चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, November 26, 2012

सोमवारीय चर्चामंच

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का नमस्कार! सोमवारीय चर्चामंच पर पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक 1- 
उलझन -आशा सक्सेना
_______________
लिंक 2-
जाड़े की धूप हो तुम -बबन पाण्डेय
_______________
लिंक 3-
एक सम्मन नक्षत्रों का -निवेदिता श्रीवास्तव
_______________
लिंक 4-
पोखरा की यात्रा-2 -देवेन्द्र पाण्डेय
_______________
लिंक 5 (A)-
आम आदमी को टोपी पहना दी -दिव्या श्रीवास्तव ZEAL
My Photo
"लिंक-लिक्खाड़"
_______________
लिंक 7-
_______________
लिंक 8-
मेरा फोटो
_______________
लिंक 9-
नानकमत्ता साहिब का दिवाली मेला -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
IMG_2432
_______________
लिंक 10-
सेहतनामा -वीरेन्द्र कुमार शर्मा 'वीरू भाई'
मेरा फोटो
_______________
लिंक 11-
नामकरण के रुपये -पुरुषोत्तम पाण्डेय
मेरा फोटो
_______________
लिंक 12-
भानमती का लोक-जाल -प्रतिभा सक्सेना
मेरा फोटो
_______________
लिंक 13-
दोहों के आगे दोहे -डॉ. डंडा लखनवी
मेरा फोटो
_______________
लिंक 14-
मेरा फोटो
_______________
लिंक 15-
तुलसी विवाह -अनिरुद्ध मिश्र
_______________
लिंक 16-
अनूदित साहित्य -सुभाष नीरव
मेरा फोटो
_______________
लिंक 17-
_______________
लिंक 18-
_______________
लिंक 19-
दिल था कच्चा चटक गया -अरुन शर्मा 'अनंत'
_______________
लिंक 20-
तुम! तुम नहीं थे -मृदुला हर्षवर्द्धन
My Photo
_______________
और अन्त में
लिंक 21-
ग़ाफ़िल की अमानत
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

आप फ़ेसबुक या अन्य आई.डी. से भी कमेंट कर सकते हैं-


32 comments:


  1. जब आम आदमी का नाम लेकर एक अँगरेज़ की भारतीयों का समर्थन प्राप्त करने के लिए बनाई गई पार्टी टोपी पहने रह सकती है 127 साल ,तो केजरीवाल क्या अपनी बाप सामान अन्ना जी की भी टोपी नहीं पहन सकते ?

    आखिर केजरीवाल का इतना खौफ क्यों ?

    नाई नाई बाल कित्ते ...........हो लेने दो आगामी चुनाव सामने आ जायेंगे .

    केजरीवाल की पार्टी में कोई अँगरेज़ सर का खिताब नहीं बाँट रहा है .यह भारत धर्मी समाज की आवाज़ है जिसे अब कोई दबा नहीं सकेगा .चिंगारी ही आग बनती है एक चिंगारी तो उठने दो यारों .

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin