Followers

Thursday, November 29, 2012

संक्षिप्त चर्चा - 1078

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
ब्राडबैंड ठप्प पड़ा है डोंगल की धीमी स्पीड पर चर्चा लगाने का प्रयास है , 
चलते हैं चर्चा की और
Photo: आज जिन वैज्ञानिक शोधों पर अंग्रेजों (न्यूटन, मेंडलीफ, डार्विन) का टैग लगा है, वो सबकुछ तो हमारे भारतीय वैज्ञानिक कबका ढूंढकर उस पर ग्रन्थ लिख गए ! लेकिन अंग्रेजी हुकूमत ने हमारे विश्वविद्यालयों (जैसे-नालंदा आदि) को नष्ट कर दिया और पांडुलिपियों को जला दिया ताकि किसी भी भारतीय विद्वान् का नाम न हो सके ! अरे ये लोग समझेंगे हनारे ज्ञानी -ध्यानी और विद्वान् ऋषि मुनियों और वैज्ञानिकों को (जैसे आर्यभट्ट , पतंजलि, कणाद,  सी वी रमन  आदि)  ! नीचे तालिका में देखिये जो ऋषि कणाद द्वारा पूर्व में वर्णित किया जा चुका  है , उसे कितनी आसानी से न्यूटन की खोज कह दिया गया ! और भारतीय सिलेबस/ किताबों में भी न्यूटन का नाम मिलेगा आर्यभट्ट और कणाद आदि विद्वान् वैज्ञानिकों का नहीं ! गुलामी की इससे बड़ी मिसाल और क्या होगी !
मेरे काव्य गुरु <br>प्रात: स्मरणीय परमादरणीय कविरत्न स्व. श्री यमुना प्रसाद चतुर्वेदी 'प्रीतम' जी
अभी सम्भावना  है....
Select Google+ Followers Gadget - How to add Google+ Followers Gadget?
Karbonn A21 ( Front View )
मेरा फोटो
आज की संक्षिप्त चर्चा में इतना ही
धन्यवाद
*****************

18 comments:

  1. वाह...!
    व्यष्टि में समष्टि!
    बहुत अच्छे लिंकों का समावेश है आज की चर्चा में!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. बहुरंगी लिंक्स हैं आज इतने व्यवधान के होते हुए |
    आशा

    ReplyDelete
  3. सुंदर लिंक्स .....सार्थक चर्चा ....

    ReplyDelete
  4. संक्षिप्त पर दमदार चर्चा..

    ReplyDelete
  5. सुन्दर सार्थक चर्चा बहुत बहुत बधाई दिलबाग जी

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  7. बढ़िया प्रस्तुति |
    भाई दिलबाग जी-
    शुभकामनायें ||

    ReplyDelete
  8. भारतीय ज्ञान और सम्पदा की चोरी
    ZEAL
    ZEAL
    कहती है कटु-सत्य नित, बुरा भला बिलगाय |
    ऐसी ही यह डाक्टर, बनता लौह सुभाय |
    बनता लौह सुभाय, चलाये बरछी भाला |
    देती झट से फाड़, कलेजा काटे काला |
    करे तार्किक बात, विषय की आत्मा गहती |
    देती हटकु परोस, बात दिल से है कहती ||

    ReplyDelete

  9. ब्रजघाट से हल्द्धानी वाया मुरादाबाद ,रामपुर ,रूद्रपुर
    MANU PRAKASH TYAGI
    yatra (यात्रा ) मुसाफिर हूं ..............

    केले खा कर चल रहे, दिया कैमरा त्यागि ।
    फिर भी फोटो जो दिखे, मनु को चंगे लागि ।।

    ReplyDelete
  10. जन -नानक
    udaya veer singh
    उन्नयन (UNNAYANA)
    सादर नमन रविकर करे, होवे प्रकाशित आत्मा |
    विश्व से अघ-तम मिटे, शैतान का हो खात्मा ||

    ReplyDelete
  11. बढ़िया लिंक्स का समावेश । सुन्दर चर्चा ।

    ReplyDelete
  12. @बाबा नानक आता है


    कृपया ठीक कीजिए = बाबा नानक "आते हैं"


    ReplyDelete
    Replies
    1. AAdarniy mul rachna se li gai hai yah heading
      sardaar udayvir ji ki rachna -

      जन -नानक
      आदि गुरु ! गुरु नानक देव जी के पावन प्रकाशोत्सवकी
      पूर्व संध्या पर समस्त मानव जाति को लख -लख
      बधाईयाँ , प्यार ।





      जगमग व्योम धरा का
      आँचल,अँधेरा मिट जाता है
      खोल कपाट तोड़ कर वन्धन
      बाबा नानक आता है -


      अमृत वाणी , अमृत धारा
      अमृत कलश संजो करके
      वसुधा भींगे प्रेम की वर्षा ,
      प्रिय प्रीतम की हो करके -

      ध्रुर की वाणी, कंठ पधारी ,
      मरदाना रबाब बजता है -

      रीठा मीठा हो जाता
      चक्की भी ,आपे चलती है ,
      नित लंगर चलता रहता है ,
      गोदाम सलामत रहती है -

      सच्चा सौदा दरवेशों संग
      सौदाई कर जाता है -

      किसकी रोटी, खून भरी है ,
      किसकी रोटी दूध भरी -
      किसका जीवन पावन है,
      किसका है, विष की गठरी -

      ले करके अपने हाथों में
      बाबा नानक दिखलाता है-

      पथ ,पाखंड , अहंकार का
      तोडा अपने हाथों से,
      मिथ्या,ढोंग ,भ्रम व वन्धन
      बिलट गए संघातों से-

      चानड़ होता मानस है जब
      प्रकाश ज्ञान का पाता है -

      कर्म-कांड ,जंजाल ,जनेऊ ,
      उंच -नीच ,शुभ अपयश का ,
      मानुष की सब जाति एक
      एक मालिक सब बन्दों का -

      इश्वर एक वारिश हम उसके ,
      सूत्र वाक्य दे जाता है -

      हिल उठती हैं सरकारें ,
      निर्बल को छलने वाले ,
      तौहीद की आवाज उठाई,
      छंट गए बादल काले -

      पीर परायी ,सुख साँझा
      जन - सन्देश सुनाता है -

      इश्वर एक अनेक नाम
      मत बांध दिशा व कालों में
      न जन्मा न मृत्यु वरन है
      न रूप - रंग के थालों में -

      प्यार की सरिता अमृत वाणी
      जन - जन को दे जाता है -

      उदय वीर सिंह
      UDAYA-SHIKHAR (उदय -शिखर)

      Delete
  13. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स ... उम्‍दा प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  14. जल्दी जल्दी में भी इतनी सुदर चर्चा सजाने के लिए मेरी तरफ से बधाई और मुबारक बाद कबूल कीजिये।
    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स
    इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड

    ReplyDelete
  15. बहुत प्यारे लिंक्स संजोये हैं। बढिया चर्चा

    ReplyDelete
  16. सुंदर लिंक्स सार्थक चर्चा,,,

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...