Followers

Monday, March 29, 2021

'एक दिन छुट्टी वाला'(चर्चा अंक-4020)

शीर्षक पंक्ति: आदरणीया 

सादर अभिवादन सोमवारीय प्रस्तुति में आपका हार्दिक स्वागत है। 

आइए पढ़ते कुछ मनपसंद रचनाएँ 

--

बालगीत "मस्ती लेकर आई होली"

आयी होलीआई होली।
रंग-बिरंगी आई होली।
मुन्नी आओचुन्नी आओ,
रंग भरी पिचकारी लाओ,
मिल-जुल कर खेलेंगे होली।
रंग-बिरंगी आई होली।।
--
ऐसा क्या .... अच्छा ऐसा करो चाय के साथ पनीर के पकौड़े बना लेना और डिनर में एक ही सब्जी कोफ्ते बना लो साथ मे जीरा राइस ... और हाँ रोटी नहीं पूरियाँ बनाना ... डेज़र्ट चलो बाजार से रबड़ी ले आना और हाँ कॉर्नेटो भी लेते आना ... चलो तबतक मैं थोड़ा सो लेती हूँ 😅
--
फाग का राग बन आ गई होली भी,
अब तो घर आ जा मेरे सजन।
बयार भी चुभ रही काँटा बन,
मन हुआ बावरा, बिसर गया तन।
--
बस तमन्ना इतनी है 
कि सड़कों के किनारे 
और झुग्गियों में रहने वाले 
गर रख सकें जीवंत 
शहरी रईसों द्वारा 
इतिहास बना दी गई...
--
कुछ रंग सजाईये
कुछ रंग बनाईये
उसमें बचपन की मस्ती
और 
पचपन की समझ
को घोटिये।
--

चढ़ कर यदि उतरे नहीं, होली वाला रंग ।
समझो इसमें है छुपा, बेशक़ प्रेम प्रसंग।। 1।।


सखी न पूछो - क्या हुआ ? क्यों चुनरी है लाल ?
अब कैसे तुमसे कहूं , अपने दिल का हाल ।। 2।।
--
कुछ चेहरे अकारण ही बने -
कालजयी, युग के साथ बदलते रहे
इतिवृत्त कथा, प्रस्तर काल
से ले कर सम्प्रति पहर
तक, वही अदम्य
जिजीविषा,
--
सागर है
लहरें हैं
जब तक किनारों पर
सफ़ेद चोले में लिपटी जिस्म भी
तुम्हारे क़रीब आकार
एक दिन तुझसे छूट जाती है ।
--
एक शाम यही पहाड़ों पर
तुम संग आना चाहता हूँ 
कुछ घंटें सूकून भरे 
तुम संग बिताना चाहता हूँ 
इसी बेंच पर तुम्हारा हाथ पकड़ 
अनगित बातें करनी है
--
रो रहे किसान 
रोये नौजवान
 रो रही है धरती माता
 हँस रहे भक्तजन महान
 जोगीरा सारा रा रा
--
कौन अपना है कौन, कौन है पराया आज 
रंग की   तरंग में  सभी  पे   रंग  डारिए
होली की हुलाल में, उमंग की उछाल में 
दुखी जन प्राणियों को शोक से उबारिए 
कोरोना से बचने को, दूरी भी जरूरी है 
सम्हल के होली, खूब खेलने विचारिए 
भूल भेदभाव, छल, माथे पे तिलक मल 
एकता  के  आईने  में  सबको उतारिए
--
आज का सफ़र यहीं तक 
फिर मिलेंगे 
आगामी अंक में 

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

20 comments:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति।
    होली की हार्दिक शुभकामनाएं 🌻♥️

    ReplyDelete
  2. प्रिय अनीता सैनी जी,
    मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए हार्दिक धन्यवाद एवं आभार 🌹🙏🌹

    ReplyDelete
  3. अनीता जी आपको तथा चर्चा मंच के सभी सम्माननीय साथियों को होली की हार्दिक शुभकामनाएं 🌹🌹🌹
    - डॉ शरद सिंह

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    आप सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं 💐

    ReplyDelete
  5. उत्कृष्ट रचनाओं का संकलन ।सादर।

    ReplyDelete
  6. रंगों का त्योहार,🏵
    लाए जीवन में बहार।🏵🏵🏵
    सफलता👑 चूमें आपके द्वार
    जगत में फैले कीर्ति अपार।।

    स्वस्थता, प्रसन्नता,सौहार्दता लिए यह सौभाग्यशाली,पावन पर्व आपके एवं आपके परिवार में नित प्रेम का रंग फैलाए।
    आपको सपरिवार रंग-बिरंगी होली की ढेरों शुभकामनाएँ।
    💐💐💐

    सधु चन्द्र

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर और सार्थक चर्चा।
    रंग भरी होली की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete

  8. सप्तरंगी भावनाओं से अलंकृत चर्चा मंच जैसे स्वप्निल जाल बिखेरता सा - - असंख्य आभार आदरणीया अनीता जी। नमन सह। होली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  9. प्रिय अनीता सैनी 'दीप्ति' जी,
    बेहतरीन अंक है आज चर्चा का
    ख़ूबसूरत और रंग-रंगीला... साधुवाद

    इस वर्ष कोरोना आपदा के कारण हमारे क्षेत्र, हमारे मध्यप्रदेश में "मेरा घर-मेरी होली" के संदेश के साथ अपने घर में परिवार जन के साथ होली मनाई जा रही है। इस चर्चा मंच के साथी भी मुझे मेरे परिवार के सदस्य सरीखे आत्मीय हैं। अतः मैं आज यहां आ कर परिवार के सदस्यों के बीच महसूस कर रही हूं।
    आप सहित चर्चा मंच के सभी ब्लॉग साथियों को होली पर्व पर वंदन...
    अभिनंदन ...
    रंग गुलाल का टीका-चंदन...
    होली की ढेर सारी रंगबिरंगी शुभकामनाओं सहित
    सस्नेह,
    डॉ. वर्षा सिंह

    ReplyDelete
  10. धन्यवाद मैम मेरी रचना शामिल करने के लिए

    ReplyDelete
  11. आभार आपका अनीता जी...। बहुत सुंदर अंक है सभी लिंक बहुत शानदार हैं, सभी को खूब बधाई। होली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  12. अनीता जी
    राजनितिक वैमनस्य फ़ैलाने वाली पूर्वाग्रही 'पोस्ट' वातावरण को असहज सा बना जाती हैं।
    सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  13. सुंदर प्रस्तुति, रंगीली होली की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सार्थक आज की चर्चा और आप सभी मेंबर्स को होली की हार्दिक शुभकामनाएं टीम सुगना फाउंडेशन

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया प्रस्तुति
    होली की हार्दिक शुभकामनाएं
    सादर

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर और रंगों से सजी सार्थक चर्चा। सभी को होली की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  17. एक सार्थक चर्चा सत्र के लिए सभी सहभागियों को हार्दिक साधुवाद! आप सबों को होली की ढेर सारी शुभकामनाएँ!💐!--ब्रजेंद्रनाथ

    ReplyDelete
  18. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  19. उम्दा प्रस्तुति |

    ReplyDelete
  20. आपका तहे दिल से शुक्रिया और आभार ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।