Followers

Thursday, March 25, 2021

कोरोना या खिलौना चर्चा - 4016

 आज कि चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है

यूँ तो बीमारियाँ प्राकृतिक आपदा होती हैं और कोई भी सरकार अपने तरफ़ से प्रयास करने के सिवा कुछ नहीं कर सकती| कोरोना के मामले में भी ऐसा ही कहा जाना चाहिए, लेकिन पता नहीं क्यों शंकाएं बार-बार अपना सिर उठा लेती हैं| कोराना का आगमन मार्च 2020 में हुआ| कर्फ्यू लगा, लॉकडाउन हुआ| भारत ने वैक्सीन भी बना ली| इसके बावजूद कोरोना मार्च आते-आते फिर तेजी से बढ़ रहा है| इसे भी समझा जा सकता है कि नई बिमारी है, नियन्त्रण में नहीं आ रही, लेकिन चुनावी राज्यों में यह क्यों निष्प्रभावी हो जाता है? चुनावी रैली में जा रहे लोगों का टेंपरेचर कौन चैक करता है, जबकि हर जगह इंट्री टेंपरेचर चैक के बाद ही होती है | सोशल डिस्टेंस भी नहीं रखा जा रहा और कोरोना भी नहीं बढ़ रहा| इसका अर्थ? कहीं यह सरकार के हाथ का खिलौना तो नहीं?
-- 

चलते हैं चर्चा की ओर 

-
--

--

--

--

--

--

--
--

धन्यवाद 

दिलबागसिंह विर्क 

==

13 comments:

  1. शुभ प्रभात ...हार्दिक धन्यवाद। पटल को नमन।

    ReplyDelete
  2. सार्थक भूमिका के साथ उपयोगी लिंक दिये है आपने पढ़ने के लिए।
    आपका आभार आद0रणीय दिलबाग सिंह विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. विविधताओं से भरपूर बेहतरीन सूत्रों से सजी अत्यंत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति । सभी चयनित रचनाकारों को बहुत बहुत बधाई । मुझे चर्चा में सम्मिलित करने के लिए हार्दिक आभार दिलबाग सिंह जी।

    ReplyDelete
  4. विचारणीय भूमिका के साथ [थनीय सूत्रों का संकलन ! आभार !

    ReplyDelete
  5. कृपया पठनीय पढ़ें

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    सभी लिंक बहुत सुंदर।
    भूमिका गहन संकेत देती।
    सभी रचनाकारों को बधाई।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय से आभार।
    सादर।

    ReplyDelete
  8. बढ़िया लिंक्स सजाए हैं ।शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. बहुत खूब हैं सारे ल‍िंंक..एक से बढ़कर एक...धन्यवाद द‍िलबाग जी, इतनी अच्छी रचनायें पढ़वाने के ल‍िए

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुंदर भूमिका के साथ सराहनीय प्रस्तुति आदरणीय सर।
    सभी को बधाई।
    सादर

    ReplyDelete
  11. सभी रचनाएँ अपने आप में अद्वितीय हैं मुग्ध करता हुआ चर्चामंच, मुझे शामिल करने हेतु असंख्य आभार आदरणीय - - नमन सह। सभी को होली की अग्रिम असंख्य शुभकामनाएं।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।