Followers

Search This Blog

Thursday, November 15, 2012

पावन पर्व समूह ( चर्चा - 1064 )

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
पर्व समूह में आज भैया दूज है । इस पावन त्यौहार की सबको हार्दिक शुभकामनाएँ ।
अब चलते हैं चर्चा की ओर 
no-comments
ब्लॉग"दीप"
ईको प्वाइंट 

रंगमंच पर तुगलक 

वीडियो जारी 
****************
आज के लिए बस इतना ही 
धन्यवाद 
दिलबाग विर्क 
****************



24 comments:

  1. बहुत शानदार और जानदार लिंकों के साथ उत्तम चर्चा!
    आभार दिलबाग जी का।
    --
    पर्वों की श्रृंखला में भाईदूज, अन्नकूट पूजा, के साथ-साथ दीपावली धनतेरस और नर्क चतुर्दशी की हारिदक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन सूत्रों के साथ बहुत सुंदर चर्चा !

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सूत्रों से सजी चर्चा..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर चर्चा | बढ़िया सूत्र संकलन | कुछ लिंक्स पर गया |
    "रविकर कलम घसीटें नियमित" का लिंक आपके पोस्ट पर ले जा रहा है विर्क सर | कृपया देख लें, और दिक्कत को दूर कर दें |

    आभार |

    ReplyDelete
  5. बहुत ही लिंक्‍स संयोजित किये हैं आपने ... बेहतरीन चर्चा

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया चर्चा पठनीय सूत्र मिले बहुत बहुत बधाई सभी को भाईदूज की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. बढ़िया प्रस्तुति ।

    आभार भाई दिलबाग जी ।।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर लिंक संयोजन्…………बढिया चर्चा

    ReplyDelete
  9. अत्यंत सुन्दर कड़ियों का संयोजन ..
    आभार एवं शुभ कामनाएं दिलबाग जी

    ReplyDelete
  10. badhiya charcha ... kai pathaniy link milen ...

    ReplyDelete
  11. सोंधी सी मिटटी के तपे हुए दीपक


    मिट्टी जल में गूँथते , देती हवा सुखाय ।

    पावक में दहकाय के, क्षिति ले दिया बनाय ।

    ReplyDelete
  12. ब्लॉग जगत में नया "दीप"
    ब्लॉग"दीप"

    ब्लॉग दीप को भेंटता, घृत रूपी आशीष |
    सोच सार्थक हो सके, करहु कृपा जगदीश |

    ReplyDelete
  13. लिंक-2
    भाई दूज की शुभकामनायें ।
    श्रीकृष्ण ने कर दिया, माँ का ऊँचा भाल।
    सेवा करके गाय की, कहलाये गोपाल।

    ReplyDelete
  14. लिंक - 3
    पर्वों की है श्रृंखला, करो प्रेम व्यवहार।
    हँसी-खुशी से सभी को, देना कुछ उपहार।।

    ReplyDelete
  15. लिंक-4
    तम हरने के वास्ते, खुद को रहा जलाय।
    दीपक काली रात को, आलोकित कर जाय।

    ReplyDelete
  16. लवीजा पर
    जिस दिन लाल जवाहर ने था,
    जन्म जगत में पाया।
    उसका जन्मदिवस भारत में
    बाल दिवस कहलाया।।

    ReplyDelete
  17. बालदिवस
    बच्चों को जो सदा प्यार से,
    हँसकर गले लगाता था।
    इसीलिए तो लाल जवाहर,
    चाचा जी कहलाता था।
    अपने जन्मदिवस को जिसने,
    बालकदिवस बनाया।
    उसका जन्मदिवस भारत में
    बाल दिवस कहलाया।।

    ReplyDelete
  18. जील के लिए
    चाचा नेहरू का किया, तिरस्कार अपमान।
    आजादी की जंग में, कुछ था इनका दान।।

    ReplyDelete
  19. प्राण शर्मा की ग़ज़लें-
    बहुत उम्दा ग़ज़ले!
    पढ़वाने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  20. शिक्षा कितनी आवश्यक है!
    छात्र और शिक्षक अगर, सुधर जाएँगे आज।
    तो फिर से हो जाएगा, उन्नत देश-समाज।।

    ReplyDelete
  21. गोवर्धन पूजा पर सार्थक दोहे
    गौमाता की रक्षा का सन्देश देती बढ़िया रचना
    आदरणीय शास्त्री जी हार्दिक बधाई
    बेटे के नाम माँ का पत्र
    अत्यंत मार्मिक प्रस्तुति है
    माँ की ममता सदैव अपने बेटों की शुभकामना के लिए ही जीती है|
    तुम हमेशा सलामत रहो ,खुश रहो
    नेक कर्म और परिश्रम बस करते रहो
    ये ही बस तुमसे जुडी ख़वाइश है मुझे .....
    तुम्हारी माँ
    बाल दिवस पर अच्छी प्रस्तुति है
    आदरणीय रश्मि तारिका जी हार्दिक बधाई
    जवानी सबको भाती है चलो हम मान लेते हैं
    बुढापा सबको भाता है कभी हमने नहीं देखा।
    प्रवासी भारतीय श्री प्राण शर्मा की गजल
    बेहद उम्दा गजल है हार्दिक बधाई आदरणीय प्राण शर्मा जी
    भीड़ का दस्तूर
    बहुत उम्दा लाजवाब
    गहरे भाव पूर्ण यह गजल ने दिल जीत लिया है
    आदरणीय रघुनाथ सिंह जी हार्दिक बधाई
    महेंद्र श्रीवास्तव जी का केजरीवाल पर लेख बढिया लगा
    रविकर जी की कलम घसीट ने गद गद किया
    अलबेला जी की प्रस्तुति साक्षात् अलबेला जी को गाते देखा प्रवाहमय छंद ....मजा आगया
    सभी अच्छे संकलन हैं
    बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।