Followers

Thursday, March 18, 2021

चर्चा - 4009

 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
चर्चा लगाने का चर्चाकार को व्यक्तिगत क्या लाभ हो सकता है? उसे प्रसिद्धि मिलती है या कोई पारिश्रमिक? पता नहीं आप सब क्या सोचते हैं, लेकिन मुझे लगता है कि यह किसी भी खेल के कीपर की तरह एक थैंक्लैस जॉब है। आपने किसी की पोस्ट लगाई तो यह आपकी जिम्मेदारी थी और अगर आपसे कोई पोस्ट छूट गई तो यह गुटबंदी के कारण है। यहाँ मैं गुटबंदी के आरोप का खंडन भी नहीं करूँगा, अपितु कहूँगा कि अगर किसी भी चर्चा लगाने वाले ब्लॉग से आपको एतराज है तो अलग ब्लॉग बना लिया जाना चाहिए। ब्लॉग बनाने में कोई खर्च तो होता नहीं। हो सकता है कि आप इस भूमिका का कारण पूछें, लेकिन अगर पिछले सप्ताह से आप निरंतर इस ब्लॉग पर आ रहे हैं तो आप समझ सकते हैं।अगर आपको समझ नहीं आया तो इतना ही कहूँगा कि हमारी सोच तो न काहू से दोस्ती, न काहू से बैर वाली है। जो पोस्ट सामने आई और जिससे हम वैचारिक रूप से असहमत नहीं, उसे लगाने का प्रयास रहता है और अगर कोई छूटती है तो उससे माफ़ी मांगने का कोई कारण नहीं। अगर किसी व्यक्ति विशेष को लगे कि हम किसी को जानबूझकर छोड़ रहे हैं, तो वह अपना नया ब्लॉग बनाने के लिए स्वतंत्र होना चाहिए। कम-से-कम मैं तो उसे बधाई ही दूँगा और अगर अवसर मिला तो उसकी पोस्ट भी पढने आऊँगा क्योंकि ऐसे ब्लॉगस का मकसद तो अधिक-से अधिक लिंक लोगों तक पहुँचाना ही होता है। आशा है आप या तो तो हमारी विविशता समझेंगे या फिर हमारी ही तरह काम करके हमको गलत सिद्ध करेंगे। 
चलते हैं चर्चा की ओर 

8 comments:

  1. प्रभावी भूमिका के साथ बेहतरीन संकलन।
    सभी रचनाकारो को हार्दिक बधाई।
    सादर

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    आज का अंक सजा सुन्दर |मेरी रचना के लिए आभार सहित धन्यवाद दिलबाग जी |
    \

    ReplyDelete
  3. सटीक और सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  4. चर्चा मंच का बहुत बड़ा योगदान है पाठकों तक रचनाएं पहुँचाने में, इसके लिए जितना आभार व्यक्त किया जाए कम है, आप सभी के बिना किसी लाभ के किए जाने वाले इस श्रम को हिंदी साहित्य की अनुपम सेवा ही कहा जा सकता है और सेवा का कोई प्रतिदान नहीं हो सकता। यह अंक भी पठनीय रचनाओं के सूत्रों को समेटे है, बहुत बहुत आभार !

    ReplyDelete
  5. उपयोगी भूमिका के साथ संग्रणीय चर्चा।
    अपनी बात को चर्चामंच मंच पर पाठकों तक पहुएचाने के लिए
    आदरणीच दिलबाग सिंह विर्क जी आपका कोटिशः धन्यवाद।

    ReplyDelete

  6. बेहतरीन रचनाओं को संकलन मेरी रचना को भी स्थान के लिए दिल से धन्यवाद एवं आभार दिलबाग सर ,सादर नमन आपको

    ReplyDelete
  7. मेरे ब्लॉग को शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर लिंक चर्चा।
    सुंदर लिंक चयन।
    सभी रचनाकारों को बधाई।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय तल से आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।