चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, September 28, 2016

तू कर बहाना बैठकर आंसू बहाना सीख ले: चर्चा मंच 2479


तू कर बहाना बैठकर आंसू बहाना सीख ले 

रविकर 
जब धाक धाकड़ आदमी छल से जमाना सीख ले |
सारा जमाना नाम धन-दौलत कमाना सीख ले |
ईमान रिश्ते दीन दुख जब बेंच खाना सीख ले |
तू कर बहाना बैठकर आंसू बहाना सीख ले || 

खाया-पिया कुछ नहीं……..  

गिलास तोडा बारह-आना 

haresh Kumar 

मुस्लिम महिलाओं को भी मिले 

तीन तलाक का अधिकार 

Shalini Kaushik 

छत्तीसगढ़ की ब्रांड एम्बेसडर 

पंडवानी गायिका तीजनबाई - 

विनोद साव 

विनोद साव 

पटरि‍यों सी जिंदगी 

रश्मि शर्मा 

संवेदनहीनता की इन्तहां 

Veena Sethi 

कबीरा मन निर्मल भया जैसे गंगा नीर , 

पाछै लागै हरि फिरै ,कहत कबीर कबीर। 

Virendra Kumar Sharma 

दोहे 

"निज पुरुखों को याद" 

(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक') 

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति रविकर जी ।

    ReplyDelete
  3. उम्दा लिंक्स आज की |

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin