Followers

Tuesday, September 14, 2010

साप्ताहिक काव्य – मंच – ( १६ ) …..चर्चा मंच --- ( संगीता स्वरुप )

नमस्कार , पिछला सप्ताह बहुत से तीज - त्योहारों के साथ बीता ..लोगों की ज़िंदगी में उल्लास आया , खुशियाँ आयीं ..कुछ ने गणपति से प्रार्थना की तो कुछ ने अल्लाह से …स्त्रियों ने तीज पर व्रत रखा तो कहीं पुरुषों के मन में भी चाह हुई कि पत्नि के लिए वो भी व्रत रखें …ऐसी सब भावनाओं के बीच यह भी विडंबना है कि अपनी ही भाषा के लिए हम हिंदी दिवस , हिंदी सप्ताह या हिंदी पखवारा  मनाते हैं …..आज के काव्य मंच पर इन्ही सब मिली जुली भावनाओं से आच्छादित  रचनाएँ ले कर हाज़िर हुयी हूँ …..सबसे पहले पेश कर रही हूँ वो गज़ल जो दुआ बन कर निकली है … मंच की शुरुआत करते हैं तिलक राजकपूर जी से ..
 My Photo
तिलक राज कपूर जी अपने ब्लॉग  रास्ते की धूल पर ईद के मुबारक मौके पर ऐसी दुआ लाये हैं जो हर इंसान की ख्वाहिश होगी …उनकी दुआ को उनकी गज़ल के रूप में पढ़िए ..

 

ईद मुबारक

नहीं कुछ और दिल को चाहिये इस बार ईदी में
खुदा तू जोड़ दे इंसानियत के तार ईदी में।
तेरी नज़्रे इनायत से न हो महरूम कोई भी
सभी के नेक सपने तू करे साकार ईदी में।
My Photo
स्वप्न मंजूषा जी अपने ब्लॉग काव्य मंजूषा पर लायी हैं एक गज़ल …….न जाने कैसे भाव हैं जो यह कह रहे हैं कि  दुश्मनों का भी खजाना बन गया है ..
संजोया दुश्मनों को भी, खज़ाना ही बना डाला ..
लिया इक हर्फ़ हाथों में, फ़साना ही बना डाला
थे पत्थर से इन्सान वो, दीवाना ही बना डाला 
निभाई दुश्मनी हमने, बड़ी शिद्दत से दुनिया में
संजोया दुश्मनों को भी, खज़ाना ही बना डाला
मेरा फोटो
रश्मि प्रभा जी मेरी भावनाएं पर कह रही हैं कि रोज शब्दों को उठा वो दर्द में डुबो कुछ लिखती हैं …अपने अकेलेपन को दूर करने के लिए कह रही हैं कि
एक दिल मेरे पास रख जाओ

सपने में भी
अतीत के साए मुझे डराते हैं
अलग-अलग रास्तों पर
दहशत बनकर खड़े रहते हैं !
चीख ..अन्दर ही घुटकर रह जाती है
मेरा फोटो
वंदना गुप्ता जी ज़िंदगी ..एक खामोश सफर  पर एक भावपूर्ण रचना ले कर आई हैं ..पीड़ा का मर्म

रूह पर गिरते 
अश्कों पर 
लब अपने 
रख दिए होते
अश्को का
ज़हर सारा 
पी लिया होता
तो मेरी रूह को
कुछ देर ही सही
तू जी लिया होता
My Photo अनामिका जी अनामिका की सदाएँ  पर लायी हैं एक बहुत रूमानी सी नज़्म …हर पल होठो पर बसते हो ..
हर पल होंठों  पे  बसते हो
मेरे मौन को तोड़ा करते हो
धूप - छाँव दे मोह -माया की
अपनी महता तोला करते हो.
 राकेश कौशिक जी  का हृदय पुष्प ब्लॉग है ….आज की उनकी कविता हिंदी दिवस पर एक दम सटीक है …एक सच्चे भारतवासी के मन में हिंदी के लिए ऐसी वेदना अपेक्षित है …

बिंदी
स्वर-व्यंजन ही नहीं मात्र यह भारत माँ की बिंदी है।
तोड़ी कितनी बार बिखेरी फिर भी अब तक जिंदी है।।
मातृभूमि नीचे कर आँखें पीट रही है अपना मांथा।
लगता है हो गई बाबरी देख-देख अपनों की भाषा।
हिमगिर भी गंभीर हो गया चिंतित है कुछ बोल न पाता।
देख रहा टकटकी लगाए खंडित होती अपनी आशा।
गुमसुम सरिता का जल कहता मुझको भी अब मौन सुहाता।
निज भाषा  को मान नही तो कैसे गाऊं कल-कल गाथा।
अंग्रेजी सरपट दौड़े यहाँ हिंदी की गति मंदी है।।
My Photo
शाहिद मिर्ज़ा जी इस बार ईद के मुबारक मौके पर बहुत खूबसूरत बात कह रहे हैं ..
ईद मना
छोड़ हर शिकवा गिला, दिल को मिला, ईद मना।
भूल    जा   अपनी  जफ़ा,  मेरी ख़ता, ईद मना।
बुग़्ज़ को  छोड़  दे,  नफ़रत  को भुला, ईद मना।
ये  भी  नेकी  है, ये  नेकी  भी  कमा, ईद मना।
My Photo धर्म सिंह बिन माझी की नाव पर इस बार बुजुर्ग होते लोगों की भावनाओं को ले कर आये हैं ..उनकी यह कविता बता रही है बुजुर्गों का अकेलापन ….
वो अध् खुली खिड़की....
घर के सामने
गली के उस पार
पहली मंजिल पर
वो अध् खुली खिड़की .........!
हर रोज मुझे
हैरत करती थी ...
इक गहरी ख़ामोशी,
कुछ विरानियाँ
और कितने राज
छुपाये लगती थी खुद में .... ॥
मेरा फोटो माधव नागदा जी    साहित्य सुगंध    पर बेटियों के द्वारा किये गए प्रश्न को रख रहे हैं …एक मार्मिक और संवेदनशील चित्रण है …और बेटियों द्वारा किये गए प्रश्नों के आप क्या उत्तर देंगे ….. ज़रा सोचिये ..

 
बेटियां
लो मां
हम फिर अव्वल आयीं हैं
तुम्हारे लाडले
वंशधरों को पीछे छोड़ते हुए.
यहीं रुकेंगे नहीं हमारे कदम
अब हम
अन्तरिक्ष में कुलांचें भरेंगी
 My Photo मुदिता गर्ग एहसास अंतर्मन के पर बता रही हैं कि नदी के किनारे देखा जाये तो कभी नहीं मिलते पर उनकी संवेदनाएं कैसे मिलती हैं ..जानिये उनकी कविता पढ़ कर ..

किनारे....

दो किनारों को
जोड़ती है
संवेदनाओं की
नदी ....
निरन्तर
बहती ,
उमगती ,
उफनती
My Photo
अर्चना जी की आवाज़ तो बहुत बार सुनी है …लेकिन इस बार वो मेरे मन  की पर लायी हैं शब्दों और भावों का मिलन …

क्या बात ...क्या बात...क्या बात

शब्द ने कहा भावों से
आया हूँ उबड़ खाबड़ राहों से
कहीं भाव बिखरे पड़े हैं
तो कहीं शब्द छिड़के पड़े हैं
मेरा फोटो
आशाजी  अपने आकांक्षा  ब्लॉग पर एक बहुत खूबसूरत रचना लायी हैं …
ज्योत्सना    यह ज्योत्सना चाँद से बातें कर रही है …इसे चाँद से असीम प्रेम है .. चाँद से ही तो इसका वजूद है …..चाँद ने एक प्रश्न किया ..उसका उत्तर आप पढ़ें ब्लॉग पर  जा कर ..
मैं जानना चाहता हूं ,
क्या काले दाग हैं,
मेरे चेहरे पर ,
वे तुमने भी कभी देखे हैं ,
My Photoरानी विशाल काव्य तरंग  पर  सब कुछ कह देने के बाद भी कह रही हैं कि कह न सकेगा ...
अब क्या न कह सकेगा वो तो आपको खुद ही पढ़ना पड़ेगा …
पलकें उठी
उठ कर झुकी
पल में सावल
करती कई
न मिली नज़र
कभी कही
पर नज़र में बस
हरसू वही
न नाम तो लिया
My Photo
राजीव  जी घोंसला  ब्लॉग से अपने मन के पुष्प समर्पित करते हुए कह रहे हैं कि

मैं भी रखना चाहता हूँ व्रत तुम्हारे लिए


पुरुषों कि सोच और मन कभी कभी कितनी कोमल होती है , विचार परिष्कृत होते हैं ..आप भी पढ़ें इस रचना को ..
आज
मैं भी
रखना चाहता हूँ व्रत
तुम्हारे लिए ,
तुम्हारी लम्बी आयु के लिए,
रहना चाहता हूँ
निर्जलाहार
पूरे एक दिन
ताकि, महसूस कर सकूं
तुम्हारी श्रद्धा, चिंता ,
मेरे लिए
तुम्हारा समर्पण,
मेरा फोटो सौरभ जी  मुझे कुछ कहना है ब्लॉग से एक गज़ल कह रहे हैं ..कि वक्त किस तरह ज़िंदगी से कीमत वसूल करता है -
ग़ज़ल
वक़्त अपने बही-खाते खोल कर फुर्सत वसूले
इस तरह या उस तरह से ज़िन्दगी कीमत वसूले
आसमां,धरती,बगीचे,हवा,पानी का किराया
आदमी से सांस लेने की  रकम कुदरत वसूले
मेरा फोटो मधु चौरसिया  जी ने अपनी कविता से मिडिया के कमाल की बात कही है …वैसे तो मिडिया क्या क्या कमाल करता है सब परिचित हैं ..पर आप इनकी लेखनी से उकेरी पंक्तियाँ भी पढ़ें ..
मीडिया है कमाल

मीडिया...यारों चीज बड़ी है कमाल
यहां बिछा है हर तरफ
खबरों का ही मायाजाल...
संपादक रहते हैं हमेशा बेहाल

साखी   पर इस बार डा० सुभाष राय लाये हैं

अशोक रावत की गज़लें


1.
हाँ मिला तो मगर मुश्किलों से मिला,
आइनों का पता पत्थरों से मिला.
2.
हमारे हमसफर भी घर से जब बाहर निकलते हैं,
हमेशा बीच में कुछ फासला रखकर निकलते हैं.

3.
उसके दर पे सर झुकाने मैं तो रोजाना गया,
ये अलग किस्सा है काफिर क्यों मुझे माना गया
4.
जब देखो तब हाथ में खंजर रहता है,
उसके मन में   कोई तो डर रहता है.
श्रीमती ज्ञानवती सक्सेना \ साधना वैद जी ने इस बार अपनी माँ  ज्ञानवती सक्सेना जी “ किरण “ की एक बहुत सुन्दर रचना पेश की है …सच तो यह है कि मूर्ति पूजा भी इसी लिए प्रारम्भ हुई जिससे उसमें ध्यान लगाया जा सके …मन चंचल प्रवृति का होता है ..यही बात आप इस कविता में भी देखिये ..

साकार बनो ओ निराकार

साकार बनो ओ निराकार !
कर प्राण देह से अलग
भला क्या मानव मानव रह सकता,
पूजा के बिना पुजारिन का
अस्तित्व न कोई रह सकता !
My Photo

श्यामल सुमन जी मनोरमा ब्लॉग पर देश कि राजनीति को दोषी मानते हैं और हिंदी भाषा के लिए चिंतित हैं …इस कविता में उनके विचार  जानिए ..

हिन्दी पखवारा
भाषा जो सम्पर्क की हिन्दी उसमे मूल।
बनी न भाषा राष्ट्र की यह दिल्ली की भूल।।
राज काज के काम हित हिन्दी है स्वीकार।
लेकिन विद्यालय सभी हिन्दी के बीमार।।
 वाणी गीत गीत मेरे  पर एक नारी कब पूर्ण - सम्पूर्ण होती है ….बता रही हैं एक बहुत प्यारी नज़्म से …एक  स्त्री जब पहली बार माँ बनती है और बच्चे को गोद में लेती है उसके मन में कैसे भाव उठते हैं उनका जिवंत वर्णन किया है ….आप भी महसूस करें …

मैं पूर्ण हुई ....सम्पूर्ण हुई ..

मिचमिचाती अधमुंदी पलकों में
सपनीले मोती जगमगाए
मेरी सूनी गोद भर आई
जब यह नन्ही कली मुस्कुराई
मैं अकिंचन, हुई वसुंधरा ...
मेरा फोटो
आचार्य परशुराम राय मनोज  ब्लॉग पर लाये हैं   शैशव
शैशव वह अवस्था जिसमें  दीन - दुनिया की कोई चिन्ता नहीं … इस कविता में कवि ने शैशव के अनेक चित्र खींचे हैं ..

खेल-खिलौनों   में    डूबे शिशु
खो     देते     सारी      दुनिया
केवल     अपने  खिलवाड़ों  से
भर  देते     सब  में   ख़ुशियां।
My Photo प्रमोद कुमार कुश “तन्हा “ अपनी गज़ल में कह रहे हैं कि अमीरों को सब सुख साधन उपलब्द्ध हों पर गरीबों को भी जीने का सामान  मिले .

ज़िन्दगी हंसते हुए कटती रहे .

ज़िन्दगी हँसते हुए कटती रहे तो ठीक है
आप जैसों की इनायत भी रहे तो ठीक है
कोठियों महलों की छत पे चांदनी बिखरे मगर
झोंपड़ों पे भी मेहरबानी रहे तो ठीक है
आनंद पाठक  अपने ब्लॉग 

हँसते रहो हँसाते रहो

पर एक बहुत गंभीर गज़ल कह रहे हैं …आज कहाँ रह गए हैं उसूल और  सच …
एक ग़ज़ल : वह उसूलों पर चला है ..
वह उसूलों पर चला है उम्र भर
साँस ले ले कर मरा है उम्र भर
जुर्म इतना है खरा सच बोलता
कटघरे में जो खड़ा है उम्र भर

My Photo अमिताभ मीत जी फासले की बात करते हुए पूछ रहे हैं कि आखिर फासला था कितना ? ( मुझे फासिल का अर्थ फासला ही लगा ….यदि कुछ और हो तो बताइयेगा )

फ़ासिल: कितना था

फ़ासिल: कितना था ?
चार पलों का ??
या .....
उतना - भी नहीं ???
मुझे तो इल्म था सब ....
यक़ीन था खुद पर .... कि कहाँ जाता हूँ
हश्र - तक का है इक वादा ... जो निभाता हूँ ...
  वंदना सिंह की एक गज़ल है ..बेइन्तिहाँ  दर्द समेटे हुए

दिल के दर्द को तुम परवाज मत देना
इन सिसकियों को कभी आवाज मत देना
दिल के दर्द को तुम परवाज मत देना


यहाँ अंदाज ए नजर न तुझे तेरी ही नजर में गाड़ दे
भूलकर भी किसी को दिल का राज मत देना

My Photo मानव मेहता अपने ब्लॉग सारांश ..एक अंत पर दर्द भरी गज़ल लाये हैं …

आज गर्दे-राह हुआ.....

उम्र गुज़री थी, जिस आशियाने को सजाने में,
वही आशियाना मेरा, जल कर तबाह हुआ....
न जाने किस बात की सज़ा मिली मुझको,
न जाने कौन सा ऐसा, मुझसे गुनाह हुआ....
0511290023151back_to_your_roots_t रौशन जी अपने मन की वेदना को शब्दों में ढाल कहते हैं कि सपने और हकीकत में जब फर्क पता चलता है तो कैसा आभास होता है …

 

 

ढल रही है रात…

ढल रही है रात  धीरे-धीरे ,
सपने रहे है उड़ मेरे आस पास
जैसे हो मेरे भावनाओं की परछाईया
रात के ढलने में और
मेरे टूटने में जैसे रहा न कोई फर्क
ढल रही रात , मेरे हर एक आँसू के साथ
सिद्ध नाथ सिंह जी इंजीनियर हैं और सरकारी सेवा  में हैं …अपने इज़हार ब्लॉग पर एक  गज़ल लाये हैं

मिला न हमको दुबारा वो बेवफा
ज़मीर जिसका भी देखा, लहूलुहान मिला.
हरेक रूह पर एक ज़ख्म का निशान मिला.
तलाश हमने बला की तो की मगर अब तक
जो झूठ बोल सके ऐसा आईना न मिला.
कुसुम ठाकुर जी का ब्लॉग है “कुसुम की यात्रा “ और आज मैं उनकी गज़ल लायी हूँ यहाँ जो उन्होंने समर्पित की है उनको जिन्होंने कुसुम जी को आज इस काबिल बनाया है
दिलों जाँ से कतरा बहाया है मैंने

दिलो जाँ से कतरा बहाया है मैंने
लो यादों की महफिल सजाया है मैंने
समेटूं मैं पलकों में चाहत थी मेरी

जो मरजी थी मेरी, दिखाया है मैंने
My Photoरिषभ जैन मैं , आप और इंडिया ब्लॉग से एक नयी जानकारी दे रहे हैं कि बिना धुले कपड़े की भी एक  कहानी होती है …सच भी है बिना धुले कपड़े यह बता देते हैं कि जिसके कपड़े हैं उसके साथ क्या हादसा हुआ है …

एक छुपी कहानी
हर बिना धुले कपडे की एक कहानी होती हें !
सिमटी हुई सी,
कभी आस्तीन कभी जेब कभी महक में छुपी !
झांकते है कुछ लम्हे कुछ यादे,
उन सिलवटो और निशानों से !
और सुनाते हें एक कहानी उस सफर की,
जो उसके धुलने के साथ ही  भुला दिया जाएगा !

My Photo
रोबिन साहब ..अपने चंद किरदार ब्लॉग पर बड़ी रूमानी सी गज़ल लाये हैं …
एक ख्वाब चले
चल सके तो एक ख्वाब चले।
खुदा करे आसपास शबाब चले।
तेरी आँखों का तिलिस्म ठहरे,
फिर कहाँ कोई रुआब चले।
 
My Photo
स्वप्न रंजीता पर आशा जोगलेकर जी की एक भीगी भीगी सी रचना पढ़िए .
बारिश
कभी तो ये आंगन छिडकती है बारिश
कभी पेड-पौधे धुलाती है बारिश ।
कभी तो झमाझम बरसती है बारिश
और मोर छमाछम नचाती है बारिश
My Photoहांलांकि  मैं यह चित्र नहीं लगाना चाहती थी  पर मयंक गोस्वामी के  परिचय ने मुझे आकृष्ट किया ---"
मैं महसूस करता था कि मैं अन्य लोगो से कुछ अलग हूँ, मेरा व्यक्तित्व अनोखा है , अद्वितीय है और समाज मुझे समझ नहीं सकता| साधारण लोग अत्यंत साधारण है, मेरी प्रतिभा के स्तर से बहुत नीचे है, मैं उन्हें जिस तरह चाहूँ, बहका सकता हूँ| मुझसे अपने व्यक्तित्व के प्रति एक अनावश्यक मोह, उसकी विकृतियों को भी प्रतिभा का तेज़ समझने का भ्रम और अपनी असामाजिकता को भी अपनी ईमानदारी समझने का अनावश्यक दंभ आ गया था | धीरे धीरे मैं अपने आप को ही इतना प्यार करने लगा की मेरे मन के चारो और ऊँची ऊँची दीवारे खड़ी हो गयी और मैं अपने स्वयं अपने अंहकार में बंदी हो गया, पर इसका नशा मुझ पर इतना तीखा था की मैं कभी अपनी असली स्थिति पहचान ही नहीं पाया |" धर्मवीर भारती जी की ये पंक्तियाँ, कुछ लोगो के लिए एक अद्वितीय रचना "सूरज का सातवां घोड़ा " का कुछ अंश हो सकती है, पर कभी कभी मेरे लिए ये एक अंतःकरण की आवाज़ है.. एक हर उस व्यक्ति के समान जो इस समाज में जी रहा है.. सान्त्व्नाओ के तले दबा हुआ, थोडा सा मार्क्सवादी और पूरी तरह अपनी ही तरह की दुनिया की कल्पना लिए हुए | हर उस व्यक्ति के लिए जिसके मन में संवेदना है पर वातावरण को समझ पाने की अक्षमता के कारण वह क़ैद हो रहा है .. अपने ही जाल में.. मेरी तरह ... आत्ममुग्ध, निर्लक्ष्य और थोडा सा अहंकारी…
अब उनकी रचना अपने मित्रों के नाम --

उन सब लोगो के नाम .

कुछ शामे न ढलें,
तो बेहतर है,
कभी कभी रौशनी भी,
आँखों से सहन नहीं होती |
 मेरा फोटो
डा० रूपचन्द्र शास्त्री जी उच्चारण  ब्लॉग पर हिंदी दिवस के उपलक्ष में अपनी हिंदी भाषा की महिमा बता रहे हैं …जितनी वैज्ञानिक भाषा हिंदी है उतनी कोई अन्य नहीं …आप भी पढ़ें और मनन करें
..
अपनी भाषा हिंदी ...
भारतमाता के सुहाग की, जो है पावन बिन्दी।
भोली-भाली सबसे प्यारी, है अपनी भाषा हिन्दी।।


भरी हुई है वैज्ञानिकता, व्यञ्जन और स्वरों में,
उच्चारण में बहुत सरलता, इसके सभी अक्षरों में,
ब्रज-गोकुल में बसी हुई हो, बनकर तुम कालिन्दी।
भोली-भाली सबसे प्यारी, है अपनी भाषा हिन्दी।।

न दैन्यं न पलायनम्     प्रवीण पांडे जी का ब्लॉग है और ज्यदातर वो गद्य विधा में लिखते हैं …लेकिन जब कविता लिखते है तो चमत्कृत कर देते हैं ….कोमल भावों से सजी उनकी यह कविता

पीड़ा कह दो …..     ऐसा ही चमत्कार कर रही है …
जीवन में विधि ने लिख डाले, कुछ दुख तेरे, कुछ मेरे हैं,
जीना संग है, फिर क्यों मन में, एकाकी भाव उकेरे हैं ।
ढालो शब्दों में, बतला दो, पीड़ा आँखों से जतला दो,
मैं ले आऊँगा जहाँ जहाँ, माणिक-दृग-नीर बिखेरें हैं।१।
विभिन्न भावों से भरा यह काव्य मंच आशा है आपको पसंद आया होगा ….आपकी प्रतिक्रिया और सुझाव हमें नयी उर्जा देता है …… इन्हीं शब्दों के साथ  ..फिर मिलेंगे ….अगले मंगलवार को …नमस्कार ….संगीता स्वरुप

46 comments:

  1. संगीता जी ,
    बहुत अच्छी लिंक्स दी है आपने | न जाने क्यूँ ऐसा लगता है आप में इतनी प्रतिभा है कि आपसे लेखन के लिए बहुत से टिप्स मिल सकते हैं |बधाई आज कि चर्चा के लिए |मेरी रचना की जो समीक्षा आपने की है , बहुत अच्छी लगी |इसके लिए बहुत आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  2. आपकी मेहनत और प्रतिभा को सलाम ...
    बहुत अच्छे लिंक्स ...
    चर्चा में शामिल करने के लिए आभार ...!

    ReplyDelete
  3. sangeeta ji ..
    bahut saari kai acchi rachnaye padhne ko mili ...bahut accha laga naye blogs ko padhkar ..aapki mehnat dekhkar accha laga ..mere rachna ko charcha me laane k liye behad shukriya :)
    mere liye itna hi kafi hai k aapko vo rachna pasand aayi :)

    ReplyDelete
  4. संगीता स्वरूप जी!
    आपने आज का चर्चामंच
    बहुत सुन्दर लिंकों से सजाया है!
    --
    बहुत-बहुत आभार!

    ReplyDelete
  5. संगीता मैडम...
    आपने एक से बढ़कर एक रचनाओं को चर्चामंच पर बड़ी ही शिद्दत से सजाया है...
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. हमेशा की तरह बहुत ही सुन्दर चर्चा ! सभी रचनाओं को पढ़ना चाहती हूँ ! सार्थक साहित्य का इतना सुन्दर आसमान हमारे लिए आप उपलब्ध करा देती हैं इसके लिए आपका जितना भी धन्यवाद किया जाए कम होगा ! आपका बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  7. संगीता जी बहुत सुंदर मंच सजाया है आपने.. सभी प्रतुतियाँ उल्लेखनीय हैं लेकिन सौरभ जी की ग़ज़ल, राजीव जी की कविता..'ए़क व्रत रखना चाहता हूँ मैं' वंदना जी की कविता 'पीड़ा का मर्म' प्रवीण पाण्डेय जी की कविता 'पीड़ा कह दो' आदि उल्लेखनीय हैं...

    ReplyDelete
  8. दीदी,
    मेरी कविता को चर्चा मंच पर रख कर मुझे जो स्थान एवं सम्मान दिया है उसके लिए आभार. शेखर एवं कपूर साहब की गजल, सुमन जी की कलम से निकला मातृभाषा प्रेम और वंदना जी के मन से निकली बातें:
    "रूह पर गिरते
    अश्कों पर
    लब अपने
    रख दिए होते".का गुलदस्ता बेहद मोहक और नैसर्गिकता से भरपूर है.

    ReplyDelete
  9. अच्छी चर्चा। बधाई॥

    ReplyDelete
  10. apki mehnat saaf jhalak rahi....
    bahut hi achhe blogs ka pata chala
    shukriya...

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर काव्य मंच सजाया है……………मेहनत साफ़ झलक रही है और लिंक्स भी काफ़ी मिल गये जो रह गये थे……………………आभार्।

    ReplyDelete
  12. दीदी,
    मेरी कविता को चर्चा मंच पर रख कर मुझे जो स्थान एवं सम्मान दिया है उसके लिए आभार.

    ReplyDelete
  13. सबसे पहले हिन्दी दिवस की शुभकामनाएं एवं बधाई.............
    दी नमस्ते
    चर्चा मंच को आज
    बहुत सुन्दर लिंकों से सजाया है....
    आपका बहुत बहुत आभार
    की मेरी रचना आपको पसंद आई और आपने मेरी रचना को चर्चा काव्य मंच तक पहुँचाया ....
    जो मेरे लिए बहुत उपलब्धि की बात है

    ReplyDelete
  14. सभी पाठकों का आभार ..

    @@ गोदियाल जी ,

    आपसे विनम्र निवेदन है ...

    हिंदी की इतनी दुर्दशा भी नहीं है ...आप अन्य ब्लोग्स पर हिंदी की प्रगति के बारे में लेख पढ़ सकते हैं ..
    यह हम स्वयं हैं जो अपनी भाषा की दुर्दशा कर रहे हैं ...
    माना कि आज भी अंग्रेज़ी भाषा रोज़गार से जुडी है पर हिंदी ने अपने बलबूते पर स्वयं का विकास किया है ...
    इस तरह की रचनायें टिप्पणी में सार्वजानिक रूप से न दें ..आभारी रहूँगी ..

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर लिंक्स का संकलन प्रस्तुत किया दी आपने ....मेरी रचना को अपनी चर्चा में स्थान दे कृतार्थ किया आपने
    हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाए
    जय हिंद जय हिंदी

    ReplyDelete
  16. संगीता जी एवं मनोज जी , मेरी टिपण्णी से आप लोगो को दुःख पहुंचा , जिसके लिए क्षमा चाहता हूँ ! मैं अपनी टिपण्णी डिलीट कर रहा हूँ ; मनोज जी से भी निवेदन करूंगा कि अपनी उदघृत टिपण्णी को भी हटा ले तो मेहरबानी होगी !

    ReplyDelete
  17. गोदियाल जी ,

    आपकी भावनाओं का सम्मान करती हूँ ....

    आपने हमारी भावनाओं को समझा ..आभारी हूँ ...


    @@ सभी पाठकों से निवेदन है कि यदि हो सके तो यह लेख ज़रूर पढ़ें ...
    http://hindibharat.blogspot.com/2010/09/blog-post.html

    ReplyDelete
  18. गोदियाल जी ,

    आपकी भावनाओं का सम्मान करता हूँ!

    आपने हमारी भावनाओं को समझा ..आभारी हूँ!

    ReplyDelete
  19. बहुत ही जबर्दस्त्त चर्चा ..बेहतरीन लिंक्स मिले बहुत मेहनत करती हैं आप और वो यहाँ परिलक्षित भी होती है.

    ReplyDelete
  20. बहुत बहुत शुक्रिया संगीता जी एवं मनोज जी, आगे से कोशिश करूँगा की ऐसी हरकत न करू !

    ReplyDelete
  21. एकबार पुनः बढ़िया लिंक लगाए आपने.. आभार..

    ReplyDelete
  22. दीदी,
    बहुत सुन्दर चर्चा मंच..एक दम छंट छंट के रचनायें इक्कठी करी हैं अपने..समयानुकूल ...:)
    मेरी रचना को चर्चा में शामिल करने का शुक्रिया

    ReplyDelete
  23. बहुत अच्छे लिंक्स मिलें ..... धन्यबाद.

    ReplyDelete
  24. संगीता जी , बहुत बहुत शुक्रिया, मेरी रचना इस संकलन में शामिल करने के लिए.. रही बात मेरे चित्र पर आपत्ति की तो क्षमा चाहता हूँ .. ये चित्र मैंने अपने ब्लॉग "दिल, दुनिया और ज़िन्दगी" को एक आकार देने के लिए लगाया था ... अगर इसी ब्लॉग में आप कुछ नीचे जायेंगे तो आपको एक कविता मिलेगी "मेरी खिड़की से आसमान नज़र आता है " .. बस उसी को अर्थ देने के लिए मैं ये फोटो एक बीच पर लिया था.. अगर इसमें कुछ भी आपत्तिजनक लगता है , तो मैं इसमें अवश्य बदलाव करूँगा .. पुनः बहुत बहुत धन्यवाद् |

    ReplyDelete
  25. sangeeta ji..meri ghazal charcha-manch par rakhne ke liye bahut-2 shukriya. iss manch ke kaaran mujhe anek pratibhashali rachnakaaron se judne ka saubhagya prapta hua! main apni rachnaaon par aap sabhi mahanubhavon ke sujhaav aamantrit karta hoon jisse main apni lekhni mei aur sudhaar kar sakoon. thnx a lot again..sangeeta ji

    ReplyDelete
  26. आभार आपका ,जो आपने इतना समय दिया,मेरे गीत सुने,और चर्चामंच पर मेरे ब्लॉग को जगह दी ....आपकी मेहनत से बहुत से लोगो से जुडने का मौका मिला ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  27. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  28. बहुत ही जबर्दस्त्त चर्चा ..बेहतरीन लिंक्स मिले..
    चर्चा में शामिल करने के लिए आभार ...!

    ReplyDelete
  29. abhar bahut achhe links hai
    gneshji ghar me aaye hai thoda smy kam pad rha hai blag padhne ko

    ReplyDelete
  30. Sangita ji,
    Is show-room ko apane itani sundar rachanon sajaya hai ki kya kahun. Bahut achha laga. Sadhuvad.

    PATHAKON KO HINDI DIVAS KI HARDIK
    BADHAI

    ReplyDelete
  31. आपकी चर्चा में हर बार आपकी मेहनत और प्रतिभा का आईना मिलता है. बहुत ही अच्छे लिंक्स से सुसज्जित करती हैं आप अपनी चर्चा.

    चर्चा में मेरी रचना को लेने के लिए आभारी हूँ.

    हिंदी दिवस की आप सब को शुभकामनाएं एवं बधाई.

    ReplyDelete
  32. सुन्दर संकलन, पठनीय पोस्टें।

    ReplyDelete
  33. स्‍वयं की रचना ब्‍लॉग पर लगाना सहज है लेकिन सप्‍ताह भर विभिन्‍न ब्‍लॉग्‍स से सामग्री का चयन कर सार तैयार करना और पूर्ण साज-सज्‍जा के साथ इस सहजता से प्रस्‍तुत करना एक साधक के लिये ही साध्‍य हो सकता है।
    ईमानदारी से कहूँ तो आज पहली बार चर्चामंच पर आया लेकिन निराश नहीं हुआ। बहुत से नये ब्‍लॉग्‍स की जानकारी भी मिली और उन्‍हें पढने का अवसर भी। देखा कि किस कुशलता से आपने संगत अंशों का चयन कर प्रस्‍तुत किया है।
    मेरी जो चार पंक्तियॉं आपने प्रस्‍तुत कीं वो वस्‍तुत: एक कत्‍अ के रूप में पृथक से भी पढी जा सकती हैं और यह गजल वस्‍तुत: एक दुआ ही है जो अवसर विशेष के लिये मेरे माध्‍यम से प्रस्‍तुत हो गयी।
    हार्दिक बधाई और आभार।

    ReplyDelete
  34. संगीता दीदी ... मुझ जैसे बालक की कविता "एक छुपी कहानी" को आपने अपने ब्लॉग पर प्रकाशित कर मुझे सच में एक सम्मान प्रदान किया हें ...
    में इन्जिनिरिंग विद्यार्थी हूँ और मात्र शौक के लिए कविताये लिखता हू ... अतः उत्साह वर्धन का बहुत बहुत आभार!!

    ReplyDelete
  35. संगीता दीदी ... मुझ जैसे बालक की कविता "एक छुपी कहानी" को आपने अपने ब्लॉग पर प्रकाशित कर मुझे सच में एक सम्मान प्रदान किया हें ...
    में इन्जिनिरिंग विद्यार्थी हूँ और मात्र शौक के लिए कविताये लिखता हू ... अतः उत्साह वर्धन का बहुत बहुत आभार!!

    ReplyDelete
  36. Achchi charcha in links par jaoongi jaroor. Meri rachna aapko pasand aaee aur use charch amen shamil kiya, bahut dhanyawad. Hindi font aaj available nahee hai jab ki aaj hee hindidiwas hai .Shubh kamnaen.

    ReplyDelete
  37. संगीता जी
    बहुत बहुत धन्यवाद ...सार्थक चर्चा !

    ReplyDelete
  38. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  39. संगीता जी, बहुत कामयाब चर्चा पेश की है...
    अच्छी रचानाओं के लिंक देने के लिए शुक्रिया...
    ’ईद मना’ को शामिल करने के लिए आभार...
    और हां...
    देर से हाज़िरी के लिए मुआफ़ी.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...