Followers

Sunday, August 15, 2021

"आजादी का मन्त्र" (चर्चा अंक-4157)

आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें 

 सादर अभिवादन 

आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है। 

(शीर्षक आदरणीय शास्त्री सर की रचना से )

हर इक वासी के अंतर मन

देश प्रेम अभिमान बने।

ऐसी ज्योत जगे अंतस में

मातृ भूमि का मान बने।

आदरणीया कुसुम जी की ये पंक्तियाँ आत्मसात करने योग्य है। 

प्रत्येक भारतवासी के लिए एक मंत्र है। 

देश भक्ति निभाने का दायित्व सिर्फ सीमा के जवानों का नहीं है... 

हर एक देश वासी का है.... 

और ये दायित्व हम सिर्फ और सिर्फ अपने कर्तव्यों का सच्चे दिल से निर्वाह करके ही पूरा कर सकते हैं। 

देश से,सरकार से हमें शिकायतें तो बहुत है... 

परन्तु क्या हम एक बार भी खुद का मंथन करते हैं ...?

कि -हमने क्या किया है देश के लिए....देश के लिए छोड़े समाज के लिए.. 

समाज को भी छोड़े....अपने घर-परिवार के प्रति भी हमने अपनी सच्ची जिम्मेदारी निभाई है ?

यदि हमने अपने घर-परिवार के प्रति भी अपनी सच्ची जिम्मेदारी निभाई है

तो, हमें किसी से भी शिकायतें नहीं होगी...क्योंकि एक हद तक हमने देश की सेवा कर ली। 

अपने-अपने घर के सदस्यों का चरित्र निर्माण कर लिया तो...हो गया देश के चरित्र का निर्माण 

क्योंकि मेरी समझ से तो...घर से ही समाज बनता है और समाज से देश.... 

शिकायतें छोड़ कर्तव्य निभाना होगा...

आज सिर्फ और सिर्फ देश-भक्ति के रंग में सराबोर हो जाए....

-------------------------------

 "आजादी का मन्त्र" 

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)






मुश्किल से हमको मिला, आजादी का तन्त्र।
सबको जपना चाहिए, स्वतन्त्रता का मन्त्र।१।
--
आजादी के साथ में, मत करना खिलवाड़।
तोड़ न देना एकता, ले मजहब की आड़।२।

------------------------------

मेरा देश मेरा सम्मान





वीरों की यह जननी पावन

ये गौरव है संतों का 

उपनिषदों का ज्ञान अनूठा

वेद पुरातन पंतों का 

शीश झुका सौगंध उठाएँ

नित प्रसस्ति गान बने।।


----------------


तू अरूप है भारत माता



पुण्य भूमि, हे भारत माता  

हर वासी मुस्काता, गाता,

आज़ादी का जश्न मनाने 

लो एक हुजूम चला आता !


---------------


विजयी विश्व तिरंगा प्यारा




मस्ती में झूमे

सातों गगन चूमे

 तिरंगा प्यारा !

मिली आज़ादी

विहँसी माँ भारती

 प्रफुल्ल देश !


---------------------

डायरी के पन्नों से ..."स्वतंत्रता-दिवस...(?)"



  15अगस्त का पावन दिवस- हमें अंग्रेजों की दासता से मुक्ति मिल गई सन् 1947 में, हम स्वाधीन हो गए। लेकिन ... लेकिन क्या हम सच में स्वतन्त्र  हैं ?
------------------



  • जब आती है हको को मिलने की बारी।
    जाति-धर्मो में उलझाने की करते तैयारी।
    हर भेड़- चाल उनकी समझना होगा।
    साथियों लड़ना होगा, हमें लड़ना होगा।

  • -----------------------------------

  • सच्ची देश भक्ति मेरी नज़र में


  • भले ही हमारे समाज के लोग 

    बालश्रम, बाल विवाह 

    और कन्या भ्रूण हत्या करते हैं , 

    पर देश से प्यार बहुत करते हैं!! 

  •    ◦•●◉✿✿◉●•◦
  • --------------------




  •  "15 अगस्त" वो दिन, जिस दिन पहली बार हमारे देश का  ध्वज "तिरंगा" लहराया और हमें भी उन्मुक्त होकर उड़ने की आजादी मिली।हम हिन्दुस्तानियों  के लिए हर त्यौहार से बड़ा, सबसे पावन त्यौहार है ये।यकीनन होली, दिवाली ,दशहरा ,ईद ,बकरीद ये सारे त्यौहार हम सब कभी भी इतने उत्साह पूर्वक नहीं मना पाते अगर, ये आज़ादी के दिन हमें  नसीब नहीं होते। 
------------------

एक बार फिर से 
आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें 
  • आज का सफर यही तक,अब आज्ञा दें 

    आप सभी स्वस्थ रहें,सुरक्षित रहें 

    कामिनी सिन्हा 

18 comments:

  1. देश भक्ति के रंगों में सराबोर मन में जोश और उल्लास भरने वाली प्रस्तुति!
    सभी देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  2. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. स्वतंत्रता दिवस पर बहुत सुंदर सजा हुआ अंक,मेरी तरफ से सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं एवम बधाई ।

    ReplyDelete
  4. स्वतंत्र भारत के 75 वें वर्ष में पदार्पण करने पर सभी को बधाइयाँ। गर्व है भारतीय होने पर। सारे जहाँ से अच्छा हिंदोस्तां हमारा।
    सुंदर अंक प्रस्तुति के लिए बधाई प्रिय कामिनी।

    ReplyDelete
  5. समस्त साहित्य-शिल्पियों को स्वतंत्रता-दिवस की भावभीनी बधाई व शुभकामनाएँ! बहुत ही सुन्दर भूमिका के साथ चर्चा-अंक की प्रस्तुति व सुन्दर रचनाओं को इस पटल पर स्थान देने के लिए आदरणीया कामिनी जी को बहुत बधाई! मेरी रचना- डायरी के पन्नों से ..."स्वतंत्रता-दिवस...(?)" को भी कामिनी जी ने इसमें सम्मिलित किया है, तदर्थ स्नेहिल आभार!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति हेतु हार्दिक बधाई आदरणीय कामिनी दी जी।
    स्वतंत्रता दिवस की ढेरों बधाइयां।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं मैम! आपकी जिंदगी जितनी लंबी उससे कहीं ज्यादा बड़ी हो और आप कामयाबी की नई बुलंदियों तक पहुंचे !आप हमेशा खुश और मुस्कुराती रहे!आपके जीवन में कभी भी प्यार और अपनेपन की कमी ना हो हमेशा अपनों का साथ बना रहे!

      Delete
    2. दिल से आभार प्रिय मनीषा।
      अत्यंत हर्ष हुआ।
      सादर स्नेह

      Delete
  7. सभी प्रबुद्ध साथियों को स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं।
    बहुत सुंदर अंक, भाव विभोर अंक इतने सुंदर संदेशात्मक लिंक एक साथ मन पुलक उठा कामिनी जी सुंदर श्रमसाध्य
    चर्चा।
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।
    मेरी रचना को आज के विशिष्ठ दिवस पर चर्चा में सजाने के लिए अंतर हृदय से आभार।
    सस्नेह ,सादर।

    ReplyDelete
  8. आज स्वतंत्रता दिवस के साथ ही हमारी प्यारी अनिता सैनी जी का अवतरण दिवस भी है ।
    उन्हेंं जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई।

    हँसते हो तो मधुबन खिलते
    घुंघरू जैसे बजते।
    जीवन पथ पर सपन सुनहरे
    नित नित सुंदर सजते।।

    जन्म दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिल से आभार प्रिय कुसुम दी जी आपके स्नेह से भाव विभोर हो गई शब्द का अभाव सा लगा कि क्या लिखूँ।
      आपके वात्सल्य से हृदय की परते भीग गई।
      अनेकानेक आभार।
      सादर प्रणाम

      Delete
  9. स्वतन्त्रता दिवस पर हार्दिक शुभकामनायें, सार्थक भूमिका के साथ पठनीय रचनाओं से सजा सँजो रखने लायक अंक, आभार !

    ReplyDelete
  10. स्वतंत्रता दिवस पर बहुत सुंदर लिंको से सजा हुआ अंक। सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन प्रस्तुति कामिनी जी, सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं एवं सब गुणीजनों को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  12. नमस्कार साथियों ! आप सभी को स्वतन्त्रता दिवस की हीरक जयंती की हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं ! आज की चर्चा में बहुत सुन्दर सूत्रों का संयोजन ! मेरी हाइकु रचना को भी स्थान दिया ! आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार कामिनी जी ! सप्रेम वन्दे ! वंदे मातरम !

    ReplyDelete
  13. चर्चा मंच पर उपस्थित होकर उत्साहवर्धन करने हेतु हृदयतल से धन्यवाद आप सभी को,
    प्रिय अनीता जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई परमात्मा तुम्हें वो सारी खुशी दे जिसकी तुम हकदार हो।
    प्रस्तुति लगाने के बाद फेसबुक से तुम्हारे जन्मदिन की सुचना मिली, पहले जानती तो मंच पर ही कुछ विशेष करती।

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर और सार्थक लिंक मिले पठन हेतु

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।