Followers

Tuesday, September 07, 2010

साप्ताहिक काव्य मंच – १५ ( संगीता स्वरुप ) चर्चा मंच – 270

आज मंगलवार को साप्ताहिक काव्य मंच से संगीता स्वरुप का नमस्कार …..ब्लॉग जगत के सागर से कुछ सीपियाँ लायी हूँ ….आप हर सीप को जांचें – परखें …कुछ मोती तो मिल ही जायेंगे …इसी उम्मीद से शुरू करती हूँ आज का काव्य मंच …सबसे पहले हमारे दो विशेष रचनाकारों से परिचय …परिचित तो आप हैं ही पर मेरे नज़रिए से मिलिए ….
 आज आप सबसे पहले मिलिए शिल्पकार  ललित जी से … हर विधा में सृजन करते हैं …यात्रा संस्मरण ..कहानी और समसामयिक विषय पर लेख सभी में दक्ष हैं …काव्य सृजन की बात करें तो हर विषय की कविता इनके ब्लॉग पर पढने को मिलती है …तीज त्योहार के गीत हों या ज़िंदगी के अनुभव …

माँ, पत्नी और बेटी----

पृथ्वी गोल घुमती है
ठीक मेरे जीवन की तरह
पृथ्वी की दो धुरियाँ हैं
उत्तर और दक्षिण
मेरी भी दो धुरियाँ हैं
माँ और पत्नी

लोग बसंत पर लिखते हैं , आपने पतझड़ पर लिखा है -
उल्लासोपरांत पतझड़ का मौसम आपके लिए
पतझड़ का मौसम
वृक्ष पर एक भी पत्ता नहीं
यह मौसम पहले भी आता था
अब फिर लौटा
कोयल की कूक
बुलबुल के नगमे खो गए हैं
होली पर भी बता रहे हैं कि कब समझना कि होली आ गयी है
तभी समझना यार आ गयी है मस्तानी होली
जब टेसू जब पलास के रंगों की सजे रंगोली
जब चौपाल में बजे नगाड़े और हँसे हमजोली

जब कोयलिया ने भी अपनी तान सुरीली खोली
तभी समझना यार आ गयी है मस्तानी होली

श्रमिकों के हालातों को भी इन्होनें  कलमबद्ध किया है
कितना वह मजबूर था--

दुनिया बनाई देखो उसने कितना वह मजबूर था
एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था
चंहु ओर हरियाली की  देखो एक चादर सी फैली है
यही देखने खातिर उसने भूख धूप भी झेली है
अपने लहू से सींचा धरा को वह भी बड़ा मगरूर था
एक जून की रोटी को तरसा मेरे देश का मजदूर था
जन्माष्टमी पर विशेष कविता --
कितना है मुस्किल घरों से निकलना

पनघट जाऊँ कैसे,छेड़े मोहे कान्हा
पानी नहीं है,जरुरी है लाना
पनघट जाऊँ कैसे,छेड़े मोहे कान्हा
कितना है मुस्किल घरों से निकलना
पानी भरी गगरी को सिर पे रखके चलना
फ़ोड़े न गगरी,बचाना ओ बचाना
पनघट जाऊँ कैसे,छेड़े मोहे कान्हा
My Photo
  कविता रावत जी के लेखन से बहुत लोग परिचित हैं  ..इनका लेखन जहाँ समसामयिक विषयों पर होता है वहीं  प्रकृति पर भी बहुत सधा हुआ लिखती हैं …फिर वो मौसम के बारे में हो या पहाड के विषय में …
वो वसंत की चितचोर डाली....

कुछ शर्माती कुछ सकुचाती
          आती बाहर जब वो नहाकर
मन ही मन कुछ कहती
          उलझे बालों को सुलझाकर


जीवन के दर्शन पर भी खूब कहा है ..
संगति का प्रभाव
उच्च विचार जिनके साथ रहते हैं वे कभी अकेले नहीं रहते हैं
एक जैसे पंखों वाले पंछी एक साथ उड़ा करते हैं
हंस-हंस के साथ और बाज को बाज के साथ देखा जाता है
अकेला आदमी या तो दरिंदा या फिर फ़रिश्ता होता है
दर्द पर भी खूब लेखनी चली है ……..आम लोगों की ज़िंदगी को भी लिखा है …

मजदूर : सबके करीब सबसे दूर
मजदूर!
सबके करीब
सबसे दूर
कितने मजबूर!
कभी बन कर
कोल्हू के बैल
घूमते रहे गोल-गोल
ख्वाबों में रही
हरी-भरी घास
बंधी रही आस

और असमंजस की स्थिति में प्रश्न पूछती कविता जी …
कौन हो तुम!
कौन हो तुम!
पहले पहल प्यार करने वाली
शीत लहर सी
सप्तरंगी सपनों का ताना-बाना बुनती
चमकती चपला सी
शरद की चांदनी सी
गुलाब की पंखुड़ियों सी
काँटों की तीखी चुभन से बेखबर
मरू में हिमकणों को तराशती
कौन हो तुम!

उम्मीद करती हूँ कि आपको मेरा नजरिया पसंद आया होगा …..अब सप्ताह की चुनी हुई कविताएँ …ब्लॉग तक पहुँचने के लिए चित्र पर भी क्लिक कर सकते हैं ..देखना है कि आपको इन मोतियों में चमक मिलती है या फीके रह जाते हैं …तो पेश है रंग बिरंगी सीपियाँ …
मेरा फोटो
डा० रूपचन्द्र  शास्त्री जी का मन कसक रहा है हर बार की तरह हिंदी दिवस मनाया जायेगा ..और अंग्रेज़ी में भाषण पिलाया जायेगा …उनकी इस वेदना को आप भी जानिए और समझिए

“ओह! माह सितम्बर”

इस बार भी होंगे
हिन्दी-दिवस के
बड़े-बड़े आयोजन
किन्तु सफल नही होगा
सच्चे साधकों का प्रयोजन
कुछ और तस्वीरें .5
दीपक मशाल हर ओर से शायद निराश हो कर यह पूछ रहे हैं कि-
कब तक साथ निभाओगे तुम-

अब तो रब भी रूठ गया है
अन्दर सब कुछ टूट गया है
इक रीता कमरा छूट गया है
कोई अपना लूट गया है
सबने तो ठुकरा डाला है
कब मुझको ठुकराओगे तुम
कब तक साथ...
मेरा फोटो
अनीता वशिष्ठ  बहुत संवेदनशील मन रखती हैं …
और यह बात आप जान पाएंगे उनकी कविता पढ़ कर ..

निरक्षर हाथों का जोडा

रोज देखती हूं
एक निरक्षर हाथों का जोडा
दिल्‍ली की हर रेड लाइट पर
बेच रहा होता है
साक्षरता का पहला ‘अक्षर’
इस जोडे को शायद
जमा घटा का ज्ञान नहीं
किंतु एक रुपय की कीमत
भली भांती ज्ञात है
 My Photo
सिद्धार्थ सिन्हा जी ( ब्लॉग पर यही फोटो लगाया हुआ है ) एक संवेदनशील रचना लाये हैं …पिता की जामुन के पेड़ से किस प्रकार तुलना कर रहे हैं ..आप स्वयं पढ़िए ..

 

जामुन का पेड़


बहुत पहले
जामुन का जो पौधा
लगाया था पिता ने
अब वो मुकामल पेड़ बन गया है
घना,छायादार,फलदार
बिलकुल पिता की तरह
My Photo नन्द लाल भारती  जी अपने ब्लॉग हिंदी साहित्य पर रिश्तों  की बात कर रहे हैं … जिस तरह से ज़ख्म रिसते हैं उसी तरह रिश्तों में भी रिसाव आ गया है …

रिसाव.


रिश्तो का अथाह
दरिया रिस रहा,
अफ़सोस
कुछ भी नज़र
नहीं आ रहा ।
धीरे-धीरे दरिया
भी खाली हो जाता है ,
शेष
बेकार रह जाता है ।
मेरा फोटो
शेफाली पांडे जी की एक बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति … सच के करीब है …आप भी पढ़िए
तेरी याद ...
तेरी याद .....
आज भी जब तेरी याद
मुझको गले से लगाती है
मैं बैचैन हो जाती हूँ |
इधर - उधर टकराकर
खुद को चोट लगा लेती हूँ |
कभी गर्म कढ़ाई के तेल के छींटों से
हाथ जला लेती हूँ
My Photo प्रतिभा सक्सेना जी घास के माध्यम से अदम्य साहस की बात कर रही हैं .. 
अदम्य-
धरती तल में उगी  घास
यों ही अनायास ,
पलती रही धरती के क्रोड़ में,
मटीले आँचल में .
हाथ-पाँव फैलाती आसपास .
मौसमी फूल नहीं हूँ
कि,यत्न से रोपी  जाऊँ ,पोसी जाऊँ!
मेरा फोटो
साधना वैद जी स्वयं में आत्मविश्वास लिए  बिना किसी के साथ की इच्छा के कह रही हैं

 
 
खुद बढ़ी जाती हूँ मैं
पर मुझे अब कोई भी विप्लव डरा सकता नहीं,
कोई भी तूफ़ान मेरा सर झुका सकता नहीं,
मैं धधकती आग हूँ सब कुछ जलाने के लिए,
कोई भी आवेश अब तिल भर हिला सकता नहीं !
 सप्तरंगी प्रेम ब्लॉग पर अनामिका जी की प्रेमभाव में डूबी रचना पढ़िए

तन्हा चाँद निहारा करती हूँ
तेरे प्यार की चाहत में ये दिये जलाया करती हूँ.
खामोश सितारों में ये तन्हा चाँद निहारा करती हूँ.
आकाश में ज्यूँ बदली लुका-छिपी सी करती हो
नर्म बाहों के ख़यालों में यूँ ही सिमटा करती हूँ.
My Photo धर्मेन्द्र कुमार सिंह जी अपनी रचना में बता रहे हैं की ईश्वर ने भी कैसी राजनीति खेली है इंसानों के साथ ..
भूख
न जाने भूख क्यों बनाई ईश्वर ने?
और पेट क्यों दिया इंसान को?
क्या चला जाता ईश्वर का,
अगर उसने हमें ऐसी त्वचा दी होती,
जो सूर्य की रोशनी से,
सीधे ऊर्जा प्राप्त कर सके,
मुफ़्त की ऊर्जा;
मेरा फोटो योगेश शर्मा जी सबकी बात कहते हुए बता रहे हैं कि सबके अपने अपने दुःख हैं …
'अपने अपने हिस्से का ग़म'
अपने अपने दुखड़ों की
है पोटली सबके दामन में
अपने अपने हिस्से का ग़म
यहाँ हर किसी को सहना है
अपने अपने झूठ की गठरी
है हर एक के काँधे पर
अपने अपने सच का सबको
राज़ छुपाये रखना है
 My Photo
महेंद्र आर्य  शिक्षक दिवस पर विशेष अनुवाद लाए हैं ….[ अठारहवीं सदी के अंग्रेजी भाषा के एक प्रसिद्ध कवि ओलिवर गोल्डस्मिथ की एक मशहूर कविता थी - विलेज स्कूल मास्टर . उसी कविता को थोड़े भारतीय परिपेक्ष्य में प्रस्तुत कर रह हूँ , हिंदी में . कविता के नीचे प्रस्तुत है मूल अंग्रेजी की कविता भी . पढ़ कर प्रतिक्रिया जरूर देवें .  ]

मास्टरजी
एक कच्चे मकान में बसा
गाँव का वो स्कूल
जिसके अहाते में लगे थे
रंग बिरंगे फूल
पढ़ते थे गाँव के बच्चे
यहाँ आकर हर रोज
खेल कूद मस्ती
और खूब मौज
अचला दीप्ति कुमार की कविता आप पढ़ भी सकते हैं और सुन भी सकते हैं उनकी आवाज़ में…… अपने हठी मन के बारे में कह रही हैं कि …
मेरा मन मेरी बात नहीं सुनता है
मेरा मन मेरी बात नहीं सुनता है
जो गलियाँ पीछे छूट चुकीं,
जिनमें अपनी पहचान नहीं,
अपने उगने के बढ़ने के,
फलने के और पनपने के,
हैं बाक़ी जहाँ निशान नहीं,
यह उन गलियों में लौट लौट कर
अपना सिर क्यों धुनता है?
मेरा मन मेरी बात नहीं सुनता है।
मेरा फोटो
सुमन मीत जी अतीत को पलों के रत्नजडित आभूषणों से सज्जित कर रही हैं ..

ज़ख्म

बन्द हैं चौखट के उस पार
अतीत की कोठरी में
पलों के रत्न जड़ित
आभूषण
एक दबी सी आहट
सुनाती
एक दीर्घ गूंज
 My Photo
सुनीता शानू जी की एक व्यंग कविता पढ़िए ..जिसमें वो आज कल फलों और सब्जियों में लगने वाले इंजेक्शन से क्या परिवर्तन आते हैं ,बता रही हैं ….. आप भी जानिए  
 
एक व्यंग्य कविता   ( करामाती इंजेक्शन )
होटल के एक कमरे में प्यारे लाल ठहरे
अभी आये भी नही थे उन्हे
खर्राटे गहरे
कि इतने में आवाज सुनी
किसी के रोने की
किसी के सिससने की
किसी के दर्द से कलपने की
साँप के फ़ुफ़कारने की  फ़िर-
 My Photo
धर्म सिंह जी एक संवेदनशील कविता के माध्यम से बता रहे हैं कि उन्हें भी गाँव की बहुत याद आ रही है ..और वादा कर रहे हैं कि-

पर अबकी मैं जरूर आऊंगा .

हर साल की तरह
इस साल भी खूब फूला होगा बुरांश डाडों में .........,
खूब खिली होगी फ्योंली
विठा पाखों पर ......... ॥
पर साल मैंने कहा था
जब डाडों में बुरांश फूलेगा
तो मैं घर आऊंगा ।
My Photo
अना जी कुछ अपनी ज़िंदगी की बात करती हुई कह रही हैं ..
रात का सूनापन

रात का सूनापन

मेरी जिन्दगी को सताए

दिन का उजाला भी

मेरे मन को भरमाये

क्यों इस जिन्दगी में

सूनापन पसर गया



मनोज कुमार जी अपने ब्लॉग मनोज पर बहुत रूमानी सी नज्में लाये हैं ….  नज़्म का हर लफ्ज़ जैसे प्रेम मय हो उठा हो … हर निशाँ जैसे मन पर अंकित हो गया हो ….आप भी देखें ज़रा --
गीली मिट्टी पर पैरों के निशान
काश!
मेरी ख़ामोशी का गीत
सुन लेतीं तुम
एक बार ...

शब्‍द बन 
नज़्म बहे
यह    
ज़रूरी तो नहीं
 
राजवंत राज जी ने ज़िंदगी के फलसफे को कैसे सहेजा है आप भी देखें …
सन्दूकची
जिन्दगी के बहुत सारे फलसफों को
अंगूठियों की तरह अँगुलियों में पहनती हूँ ,
वक्त बे वक्त उनकी जगहों में रद्दोबदल करती हूँ
मगर मुझे मनमुआफिक नतीजा नही मिलता |
इसी जद्दो जहद में मेरी सन्दूकची में
ढेर सारी अंगूठियाँ पनाह पा गई हैं
My Photo अंशुमाली श्रीवास्तव जी बहुत मायूस हो कर कह रहे हैं कि
कहो तो लौट जायेंगे

मैंने कहा,
"इक बार फिर से सोच लो फिर आगे जायेंगे
अभी भी वक़्त है कहो तो लौट जायेंगे...
इश्क अपना बस चंद दिनों पुराना है
अभी सालों की उमर बाकी है
अभी तो बस चले हैं हम
अभी पूरा सफ़र बाकी है
मेरा फोटो
हिमानी जी कह रही हैं कि दिल में ख्वाहिशें , ख्वाब न जाने क्या क्या ..भरा है कचरे के समान ---

दिल का कचरा


बेशर्म ख्वाब
बेअदब ख्वाइशें
बगावती ख्याल
ख़ाली से इस दिल में
कितना कचरा भरा है
 My Photo
देवेन्द्र कुमार जी इस बार अपनी बेचैन आत्मा को जंगल ले जा कर वहाँ की  शिक्षा व्यवस्था देख आये हैं …व्यंगात्मक शैली में उनकी यह रचना बहुत सशक्त बन पड़ी है …

जंगल राज में शिक्षा व्यवस्था
कीचड़ में फूल खिला
जंगल में स्कूल खुला
चिडि़यों ने किया प्रचार
आज का ताजा समाचार
हम दो पायों से क्या कम !
स्कूल चलें हम, स्कूल चलें हम।

My Photo
डा० नीरव का काव्य संग्रह है और इस कविता का शीर्षक भी ..

मुझे ईर्ष्या है समुद्र से


मैं नहीं छीन रहा हूँ
तुम्हारे अंदर निहित
संभावनाओं को, तुम्हारी आशाओं
आकांक्षाओं या महत्वाकांक्षाओं को
My Photo राहुल रंजन जी कुतरे पंख  के माध्यम से अदम्य हौसले को बता रहे हैं
पंख पसार
कर हौसले का विस्तार
तोड़ कर हर बंधन
छूने चली वो विशाल गगन
परों में समेटे दूरियां, आसमान छू आयी वो,
कल्पनाओं से परे, अपने हौसले के संग
मेरा फोटो
सुनील मिश्र जी एक सुन्दर नज़्म लाये हैं ..
सपने और सुवास
तुम खुली आँखों की सचाई
बंद आँखों का एहसास
दोनों ही ओर
बड़ी पास....
" मैं जैसा भी हूँ,सामने हूँ..."
डा० गणेश अपने ब्लॉग रेगज़ार  पर ( वैसे मुझे इस शब्द का अर्थ नहीं मालूम , यदि कोई बताने में मेरी मदद करे तो आभारी होऊँगी ) बहुत सशक्त कविता लाये हैं ….जीने का एक जज़्बा देती हुई , सोचने पर मजबूर करती हुई ..आप भी पढ़ें ..
" अभी बंद न करो ये आवाज़ "
अभी बंद न करो ये आवाज़,
                के अभी तो बाँहों में दर्द संभाले 
                अधमुंदी ज़िन्दगी जाग रही  है
                के अभी बुझा नहीं है आखरी चराग़ 
                के अभी तो पलकों में बाक़ी है नमी
                के अभी तो आँखों में बाक़ी है खून 
                के अभी तो हमारा पासे-जब्त ज़िंदा है
                के अभी तो कुछ ज़ख्मों की जगह बाक़ी है |

My Photo
वीरेंद्र सिंह चौहान लाये हैं राजनीति पर व्यंग करती एक समसामयिक रचना --
'भगवा' आतंकवाद का प्रलाप ..
सत्ता में बने रहने के लिए.....
सत्तासीन.....
और सत्ता पाने के लिए....

सत्ताविहीन......
साथ में कुछ ....
तथाकथित धर्मनिरपेक्ष पत्रकार....
My Photo
पंकज शुक्ला एक चित्र को देख जो अनुभव करते हैं , उसी को बहुत सुन्दर शब्द में लिखा है ..
वे हाथ सूत कात रहे हैं..
वे हाथ सूत कात रहे हैं...
सूत कातने वाले हाथ
घर सँवारते हैं
आँगन बुहारते हैं
रोटियाँ बेलते हैं ...

दिगंबर नासवा जी आज एक बहुत मर्म स्पर्शी रचना ले कर आये हैं …कभी कभी यादों के दंश मन को इतना घायल कर देते हैं कि खामोशियाँ अच्छी लगने लगती हैं …

 
मेरा शून्य
नही में नही चाहता
सन्नाटों से बाहर आना
इक नयी शुरुआत करना
ज़ख़्मी यादों का दंश सहते सहते
लाहुलुहान हो गया हूँ
गुज़रे लम्हों की सिसकियाँ
 मेरा फोटो
और चर्चा के अंत में समीर लाल जी की कल्पनाओं को पंख मिल गए हैं ….चाँद को निहारते हुए  कह रहे हैं कि ---
अक्सर दिल करता है मेरा

अक्सर दिल करता है मेरा
चलूँ, बादलों के पार चलूँ
देखूँ, कहाँ रहता है वो चाँद
जो झाँकता है अपनी खिड़की से
मेरी खिड़की में सारी रात
आज बस इतना ही ….आपकी प्रतिक्रिया हमारा मनोबल बढ़ाती है ….चर्चा की सार्थकता आपके हाथ में है ..नए लोगों का उत्साह बढ़ाएं यही गुज़ारिश है ….मिलते हैं  अगले मंगलवार को नयी पेशकश के साथ …नमस्कार ..

44 comments:

  1. संगीता स्वरूप जी!
    आज की चर्चा में आपने वास्तव में वो ही सीप खोजी हैं जिनमें मोती है!
    --
    शानदार चर्चा के लिए बहुत-बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  2. बहुत महनत करती हैं आप चर्चा मंच सजाने में बहुत अच्छी चर्चा |बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  3. चर्चा मंच की खूबसूतर झलकियां

    ReplyDelete
  4. मुझे "अदम्य" बहुत पसंद आई...:)

    ReplyDelete
  5. मन के पंख देखने हों तो कोई यहाँ आकर देखे , क्या खूब सजा है काव्य मंच , बधाई संगीता स्वरूप जी एवम सभी रचनाकारों को । -आशुतोष मिश्र

    ReplyDelete
  6. ढेर सारे लिंक्स। अनेक रचनाकारो से परिचय कराया आपने। बहुत ही मेहनत और लगन से तैयार की गई चर्चा।

    हिन्दी का प्रचार राष्ट्रीयता का प्रचार है।

    हिंदी और अर्थव्यवस्था, राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर, बहुत मेहनत की गई है लिंक ढूँढ़ने के लिए। बहुत सारे रचनाकारों से परिचय हुआ। धन्यवाद

    ReplyDelete
  8. चर्चा मन्च मे समीक्श ब्लोग को देखकर बहुत अच्छा लगा………आपने वास्तव मे बहुत मेहनत कर इन मोतियों को ढूंढ निकाला……………॥बधाई

    ReplyDelete
  9. इतनी सुन्दर चर्चा के लिए बहुत बहुत बधाई संगीता जी ! मुझे याद रखने के लिए शुक्रिया ! आपकी विस्तृत चर्चा सदैव मन को लुभाती है ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  10. वाह, संगीता जी, बहुत बढिया।
    विशिष्ट चर्चा के लिए आभार

    ReplyDelete
  11. बहुत बढिया .. कमाल की चर्चा !!

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  13. didi
    aapke madhyam se bhut sare umda vicharo bhavnao se ru-b-ru hone ka mouka mila , dimagi khurak mili . aapke beshkimti pnno pe meri chnd pnktiyo ko jagah bhi mili ,hriday se aabhari hu .
    kvita ravat ji ki ''sngti ka prbhav''bhut umda vichar hai . uchch vichar to smndar hai jisme tmam buraiya bhi aakr apna astitv smapt kr deti hai lekin smndar smndar hi rhta hai , nishklnk our mryadit.
    llit ji ne smst vivahit purush jno ke antrdvnd ko apni kvita me bkhoobi ubhara hai .is anyrdvnd me sntan bhut adhik prbhavit hoti hai lekin smvad bnaye rkhne me nhsndeh vo pul ki mhtvpurn bhumika nibhati hai .antrdvnd shbdbdh ho kr pnnoo pe utr aaya hai . bhut khoob !
    is sarthk chrchmnch ke liye didi aapko hardik bdhai .

    ReplyDelete
  14. आदरणीय संगीता जी!
    सादर नमस्ते!
    चर्चा मंच मेरी चनिंदा रचनाओं को विशेष स्थान देकर चर्चा हेतु प्रस्तुत करने के लिए मैं आपकी तहेदिल से आभारी हूँ. समयाभाव और दौड़-भाग के बीच यूँ ही राह चलते, सोचते, और अपने आस-पास जो भी दैनिक दिनचर्या के बीच घटित होता है, बस उसे ही टुकड़ों-टुकड़ों में रचकर आपके सामने प्रस्तुत कर लेती हूँ. यह तो आप जैसे सभी वरिष्ठ लेखकों और पाठकों का अपनापन और प्रोत्साहन का ही नतीजा है कि मैं ब्लॉग पर लिखने हेतु उत्सुक रह पाती हूँ. समाचार पत्रों में लेख- कविता आदि छपने पर जितनी ख़ुशी होती है उससे कई अधिक मुझे ब्लॉग पर चर्चा व कमेन्ट देखकर होती है. इसका एक और कारण भी है कि मैं ब्लॉग पर खुलकर किसी भी बात को अभिव्यक्त कर पाती हूँ, जबकि समाचार पत्र अपने अनुसार सामाजिक या समसामयिक बात को तोड़ मरोड़ लेते हैं, जो शायद मन को अच्छा नहीं लगता.
    ..आप जैसे सभी चर्चा मंच से जुड़े लेखकों के सार्थक प्रयास को देखकर मैं अभिभूत हूँ. इसके लिए हम सबके आभारी हैं ...
    चर्चा मंच के सभी लिंक्स व रचनाओं की सुन्दर प्रस्तुति हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  15. कुछ पुराना कुछ नए का यह संगम भी बेजोड़ रहा संगीता जी !

    ReplyDelete
  16. संगीता जी,
    बहुत मेहनत से सजाया है आपने आज की चर्चा मंच को। शुरु के रचनाकारों का परिचय और उनकी प्रतिनिधि रचनाओं का चयन लाजवाब है।
    साथ ऐसे-ऐसे लिंक्स यहां मौज़ूद है जो हमें पता ही नहीं था। और उनकी रचनाएं आपके श्रेष्ठ चयन की रुचि को परिलक्षित करती है। मेरे लिए तो एकाध को छोड़कर सभी पर जाना मज़बूरी बन गई।
    अंत में, मेरी रचना को सम्मान देने के लिए आभार।

    हरीश गुप्त की लघुकथा इज़्ज़त, “मनोज” पर, ... पढिए...ना!

    ReplyDelete
  17. क्या बात है बहुत ही नायाब लिंक्स मिले इस बार तो ..बेहतरीन चर्चा.

    ReplyDelete
  18. बहुत ही लाजवाब चर्चा ... अच्छे लिंक हैं पूरी पोस्ट में .... मुझे भी शामिल करने का शुक्रिया ....

    ReplyDelete
  19. हमेशा की तरह चर्चा बहुत अच्छी लगी .................मेरी कविता लेने के लिये शुक्रिया.......

    ReplyDelete
  20. स्थापित के साथ साथ कई नए ब्लॉग सामने लाईं आप.. सुन्दर समागम.. आभार..

    ReplyDelete
  21. दी नमस्ते
    बहुत ही सुन्दर ढंग से सजाया है आज चर्चा मंच को .....
    महत्वापूर्ण लिंक के लिए भी सुक्रिया ...
    आप का बहुत बहुत आभार की आपने मेरी रचना को सहारा और इस विशिष्ट स्थान पर जगह दी ....

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दरता से सभी कविताओं के लिंक सजाये हैं. आनन्द आ गया. आपका आभार.

    ReplyDelete
  23. संगीता जी
    बहुत बढिया है आज की चर्चा |अभी तो शीर्षक देखे है पर बहुत सरे नये ब्लाग पढने को मिलेंगे आपकी इस निस्वार्थ श्रम से |
    आभार

    ReplyDelete
  24. हमेशा की तरह बहुत ही लाजवाब चर्चा पुरानी पोस्ट को शामिल करने का विचार अच्छा लगा कई बार छूट जाती हैं

    ReplyDelete
  25. आपकी महनत दर्शाती लाजवाब चर्चा...जो कभी भी निराश नहीं करती क्युकी हमेशा ही इतना अच्छे अच्छे और नए लिंक्स पढ़ने को मिलते हैं. सच में आप का कहा सच सिद्ध होता है की ...सीप में मोती ही मिले हैं.

    आभार इस भव्य चर्चा के लिए.

    ReplyDelete
  26. मैराथान चर्चा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  27. मैराथान चर्चा.

    रामराम.

    ReplyDelete
  28. एक बेहद खूबसूरत गुलदस्ता , जिसमे अलग अलग रंग और खुशबू वाले फूल शामिल किये हैं आपने . मेरा सौभाग्य की मेरी रचना को भी आपने इस गुलदस्ते में सजाया . आप बहुत मेहनत से समय लगा कर चुनती हैं अपने पुष्पों को ; बहुत बधाई संगीता स्वरुप जी !

    ReplyDelete
  29. संगीता जी, बहुत अच्छी शैली में की गई है चर्चा...
    काव्य मंच में कई नए लिंक्स को जगह देने के लिए शुक्रिया...
    एक गुज़ारिश है आपसे, काव्य चर्चा में उर्दू शायरी को पर्याप्त स्थान नहीं मिल पा रहा है...
    क्या ग़ज़लों के ब्लॉग्स को भी इस चर्चा का हिस्सा बनाया जा सकता है?
    आशा है इस सुझाव पर गौर करने की इनायत होगी.

    ReplyDelete
  30. सभी पाठकों का आभार ...आपकी प्रतिक्रिया हमारा मनोबल बढ़ाती है ..

    @@ शाहिद जी ,

    आभार ..आपके सुझाव को ध्यान में रखा जायेगा ...यदि हो सके तो कुछ उर्दू के अन्य ब्लोग्स से परिचित भी कराएं ..

    ReplyDelete
  31. आपकी सुरुचि और यत्नपूर्वक चुने गए फूलों के गुलदस्ते में प्रयुक्त घास भी शोभनीय हो उठती है !

    ReplyDelete
  32. Sangeeta ji,
    Apki ye charcha nischit roop se bahut achchhi hai.Apni charcha me meri rachna ko shamil karne ka shukriya...

    ReplyDelete
  33. संगीता जी, चिट्ठा चर्चा तो वाकई काबिले तारीफ़ है। बहुत से नये चिट्ठो तक पहुंचाया है आपने जिन्हे मै अब तक जान नही पाई थी। बहुत-बहुत धन्यवाद।

    ReplyDelete
  34. संगीता जी ...आपकी मेहनत की जितनी भी तारीफ करी जाए ,कम है ...

    ReplyDelete
  35. संगीता जी,मेरी नज़्म को आप ने यहाँ स्थान दिया,इस के लिए साधुवाद | लगे हाथों दो बातें और | पहली तो यह कि मेरा पूरा नाम काम दें,आधा-अधूरा नहीं | दूसरी बात यह कि रचना भी पूरी ही दें,कटी नहीं | कटी रचना से बात कट कर रह जाती है | तीसरी बात सब से आखिर में,'रेगज़ार' का अर्थ है---'मरुस्थल' | हाँ,इस बहुत ही प्यारे मंच के लिए आप को हार्दिक बधाई | इस मंच की उत्तरोत्तर प्रगति के लिए सदैव शुभकामना | धन्यवाद...

    ReplyDelete
  36. संगीता जी,
    आपने आज की चर्चा मंच को बहुत मेहनत से सजाया है। रचनाकारों का परिचय और रचनाओं का चयन श्रेष्ठ है। मेरी रचना को सम्मान देने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  37. संगीता जी,
    आपने आज की चर्चा मंच को बहुत मेहनत से सजाया है। रचनाकारों का परिचय और रचनाओं का चयन श्रेष्ठ है। मेरी रचना को सम्मान देने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete
  38. सभी पाठकों का आभार ...

    @@ डा० कुमार गणेश जी ,

    आपने रेगज़ार शब्द का अर्थ बताया ..इसके लिए शुक्रिया ...
    इस मंच पर हम नए ब्लोग्स यानि कि जिनको कम लोग पढते हैं और साथ में ही अच्छी रचनाओं का चयन करते हैं .... यह मंच एक जरिया है जहाँ लोग आते हैं और नए लिंक्स देख कर उनके ब्लॉग तक जाने का प्रयास करते हैं ...और ब्लॉग तक जा कर परिचय स्वयं ही मिल जाता है ...यदि हम यहाँ पूरी रचना प्रकाशित कर देंगे तो आपके ब्लॉग तक कोई नहीं जायेगा ..सब यहीं पढ़ लेंगे ...अत: हमारा प्रयास रहता है कि हम अच्छे और साथ में नए रचनाकारों तक लोगों को पहुँचने के लिए प्रेरित कर सकें ...आशा है आपको इस मंच कि उपयोगिता का महत्त्व पता चल गया होगा ...आभार

    ReplyDelete
  39. इस चर्चा मंच में चुनी गई रचनाए
    बहुत अच्छी है. साफ़ पता चलता है कि
    इसके लिए आपने काफ़ी मेहनत
    की है . इसलिए आप बधाई की पात्र हैं
    मेरी रचना को चर्चा मंच में स्थान देने के
    लिए आपका आभार.

    ReplyDelete
  40. आप काफ़ी मेहनत करती हैं जो परिलक्षित होती है…………………।एक से बढकर एक लिंक लगाये हैं……………आभार्।

    ReplyDelete
  41. मैं यह कल्पना कर के ही दंग हूँ कि कितनी मेहनत की है आपने इस पोस्ट के लिए। एक-एक ब्लॉग में जाना और उस पर लिखने लायक पढ़ना ही कमाल है जबकि मैं कल से तीन बार इस ब्लॉग को खोल चुका मगर अभी तक सभी दिए गए लिंक तक नहीं पहुंच पाया हूँ।
    ..मेरी कविता को चर्चा में शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  42. संगीता जी क्षमा चाहूंगा देर से लिखने को | माता जी के देहांत की वजह से ब्लॉग से दूर रहा और कुछ अभी मन भी हटा हुआ है| मेरी रचना शामिल करने का आभार |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...