Followers

Saturday, March 20, 2021

'मनमोहन'(चर्चा अंक- 4011)

 शीर्षक पंक्ति: आदरणीया आशा लता सक्सेना  जी। 


सादर अभिवादन। 

शनिवासरीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है।

मनमोहन मुरलीधर श्रीकृष्ण की मंत्रमुग्ध करती मुस्कान भक्तों को आल्हादित करती है। मन को मोह लेने की दक्षता को विकसित करना एक अद्भुत कला है।


श्याम श्याम राधे कहे,श्याम रंग शृंगार।श्याम रंग ने ठग लिया,जोगन कह संसार।।
श्याम रंग का लहरिया,स्याह  प्रीत परिधान।मोह साँवले ने लिया,जपे श्याम का नाम।।
मनमोहन मन में बसे,मन बहोत अनमोलमुरलीधर मन को हरे, नहीं प्रीत का मोल।।
-अनीता सैनी 'दीप्ति'
--होली गीत "रंगों का है त्यौहार, चलो होली खेलेंगे"
--
कोई कहता
माखन चोर कान्हां
नन्द किशोर
यशोदा के  दुलारे
 मोहन प्यारे

एक अनकहा
अपरिभाषित रिश्ता
जुड़ गया है तुझसे ।
फ़िक्र रहती है तेरी
और तेरी गृहस्थी की ।
किसी अपने की ही
चिंता होती है ना ।

--

गौरैया ( गौरैया दिवस-लोकगीत )

रोज़ सुबह तुम, मुझको जगाना  
गाके मधुर गाना, तू प्यारी गौरैया ।।
मेरे घर...
पर्यावरण की तुम हो सहेली
रूठ नहीं जाना, तू प्यारी गौरैया ।।
मेरे घर...
--
औरत | महिलाओं को समर्पित | ग़ज़ल | डॉ. वर्षा सिंह

ख़ूबसूरत सा ख़्वाब है औरत

ज़ुल्मतों का जवाब है औरत


इसको पढ़ना ज़रा आहिस्ता से 

प्यार की इक किताब है औरत

--

विराट और प्रकृति

ओ अक्षुण भास्कर, मै तेरी उज्ज्वल प्रभा हूँ ।
तू विस्तृत नभ आच्छादित, मैं तेरी प्रतिछाया हूँ।
ओ घटा के मेघ शयामल, मैं तेरी जल धार हूँ,
तू धरा की प्यास हर , मैं तेरा तृप्त अनुराग हूँ ।
--
मोह नहीं गहनों, वस्त्रों का
मुक्त हृदय की है स्वामिनी,
मुखड़ा आत्म ज्योति से दमके,
 अधरों पर आनन्द रागिनी !
--
जीवनभर की
यात्राओं में 
चलता रहता है,
समय की गंधहीन 
आँच में तपकर निरंतर
बदलता रहता है 
देह का मौसम
किंतु 
उम्र अटकी रह जाती है
कभी किसी 
बसंत में खिले
पलाश की टहनियों पर।

सुन्दर सपना सलोना सा

स्वेद-लहू से सींच रहा है
जीवन की फुलवारी को
शीश खड़े संकट कितने
सदा बचाता बाड़ी को
माटी की ममता में पलता
नभ भी लगे बिछौना सा।।
--

पोपलर के पेड़ से पनपती,

पहले प्यार सी पत्तियाँ ।

चिनार फैलाए बाँह,

ढकती सारी आपत्तियाँ ।

लिख लेता हूँ,
शौकिया,
कविताएँ, लेख, संस्मरण,
कुछ कुछ,
छप भी जाता है।
--
आज का सफ़र यहीं तक 
फिर मिलेंगे 
आगामी अंक में 

@अनीता सैनी 'दीप्ति' 

23 comments:

  1. बहुत सुन्दर और श्रमसाध्य चर्चा प्रस्तुति।
    विश्व गौरय्या दिवस की बधाई हो।
    आपका आभार अनीता सैनी दीप्ति जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार सर।
      आपको भी बधाई।
      सादर

      Delete
  2. सुप्रभात !
    अनीता जी सर्वप्रथम तो आपको तथा सभी को, गौरैया दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं एवम बधाई, आप द्वारा चयनित सभी लिंक्स सराहनीय हैं,मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार एवम नमन ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुप्रभात आदरणीय दी।
      आपको भी हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।
      सादर

      Delete
  3. अभी-अभी विश्वस्त सूत्रों से ज्ञात हुआ कि आज विश्व प्रसन्नता दिवस भी है !!! सोने पर सुहागा!! गौरैया दिवस की खुशी मनाना बनता है !
    खिङकी में ही सही कुछ फूल- पौधे उगाना, सुंदर-सा घोंसला लगाना ....गर्मी आ गई है । एक मिट्टी के चौङे बर्तन में दाना और जल रखना ....सब आवश्यक है, अपने ही कल्याण और प्रसन्नता के लिए ।
    अनीता जी, हार्दिक आभार गौरैया की सुध लेने के लिए ।
    आपको एवम् सभी रचनाकारों को बधाई! सुप्रभात ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुप्रभात।
      प्रसन्नता दिवस और विश्व गौरैया दिवस पर आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ सखी।

      Delete
  4. बेहतरीन चर्चा अंक एवं प्रस्तुति,विश्व गौरैया दिवस की बधाई,वास्तव में यह नन्हीं सी चिड़िया जब तक घर आंगन में न फुदके सब निष्प्राण सा लगता है,इसकी चहचहाहट मन के तनाव हर लेती है।सभी का यही प्रयास हो कि इस जीव का संरक्षण किया जाए।सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार।सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. विश्व गौरैया दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ आदरणीया दी।
      सादर

      Delete
  5. काश ! हम "गौरैया दिवस" हर रोज मनाना सीख लेते तो पर्यावरण की ये दुर्गती ना होती। सच,ये छोटी सी जीव घर-आंगन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार कर जाती है। मेरे घर के बगल में ही बहुत बड़ा पेड़ है, सुबह-सुबह इस पर चिड़ियों का चहचहाना मन को प्रफुलित कर देता है। मुंबई में ऐसा सौभाग्य विरले ही मिलता है। बेहतरीन चर्चा अंक प्रिय अनीता,सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें एवं नमन

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदयस्पर्शी भाव कविता-सी बिखर पड़ी आपके शब्दों में प्रिय कामिनी दी।
      विश्व गौरैया दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ।
      सादर

      Delete
  6. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय कविता जी।
      सादर

      Delete
  7. शानदार लिंक्स. शानदार चर्चा..

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर।
      सादर

      Delete
  8. खुबसूरत रचनाओं का संकलन। आभार।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया सर।
      सादर

      Delete
  9. बेहतरीन चर्चा अंक एवं प्रस्तुति,विश्व गौरैया दिवस की सभी को बहुत बहुत बधाई ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. विश्व गौरैया दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ आदरणीया मीना दी।
      सादर आभार।

      Delete
  10. प्रिय अनीता सैनी जी,
    विश्व खुशहाली दिवस एवं गौरैया दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏
    बहुत अच्छी चर्चा....
    बेहतरीन लिंक्स ....
    आपके श्रम और रुचिपूर्ण संयोजन को नमन 🙏
    मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु हार्दिक आभार 🙏
    शुभकामनाओं सहित,
    डॉ. वर्षा सिंह

    ReplyDelete
    Replies
    1. विश्व गौरैया दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ आदरणीय वर्षा दी।
      सादर

      Delete
  11. सुंदर शीर्षक, शानदार दोहे सरस सार्थक।
    भावपूर्ण लिंक,सभी रचनाएं बहुत आकर्षक सुंदर।
    ,सभी रचनाकारों को बधाई।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार।
    विश्व गौरैया दिवस पर पूरे मंच को हार्दिक शुभकामनाएं।


    ReplyDelete
  12. सुंदर प्रस्तुति में मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार।
    देर से आने के लिए क्षमा चाहती हूँ।

    ReplyDelete
  13. सुप्रभात
    मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।