Followers

Tuesday, September 27, 2016

दाता अपने नाम, भेजते रहिए डाटा-चर्चा मंच : 2478


दाता अपने नाम, भेजते रहिए डाटा- 

रविकर 
Satish Saxena 
बैरी है ललकारता, प्रतिदिन होकर क्रुद्ध।
हिम्मत है तो कीजिए, आकर उससे युद्ध।।
--
बन्दर घुड़की दे रहा, हो करके मग़रूर।
लेकिन शासक देश के, बने हुए मजबूर।।... 

चक्रव्यूह 

संगीता स्वरुप ( गीत ) 

ग़ज़ल - 

हज़ार दर्द सुनाना है बात क्या करना 

Naveen Mani Tripathi 

सरकारें किसानो के वोट से बनती हैं 

Randhir Singh Suman 

कार्टून :-  

ख़ुश-आमदीद, सुस्‍वागतम्, जीआएआंनू, वेलकम ... 

Kajal Kumar 

सिंधु संध‌ि पर भयभीत पाक 

सुधीर राघव 

खारुन नदी के संग-संग सफ़र: 

उद्गम से पदयात्रा 

ब्लॉ.ललित शर्मा 

शांति..शांति..ये कैसी है पहेली 

rohitash kumar 

थके हुए कुछ लोग.. 

मनोरंजन कुमार तिवारी 

yashoda Agrawal 

कार्टून :-  

ठंडाई और रजाई 

Kajal Kumar 


4 comments:

  1. सार्थक लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. उम्दा चर्चा रविकर जी |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद |

    ReplyDelete
  3. अच्छी चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...