Followers

Wednesday, March 24, 2021

"रंगभरी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा अंक 4015)

 मित्रों।
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
--

आज से होली की विधिवत् शुरुआत हो जायेगी।
आज रंगभरी एकादशी है
रंगभरी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

रंगभरी एकादशी फाल्गुन शुक्ल पक्ष की एकादशी को कहा जाता है। इसे आमलकी एकादशी व्रत कहते हैं। रंगभरी एकादशी के दिन भगवान विष्णु जी की आराधना के साथ आंवले की पूजा की जाती है। धार्मिक मान्यता है कि इसी एकादशी के दिन भगवान शिव मां पार्वती को पहली बार काशी में लेकर आए थे। इसलिए यह एकादशी बाबा विश्वनाथ के भक्तों के लिए महत्वपूर्ण मानी जाती है। 

--

गीत  "मतवाला गिरगिट रूप बदलता जाता है" 
--
मोम कभी हो जाता है, 
तो पत्थर भी बन जाता है।
दिल तो है मतवाला गिरगिट, 
रूप बदलता जाता है।।
--
कभी किसी की नहीं मानता,
प्रतिबन्धों को नहीं जानता।
भरता है बिन पंख उड़ानें,
जगह-जगह की ख़ाक छानता।
वही काम करता है यह, 
जो इसके मन को भाता है।
दिल तो है मतवाला गिरगिट
रूप बदलता जाता है।।
 उच्चारण - 
--
--
--
--
भरमाया सा 

है जब तक

प्राणों का आकर्षण

भरमाया सा  

मद मोह माया से  

छला जाता हूँ 

--
जन्म स्थान 
जैसे जड़वत अपनी जगह, मेघ आ
कर गुज़र जाते हैं, रास्ते हो चले
हैं, निःशब्द अजगर की तरह
स्थिर व सुनसान, स्नेह
अंचल रोके रखता
है जीवन का
अवसान।
दृष्टि
रेखा के समान्तराल, हर चीज़ है वेगवान। 
शांतनु सान्याल, अग्निशिखा 
--
--
मैं प्रेम में हूँ  
ज़िन्दगी तो जी ली 
अब मरने की कला सीख रही हूँ 
आज कल मैं प्रेम में हूँ 
मृत्यु ! मैं तुझसे 
भरपूर  आलंगन चाहती हूँ . 
संगीता स्वरुप गीत.......मेरी अनुभूतियाँ  
--
--
नदी का द्वीप 

(1984 में लिखी गई एक कविता )

अजस्र , स्रोतस्विनी के बीच

एक निर्जन द्वीप 

सिरजा गया  ,

माँ के द्वारा ही .

उद्दाम उन्मत्त प्रवाह में 

गिरिजा कुलश्रेष्ठ, Yeh Mera Jahaan  
--
--
--
--
--
हक है तुम्हें 
पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा, 
--
--
--
अब बारी तुम्हारी 

सुनो बेटों-

माना कि वे कुछ आक्रामक हैं

उग्र हैं ...आन्दोलित हैं...

भिड़ जाती हैं बात-बेबात

तेवर भी कुछ भारी हैं

नहीं सुनतीं किसी की भी

बस सुनतीं अपने मन की 

और करती मनमानी हैं...! 

उषा किरण, ताना बाना  
--
किताब परिचय: द ग्रेट सोशल मीडिया ट्रायल 

कपिल माथुर एक सिंगल फादर था, जिसका हर मिडिल क्लास पैरेंट की तरह एक ही सपना था... अपने टीनएज बेटे अविनाश को हर वो ख़ुशी देना जिसका वो हक़दार था। एक मामूली टीचर रहे कपिल माथुर की कोल्हू के बैल की तरह गोल गोल घूमती सुव्यवस्थित जिन्दगी में तब हलचल मच गयी, जब एक लड़की ने सोशल मीडिया पर लिखी पोस्ट में उसके बेटे, अविनाश पर बदफेली करने की धमकी देने का आरोप लगाया।

फिर शुरू हुआ अविनाश का द ग्रेट सोशल मीडिया ट्रायल। 

विकास नैनवाल 'अंजान', एक बुक जर्नल  
--
आज की चर्चा में बस इतना ही।
--

15 comments:

  1. आदरणीय शास्त्री जी, नमस्कार।
    सुंदर तथा रोचक लिंक्स की शानदार प्रस्तुति के लिए आपको मेरा हार्दिक नमन, मेरी रचना को शामिल करने के लिए आपका हार्दिक आभार एवम अभिनंदन ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर भूमिका के साथ विविधरंगी सूत्रों से सजी अत्यंत सुन्दर प्रस्तुति । सभी चयनित रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
  3. आदरणीय शास्त्री जी,
    सादर नमन 🙏
    आपको भी रंगभरी एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएँ🙏
    नवोदित युवा प्रतिभाओं को मंच देने का जो पुनीत कार्य आप चर्चा मंच के माध्यम से कर रहे हैं, वह श्लाघनीय है। साधुवाद🙏
    आपने मेरी पोस्ट को स्थान दिया है, आपके इस औदार्य के प्रति मैं अपनी कृतज्ञता ज्ञापित कर रही हूं। हार्दिक आभार 🙏
    सादर,
    डॉ. वर्षा सिंह

    ReplyDelete
  4. उम्दा लिंक्स आज की |मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  5. शुभ प्रभात ... मैं भी हूँ कहीं, आभार शुक्रिया। ।।।

    ReplyDelete
  6. आज की चर्चा के लिए चयनित रचनाएँ अच्छी थी। सार्थक पहल के लिए आ डॉ रूपचंद्र शास्त्री जी को हार्दिक आभार!--ब्रजेंद्रनाथ

    ReplyDelete
  7. बहुत आभार आपका आदरणीय शास्त्री जी। सभी लिंक बहुत अच्छे हैं। सभी रचनाकारों को खूब बधाई।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुंदर लिंकों से सजी बेहतरीन चर्चा अंक आदरणीय सर,सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  9. सभी रचनाएँ अपने आप में अद्वितीय हैं मुग्ध करता हुआ चर्चामंच, मुझे शामिल करने हेतु असंख्य आभार आदरणीय - - नमन सह। सभी को होली की अग्रिम असंख्य शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. सभी रचनाकारों को शुभकामनाएं व बधाई

    ReplyDelete
  11. सभी रचनाकारों को बधाई।
    सुंदर लिंक चयन।
    सुंदर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  12. रोचक लिंक्स से सुसज्ज्ति चर्चा....

    ReplyDelete
  13. संकलन बहुत ही सराहनीय व पर्याप्त सामग्री वाला है | सभी रचनाएँ सुन्दर , प्रशंसनीय है | सभी रचनाकारों को मेरी हार्दिक बधाई शुभ कामनाएं |

    ReplyDelete
  14. आदरणीय...बहुत ही सुंदर लिंकों से सजी बेहतरीन चर्चा अंक ।सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें। मेरी रचना साझा करने के लिए आपका बहुत आभार ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।