Followers

Thursday, March 04, 2021

चर्चा - 3995

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 

विश्व बैंक की ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार विश्व के 180 देशों में ( 190 में से ) महिलाओं को पुरुषों के बराबर दर्जा प्राप्त नहीं है। जिन दस देशों में पुरुष-स्त्री को समानता का दर्जा हासिल है, वे हैं - बेल्जियम, फ़्रांस, डेनमार्क, लातविया, लग्ज़मबर्ग, स्वीडन, आइसलैंड, कनाडा, पुर्तगाल और आयरलैंड। इन दस देशों में कई अनजान नाम हैं, जबकि कई बड़े नाम नहीं हैं, लेकिन इन सबसे अधिक चिंताजनक बात यह है कि भारत का रैंक 123वां है, यानी  122 देशों की स्थिति हमसे बेहतर है। हर क्षेत्र में हम लगातार पिछड़ रहे हैं, लेकिन खुद को महान कहने से हम नहीं चूकते। हमारी महानता किस बात में है, हमें इस पर हमें विचार करना ही होगा।

(आँकड़े सुप्रसिद्ध कहानीकार तेजेंद्र शर्मा जी की फ़ेसबुक वाल पर आधारित ) 

चलते हैं चर्चा की ओर 

14 comments:

  1. पठनीय लिंक्स का अच्छा संयोजन....
    साधुवाद आदरणीय विर्क जी 🙏

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    आज का अंक सुन्दर भाव पूर्ण लिंक्स से सजा है |
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार सहित धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर भूमिका। विचार करने को प्रेरित करती साथ ही सराहनीय प्रस्तुति।सभी रचनाकारो को बधाई एवं शुभकामनाएँ।
    सादर

    ReplyDelete
  4. उपयोगी लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग सिंह विर्क जी।

    ReplyDelete
  5. 'हर क्षेत्र में हम लगातार पिछड़ रहे हैं, लेकिन खुद को महान कहने से हम नहीं चूकते। हमारी महानता किस बात में है, हमें इस पर हमें विचार करना ही होगा।'
    क्या खूब लिखा है आपने। सच्चाई का बड़े सटीक शब्दों में वर्णन किया है।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर प्रस्तुति ।
    सभी रचनाएं सुन्दर। सभी रचनाकारों को बधाई
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से सादर आभार।

    ReplyDelete
  7. सार्थक भूमिका के साथ उम्दा रचनाओं का संकलन, आभार मुझे भी शामिल करने के लिए !

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन रचनाएं, सुंदर प्रस्तुति‌।

    ReplyDelete
  9. उम्दा लिंक्स।

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. धन्यवाद द‍िलबाग जी, इतनी उम्दा सभी पोस्ट पढ़वाने के ल‍िए , आपके प्रयास बेहद सराहनीय हैं...हमें एक ही जगह इतना खूबसूरत लेखन पढ़ने को म‍िल जाता है..आभार

    ReplyDelete
  12. सराहनीय भूमिका एवं पठनीय सूत्रों से सजी प्रस्तुति में मेरी रचना शामिल करने के लिए असंख्य आभार आदरणीय सर।

    सादर।

    ReplyDelete
  13. पठनीय और सुंदर लिंक संयोजन
    सभी रचनाकारों को बधाई
    आपका आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।