Followers

Thursday, March 11, 2021

चर्चा - 4002

 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि को आदिदेव भगवान शिव ,करोड़ों सूर्यों के समान प्रभाव वाले ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुए थे। यही वजह है कि इसे हर वर्ष फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को महापर्व के रूप में मनाया जाता है। महाशिवरात्रि वह महारात्रि है जिसका शिव तत्व से घनिष्ठ सम्बन्ध है। यह पर्व शिव के दिव्य अवतरण का मंगल सूचक पर्व है। उनके निराकार से साकार रूप में अवतरण की रात्रि ही महाशिवरात्रि कहलाती है।
महाशिवरात्रि के पावन पर्व की सभी को हार्दिक शुभकामनाएं 
चलते हैं चर्चा की और 
धन्यवाद 
दिलबागसिंह विर्क 

11 comments:

  1. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, दिलबाग जी।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर और उपयोगी चर्चा।
    जयभोले नाथ।
    महाशिरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग सिंह विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. सुप्रभात
    उपयोगी चर्चा |जय महाकाल |शिवरात्री की शुभ कामनाएं |मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार सहित धन्यवाद
    दिलबाग जी |

    ReplyDelete
  4. सुन्दर और सार्थक चर्चा मे मेरी पोस्ट सम्मिलित करने हेतु हार्दिक आभार दिलबाग सिंह जी । आप सभी को महाशिरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  5. शिवरात्रि के पावन पर्व पर सुंदर और सार्थक भूमिका के साथ पठनीय लिंक्स का चयन, आभार !

    ReplyDelete
  6. सभी लिंक्स पठनीय । सुंदर चर्चा के लिए आभार ।
    शिवरात्रि की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  7. दिलबाग जी
    समस्त चर्चा मंच परिवार को की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. हार्दिक आभार आपका।इस मंच के सभी लेखकों और पाठकों को महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  9. महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर आप सभीको हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं ! आज के चर्चामंच को बहुत ही सुन्दर सार्थक सूत्रों से सजाया है दिलबाग जी ! मेरे आलेख को भी स्थान दिया आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  10. इस मंच पर सभी लेखकों और पाठकों को महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं बहुत ही सार्थक आज की चर्चा मंच की पोस्ट

    ReplyDelete
  11. सभी को महाशिवरात्रि पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं।
    बहुत सुंदर चर्चा, शानदार लिंक चयन,सभी लिंक बहुत ही आकर्षक पठनीय।
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।