समर्थक

Tuesday, November 20, 2012

-मंगलवारीय चर्चा मंच (1069)क्या है हमारे दरमियाँ?


आज की मंगलवारीय चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते आप सब का दिन मंगल मय हो चर्चामंच सभी किस्म के फूलों का गुलदस्ता है  इसकी खुशबू  सभी को महकाए मेरी शुभ कामनाएँ 
अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 

"अमर वीरंगना लक्ष्मीबाई के 

155वें बलिदान-दिवस पर"



अमर वीरांगना झाँसी की महारानी लक्ष्मीबाई के
155वें बलिदान-दिवस पर उन्हें अपने श्रद्धासुमन समर्पित करते हुए
श्रीमती सुभद्राकुमारी चौहान की
यह अमर कविता सम्पूर्णरूप में प्रस्तुत कर रहा हूँ!
सिंहासन हिल उठेराजवंशों ने भृकुटि तानी थी,
बूढ़े भारत में भी आई फिर से नई जवानी थी,
गुमी हुई आजादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी,
चमक उठी सन् सत्तावन में वह तलवार पुरानी थी।
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी।
खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी...

अवसान के बाद का मूल्यांकन !

संतोष त्रिवेदी at बैसवारी baiswari - _______________________________________________

प्रेमान्ध परिजन : संकट भी और सम्पत्ति भी

noreply@blogger.com (विष्णु बैरागी) at एकोऽहम्
_______________________________________________

पहचान

_______________________________________________

लेंड-क्रूजर का पहिया

Mukesh Kumar Sinha at जिंदगी की राहें -
_______________________________________________ 

ख्यालों की भीड़ में !!!


सदा at SADA 
_______________________________________________

"कन्यादान" ............एक सामाजिक कुरीति

_______________________________________________

सुना है तुमको सब से है मुहब्बत - नवीन

NAVIN C. CHATURVEDI at ठाले बैठे - 
_______________________________________________

डॉक्टरों का अनैति

चरित्र

ZEAL at ZEAL
_______________________________________________

एक पुकार सदा आती है

_______________________________________________

बासी दीपावली को लेकर काफी बातें हुईं हैं हमारे मालवांचल 

में बासी दीपावली और बासी ईद दोनों मनाई जाती हैं तो

 

आइये मुस्तफा माहिर तथा तिलक राज जी के साथ मनाते हैं

बासी दीपावली

पंकज सुबीर at सुबीर संवाद सेवा - 
___________________________________________

Keith Whitley - Between An Old Memory And Me


यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) at गीत-संगीत -

______________________________________________________________________

जब जलने लगे सूरज मेरी खिड़की पर

swati at swati
_________________________________________________
_______________________________________________________________________

हिन्दी फ़िल्मों में मानसिक रोग और मानसिक विकलाँगता

sunil deepak at जो न कह सके -
_________________________________________________ 
noreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय) at जाले - 
_________________________________________________

हिन्दू पाकिस्तान में, झेल रहे हैं दंश -रविकर

रविकर at "लिंक-लिक्खाड़" - 
__________________________________________

यथार्थ के धरातल 

...

udaya veer singh at उन्नयन (UNNAYANA) -
__________________________________________

Hotel- Candy Rajputana and Ummed Bhawan

 

होटल कैन्डी राजपूताना उम्मेद भवन

संदीप पवाँर (Jatdevta) at जाट देवता का सफर - 
__________________________________________
_

क्या है हमारे दरमियाँ?

Mridula Harshvardhan at अभिव्यक्ति - 
_____________________________________________

युग पुरुषों को भी जाना पड़ता

__________________________________________

पानी में तैरते स्कूल

__________________________________________

अनुरोध

__________________________________________

टीवी न्यूज : निकालते रहो टमाटर से हनुमान !

महेन्द्र श्रीवास्तव at TV स्टेशन ... - 
__________________________________________

हम वर्तमान में कब जीते हैं?



___________________________________________


अंत में मिलिये शास्त्री जी के साथ 

एक अच्छे इंसान से उनके ब्लॉग मंच पर "राजनेता से बढ़कर एक अच्छा इन्सान"

___________________________
बस आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ अगले मंगल वार फिर मिलूंगी कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय 
**********************************************************************

24 comments:

  1. सुन्दर चर्चा!
    छठपूजा की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बढिया चर्चा सजायी है । आभार आपका इन सुंदर लिंक्स को छांटकर लाने के लिये

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर लिंक्स्

    ReplyDelete
  4. rajesh ji
    charcha manch par meri rachna ko sthan dene ke liye hardik dhnyvaad .... sundar link sanyojan...bas abhi kuchh aur baaki rahte hain...

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स का संयोजन किया है आपने ... आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्‍छे लिंक्‍स

    ReplyDelete
  7. बढिया लिंक्स
    मुझे स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  8. बहुत प्यारे लिंक्स दिये हैं राजेश जी....
    हमारे लिंक्स को शामिल करने का शुक्रिया...
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  9. राजेश जी, सचमुच भावों की खुशबू से महकते हुए लिंक्स..आभार!

    ReplyDelete
  10. क्या है हमारे दरमियाँ?

    क्या है हमारे दर मियाँ ??



    भाईचारा प्यार विछोह

    मिलेंगे लिंक सुघड़ मियाँ ।



    फिरका परस्ती से दूर

    रचनाएं हैं सुन्दर मियां ।



    स्वास्थ्य शिक्षा मसले कई

    हैं तालियाँ नहिं गालियाँ ।।



    आकर बाचो तो सही-

    फड़केंगी शिराएँ -धमनियाँ ।।



    बहुत बढ़िया आदरेया दीदी राजेश ।।

    ReplyDelete
  11. टीवी न्यूज : निकालते रहो टमाटर से हनुमान !
    महेन्द्र श्रीवास्तव
    TV स्टेशन ...
    अन्धा व्यवसायीकरण, हंगामे का दौर |
    दुनिया जाये भाड़ में, सिर्फ कमाई गौर |

    सिर्फ कमाई गौर, मूल्य का हो अवमूल्यन |
    पत्रकारिता पीत, दीखता है हल्का पन |

    रविकर का अनुरोध, बना मत इसको धंधा |
    लगे वेश्या-वृत्ति, रास्ता आगे अंधा ||

    ReplyDelete
  12. अवसान के बाद का मूल्यांकन !
    संतोष त्रिवेदी
    बैसवारी baiswari
    कुछ कहना नहीं चाहता था इस विषय पर-
    पर मित्र के लेख ने मनोभावों को प्रकट करने का मौका दिया -आभार वैसवारी ||

    जहाँ मराठी अस्मिता, मारी हिंदु हजार |
    हिंदु-हृदय सम्राट पर, कौन करे एतबार |
    कौन करे एतबार, कई उत्तर के वासी |
    होते वहाँ शिकार, होय हमला वध फांसी |
    दोहन भय का दिखा, नहीं है कोई शंका |
    कृष्णा उद्धव राज, खौफ का बाजे डंका ||

    ReplyDelete
  13. ख्‍यालों की भीड़ में !!!
    सदा
    SADA
    समझौते की जिंदगी, अस्त व्यस्त शत-ख्याल |
    इक अलबेला ख्याल ले, चलती आज सँभाल ||

    ReplyDelete

  14. क्योंकि तू सच बोलता है.
    (पुरुषोत्तम पाण्डेय)
    जाले
    चाक चला जिभ्या चली, हो मुखिया की मौत |
    बेटा मुखिया बनेगा, पोता फिर पर पौत |
    पोता फिर पर पौत, रीति है बनी यहाँ की |
    तू बैठा मत सोच, लगाता बुद्धि कहाँ की |
    चले उन्हीं का जोर, हाथ में लाठी जिनके |
    सत्य तुम्हारा व्यर्थ, दिया रख अपने गिनके ||

    ReplyDelete
  15. एक सुन्दर प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी रही आज की चर्चा | बहुत सारे पठनीय सूत्र |
    आभार |

    ReplyDelete

  17. बेह्तरीन अभिव्यक्ति .

    ReplyDelete
  18. आप सभी का बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर चर्चा राजेश कुमारी जी! आभार

    ReplyDelete
  20. राजेश कुमारी जी, मेरे आलेख को चर्चा मँच पर स्थान देने के लिए बहुत धन्यवाद :)

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुन्दर सूत्र..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin