Followers

Thursday, March 19, 2020

चर्चा - 3645

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
Sahityasudha
मेरी फ़ोटो
धन्यवाद
दिलबागसिंह विर्क

9 comments:

  1. जीवन चलने का नाम
    चलते रहो सुबह-ओ-शाम..

    सुबह- सुबह मन में उठ रहे अनेकों शोर को दबाने के लिए इस गीत की दो-चार पँक्तियों को गुनगुनाते हुये ठीक पौने पाँच बजे सड़क पर निकल पड़ा ।
    कोराना के भय से जहाँ प्रातः भ्रमण करने वाले लोग नकाबपोश बने दिख रहे थे, तो वहीं श्रमिक वर्ग सीना ताने उसे ललकार रहा है। कूड़ा बिनने वाली औरते और बच्चियाँ , सड़कों पर घुमने वाले विक्षिप्त और भिक्षुक जन उसे चुनौती दे रहे हैं - " अरे भाई कोरोना ,जरा इधर भी तो आ ,तब समझूँ की तू कितना बलवान किरौना है रे...। जब योगी सरकार के बीते तीन वर्षों में आये तथाकथित परिवर्तन से हम नहीं प्रभावित हुये ,तो फिर हे कोरोना ! तेरे भी आने- जाने से हमपर क्या फ़र्क पड़ेगा ?"

    बहरहाल, इस सुंदर अंक, विविधताओं से भरी रचनाओं के मध्य मेरे सृजन
    साँसों से रिश्ता ...
    को स्थान देने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार
    सभी को प्रणाम।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत ही मर्मस्पर्शी प्रतिक्रिया दी है आपने....

      Delete
  2. बिना किसी भूमिका के सीधे ब्ल़ॉगों के लिंक की प्रस्तुति।
    आपका यहीं अन्दाज तो बहुत लुभाता है चर्चा में।
    आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सचमुच... To the point वाला अंदाज है ये... आदरणीय आपने सही कहा

      Delete
  3. मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद विर्क जी |

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति दिलबाग सिंह जी ! चर्चा में मेरे सृजन को मान देने के लिए आपका हृदयतल से आभार ।

    ReplyDelete
  5. जी! नमन आपको और साथ ही आभार आपका मेरी रचना/विचारधारा को चर्चा-मंच पर स्थान देने के लिए ...

    ReplyDelete
  6. अच्छी चर्चा,बढ़िया लिंक्स...

    ReplyDelete
  7. अच्छी चर्चा...
    मेरी ग़ज़ल को शामिल करने हेतु हार्दिक आभार 🙏

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।