Followers

Thursday, March 05, 2020

चर्चा - 3631

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
SADA
My photo
&
धन्यवाद
दिलबागसिंह विर्क

10 comments:


  1. चाइना उत्पादित कोरोना का महाभय पूरे देश में कायम किया जा रहा है । 'मास्क लगाइए, हिफाजित के लिए नियमित क्रोसिन और कुछ अन्य दवा खाइए, डेटॉल से हाथ धोइए, लोगों से मेलमिलाप नहीं दूरी बना कर रहिए' आदि अपीलों की भरमार है ।
    कोरोना वायरस से भी खतरनाक उसका भय हैं, यह वायरस अन्य रोग की तरह है । लेकिन यह घातक तब होता है जब हमारे शरीर की प्रतिरोधक शक्ति इससे पराजित होती है। इसका सफल इलाज होम्योपैथिक और आयुर्वेदिक औषधियों में है। होम्योपैथिक के आर्सेनिक एल्बम 30 में इस वायरस से लड़ने की क्षमता है। यह जानकारी सेवानिवृत्त होम्योपैथिक चिकित्सा अधिकारी एवं आरोग्य भारती के विंध्याचल मंडल विभाग प्रमुख डॉ० गणेश प्रसाद अवस्थी ने दी।
    मंच पर सदैव की तरह आज भी सुंदर रचनाएँ हैं, सभी को प्रणाम।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आर्सेनिक एल्बम 30 की सूचना तो केंद्रीय औषध‍ि मंत्रालय ने भी दी है परंतु आपकी ये बात सही है क‍ि भय अध‍िक है । ठीक इसी तरह जैसे क‍ि सांप के काटने से कम लोग मरते हैं परंतु उसके काटे जाने के बाद इस भय से अध‍िक लोगों की मृृृृृत्युहो जाती है क‍ि '' सांप ने काट ल‍िया''

      Delete
  2. बहुत सुन्दर चित्रमयी चर्चा प्रस्तुति।
    धन्यवाद आदरणीय दिलबाग विर्क जी।
    शुभ प्रभात सभी पाठकों को।

    ReplyDelete
  3. पठनीय रचनाओं के संग बहुत सुंदर प्रस्तुति आदरणीय सर। सभी रचनाकारों को खूब बधाई।
    मेरी दो रचनाओं को मंच पर स्थान देते हुए मेरा उत्साह बढ़ाने हेतु आपका हार्दिक आभार। सादर प्रणाम 🙏

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति, मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन चर्चा अंक ,सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं सादर नमन सर

    ReplyDelete
  7. मेरी ब्लॉगपोस्ट को इस महत्वपूर्ण मंच में शाम‍िल करने के ल‍िए बहुत बहुत धन्यवाद द‍िलबाग जी

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।