन्दन आकर बैठ गया। 


-----------------------





कितना सबकुछ 

छूट जाता है ना पीछे

समय के साथ।

मां की गोद

उसका वो 

अकेले क्षणों का दुलार।


------------------------------------



हमकदम कैसा होता





कैसे रहते इस दुनिया में अकेले

कोई तो चाहिए था साथ के लिए

 हमारे जैसी सोच का मालिक होता

हम कदम होता हर पल साथ देता |



---------------------------




"क्यों लगती है प्यास ?

न पूछो मुझसे छुटकूलाल ।"

कहते--कहते गर्मी जी का ,

चेहरा होगया लाल ।

"सर्दी ने गुड ,गजक ,बाजरा ,

 उड़द मखानी दाल ,

 तिल की टिक्की गरम मँगौड़े,

 परसे भर-भर थाल ।


---------------------------------


ईश्वरीय आस्था सच में बहुत बड़ी होती है।



 ईश्वरीय आस्था सच में बहुत बड़ी होती है, इतनी बड़ी कि उसके आगे दुनिया की हर चीज छोटी है नजर आती है.

भगवान श्री राम के प्रति आस्था को और मजबूत करती है यह फोटो


-----------------------------


गुड़हल (hibiscus) से सफेद कीड़े (mealybugs) को कैसे हटाएं?




----------------------

अपनत्व मित्र मंडली | कहानी | डाॅ. (सुश्री) शरद सिंह 




‘‘हैलो, मैं सिया बोल रही हूं.... नहीं-नहीं राकेश जी, आप अपने आपको अकेला न समझें हम सभी आपके साथ हैं। खाने के पैकेट्स तो आपको मिल रहे हैं न? नहीं-नहीं, संकोच मत करिए हम सभी आपके मित्र भी हैं, भाई भी, बहन भी। हम सब आपका परिवार हैं। जो भी ज़रूरत हो निःसंकोच बताइए...।’’
----------------------------------
सिर्फ सोशलमीडिया पर ही नहीं जम़ीन पर भी पेड़ लगाएं इस पर्यावरण दिवस पर





बात 𝟮𝟬𝟭𝟵 की है, जब मैनें शिक्षक दिवस पर शिक्षकों को तोहफ़े में पौधे दिये थे, मुझे पता था, कि हर कोई उसकी कीमत नहीं समझेगा ! इस लिए पौधे के साथ कुछ चीजे उपहार स्वरूप भेंट की थी! सभी शिक्षकों ने खुशी - खुशी मेरे तोहफ़े को स्वीकार कर लिया और मेरे भौतिक विज्ञान के सर बोले इससे बेहतर उपहार कुछ और हो ही नही सकता ! तारीफ़ का पुल ही बांध दिया था उन्होंने !

---------------------------------------------------------

आज का सफर यही तक,अब आज्ञा दें 

9 comments:

  1. 𝘼𝙡𝙡 𝙖𝙧𝙩𝙞𝙘𝙡𝙚 &𝙥𝙤𝙚𝙢𝙨 𝙞𝙨 𝙗𝙚𝙨𝙩 𝙗𝙪𝙩
    सिर्फ सोशलमीडिया पर ही नहीं जम़ीन पर भी पेड़ लगाएं इस पर्यावरण दिवस पर 𝙞𝙨 𝙗𝙚𝙨𝙩 𝙖𝙧𝙩𝙞𝙘𝙡𝙚 𝙞𝙣 𝙩𝙝𝙚 𝙖𝙡𝙡 𝙥𝙤𝙨𝙩 .𝙄 𝙩𝙝𝙞𝙣𝙠 𝙨𝙖𝙗𝙠𝙤 𝙧𝙚𝙖𝙙 𝙠𝙖𝙧𝙖𝙣𝙖 𝙘𝙝𝙖𝙝𝙞𝙮𝙚 𝙮𝙚 𝙖𝙧𝙩𝙞𝙘𝙡𝙚 𝙗𝙚𝙘𝙖𝙪𝙨𝙚 𝙩𝙝𝙞𝙨 𝙞𝙨 𝙫𝙚𝙧𝙮 𝙪𝙨𝙚𝙛𝙪𝙡 𝙖𝙧𝙩𝙞𝙘𝙡𝙚 𝚂𝚘 𝙸 𝚛𝚎𝚚𝚞𝚎𝚜𝚝 𝚝𝚘 𝚊𝚕𝚕 𝚙𝚕𝚎𝚊𝚜𝚎 𝚛𝚎𝚊𝚍 𝚝𝚑𝚒𝚜 𝚊𝚛𝚝𝚒𝚌𝚕𝚎 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  2. चर्चा में सामिल सभी रचनाएँ और लेख बहुत ही खूबसूरत है और उपयोगी! मेरी पोस्ट को चर्चा मंच में सामिल करने के लिए तहेदिल से धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. बहुत आभार आपका कामिनी जी। आभारी हूं आपको मेरी रचना पसंद आई और उसे सम्मान देने के लिए। सभी चयनित रचनाएं बहुत अच्छी हैं। कुछ देख ली है कुछ अभी देखनी बाकी हैं।

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद आपका मेरी रचना को स्थान देने के लिए इस अंक में 0

    ReplyDelete
  5. पर्यावरण दिवस के आगमन की सूचना देती भूमिका और लेखों से सजा चर्चा मंच, आभार !

    ReplyDelete
  6. बहुत ही शानदार प्रस्तुति
    आद. कामिनी जी
    बहुत-बहुत धन्यवाद
    आपने मेरी पोस्ट को स्थान दिया आज की चर्चा मंच की पोस्ट में .....

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचनाओं के लिंक्स से सुसज्जित इस अंक में मेरी कहानी 'हरे जख्म' को स्थान देने के लिए आ. कामिनी जी का हार्दिक स्नेहिल आभार! सभी लेखकों को बधाई!

    ReplyDelete
  8. वाह लाजबाव कृतियों का संकलन

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।