Followers

Wednesday, January 20, 2021

"हो गया क्यों देश ऐसा" (चर्चा अंक-3952)

 मित्रों!
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
--
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
--

गीत "आज हा-हा कार सा है" 

 
कल्पनाएँ डर गयी हैं
,
भावनाएँ मर गयीं हैं,
देख कर परिवेश ऐसा।
हो गया क्यों देश ऐसा??
 --
पक्षियों का चह-चहाना ,
लग रहा चीत्कार सा है।
षट्पदों का गीत गाना ,
आज हा-हा कार सा है।
गीत उर में रो रहे हैं,
शब्द सारे सो रहे हैं,
देख कर परिवेश ऐसा।
हो गया क्यों देश ऐसा??

--
एक चोर का डैमेज कंट्रोल वाह वाही चाहता है अखबार उसकी एक पुरानी खबर के बाद बस चुप हो जाता है 
बड़ी खबर
किसने कह दिया
आपके सोचने से होगी

आदमी देख कर
खबर का खाँचा
बनाया जाता है 
सुशील कुमार जोशी, उलूक टाइम्स 
--
ऊँघते आत्मविश्वास का हाथ थामे
उत्साह की छोटी-छोटी सीढ़ियों के सहारे 
अनायास ही झाँक लेती हूँ बेमन से
कभी-कभी मन दुछत्ती के उस छोर पर
उकसाए विचार चेतना के ज्वार की सनक में 
स्वयं के अस्तित्त्व को टटोलने हेतु।
--
ऐसा वर दो माँ शारदे, मैं भी जग में कुछ कर जाऊँ। वंदन करूँ पूजन करूँ ,नित तेरा अभिनंदन करूँ, पाकर तेरी कृपा-दृष्टि, ज्ञान शिखर पर चढ़ जाऊँ_sadhana singh
ऐसा वर दो माँ  शारदे,
मैं भी जग में कुछ कर जाऊँ।
वंदन करूँ पूजन करूँ ,
नित तेरा अभिनंदन करूँ,
पाकर तेरी कृपा-दृष्टि,
ज्ञान शिखर पर चढ़ जाऊँ। 
--
नज़रिया 

कुछ तो अच्छा होगा ही

नज़र बदल कर देखा


क़दम क़दम पर खड़ी मुसीबत 

सुबह शाम होती है हुज्जत

मिलती नहीं किए की क़ीमत

डगर बदल कर देखा

कुछ... 

--
भूख इतनी न जगाओ कि ...  झमाझम बारिश में भी प्यास ना बुझे ...! 
जो कि बा-मुश्किल लोगों को मिली है।
बिन बारिश भी जो खुद को 
सूखने ना दे, 
पतन होने न दे 
उसी का नाम हरियाली है ।
जिसके लिए स्थिरता चाहिए 
संयम, ठहराव चाहिए। 
भूख इतनी न जगाओ कि ...
झमाझम बारिश में भी 
प्यास ना बुझे ...!
सधु चन्द्र, नया सवेरा  
--
--
झुर्रियाँ 
पुरुषोत्तम कुमार सिन्हा, 
--
सिंधु छंद- एक लघु परिचय 

• सिन्धु छन्द समपाद मात्रिक छन्द है। इसके चारों चरणों में २१ मात्रायें होती हैं। 

• इसमें मध्य यति नहीं होती। दो-दो चरणों के अंत में तुकान्त का विधान होता है। 

• इसकी पहली, आठवीं एवं पन्द्रहवीं मात्रायें लघु होती हैं। अन्य नियम मात्रिक छन्दानुसार ही होते हैं।

• इसके लक्षण एवं इसकी परिभाषा इस प्रकार बताये जा सकते हैं।

 

लखौ त्रय लोक महिमा सिंधु की भारी।

 

तऊ पुनि गर्व के कारण भयो खारी।। 

लहे प्रभुता सदा जो शील को धारै। 

दया हरि सों तरैं कुल आपनो तारै।। 

--
--
लघुकथा :  एक टुकड़ा आसमान का 
निवेदिता श्रीवास्तव, झरोख़ा  
--
दोहा :-  झूठ यहां अनमोल है सच का ना व्यौपार। सोना बन बिकता यहां पीतल बीच बाज़ार। डॉ लोक सेतिया ये उनका युग है जिन्होंने झूठ की फ़सल बोई है और मालामाल हैं भला इस से बढ़कर आसान तरीका कोई दुनिया भर में किसी के पास मिल सकता है नाम दौलत शोहरत ताकत पाने का। कोई ज़मीन नहीं चाहिए खाद पानी देना नहीं पड़ता है हर मौसम में झूठ की फ़सल लहलहाती है 
--
सफेद 
जब हो रही थी रंगों की बारिश 
मेरे ऊपर सफ़ेद रंग गिरा
तुम्हें पता है ?-
सफ़ेद रंग सारे रंगों से मिलकर 
उन्हें हल्का कर देता है!
जैसे क्रोध के साथ धैर्य
और घृणा के साथ प्रेम
सारे रंग समा जाते हैं- सफ़ेद में,
बिना किसी बहस के 
और इसलिए चमकता है
सिर्फ़ सफ़ेद, झक सफ़ेद... 
Archana Chaoji, मेरे मन की  
--
एक ग़ज़ल- मौसम का सच छिपाती हैं शीशे की खिड़कियाँ
मौसम का सच छिपाती हैं शीशे की खिड़कियाँ
हँसकर के सारे ग़म को भुलाती हैं लड़कियाँ

खतरा सभी को रहता है यूँ अपने आस-पास
जब भी कटी उँगलियाँ, तो थीं अपनी खुरपियाँ
जयकृष्ण राय तुषार, छान्दसिक अनुगायन  
--
हमें एक्‍सेल क्‍यों सीखना चाहिए 

यदि आपको एक्‍सेल आता है तो वह आपके लिए एक्‍स्‍ट्रा स्किल के तौर पर काम करता है जो आपके लिए रोजगार के अवसर पैदा कर सकता है मान लीजिए आप और आपके मित्र ने एक साथ पढाई की है और आप दोनों ने एक साथ किसी जॉब के लिए एप्‍लाई किया है लेकिन आपने एक्‍सेल की ट्रेनिंग ली हुई है और आपके मित्र ने वह ट्रेनिंग नहीं ली है तो इसका मतलब यह होगा कि उसको उस जॉब में प्राथमिकता नहीं दी जायेगी चूंकि उसको एक्‍सेल की एक्‍स्‍ट्रा नॉलेज नहीं है तो इस तरह से अगर आपने एक्‍सेल सीखा हुआ है तो यह आपके लिए वरदान सिद्ध हो सकता है

--
असली शुद्ध शहद की पहचान कैसे करे? 
ब्रेड पर शहद डालने से यदि ब्रेड कठोर हो जाती है तो समझे कि शहद शुद्ध है। यदि ब्रेड पर शहद डालने से वो नरम और गीली हो जाती है, तो शहद मिलावटी है।  
--
ख़ुद से परास्त राजा 
सत्य को छुपाना
इतना भी
सहज
नहीं, सभी सीमाएं तोड़ जाते हैं दुर्गन्ध
के कोलाहल 
शांतनु सान्याल, अग्निशिखा : 
--
आज का उद्धरण 
विकास नैनवाल 'अंजान', एक बुक जर्नल  
--
आज के लिए बस इतना ही...।
--

22 comments:

  1. शुभ प्रभात ....
    सुन्दर प्रस्तुति, बेहतरीन लिंक्स का अनूठा संकलन।।।।। बहुत-बहुत शुभकामनाएँ ।।।

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत और विविधताओं से परिपूर्ण सूत्रों से सजी प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  3. आदरणीय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' जी,
    यह मेरे लिए अत्यंत सुखद अनुभूति है कि आपने मेरी कहानी को
    चर्चा मंच में शामिल किया है।
    आपका हार्दिक धन्यवाद एवं बहुत-बहुत आभार!!!
    सादर नमन 🌹🙏🌹
    - डॉ. शरद सिंह

    ReplyDelete
  4. बहुत रोचक विविधतापूर्ण पठन सामग्री की लिंक्स उलब्ध कराने हेतु आपको साधुवाद 🌹🙏🌹

    ReplyDelete
  5. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  6. रोचक लिंक्स से सुसज्ज्ति चर्चा... मेरी पोस्ट को इधर शामिल करने के लिए हार्दिक आभार...

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा
    बढ़िया लिंक्स

    ReplyDelete
  9. आदरणीय शास्त्री जी, नमस्कार! रोचक एवं ज्ञानवर्धक रचनाओं से सुसज्जित बेहतरीन चर्चा अंक प्रस्तुत करने के लिए आपका आभार, मेरी रचना को चर्चा में शामिल करने के लिए आपका हृदय से अभिनंदन करती हूँ..सादर.. जिज्ञासा सिंह..

    ReplyDelete
  10. एक से बढ़कर एक रचनाओं के लिंक्स देती चर्चा !

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुंदर चर्चा प्रस्तुति। मेरे सृजन को स्थान देने हेतु बहुत बहुत शुक्रिया आदरणीय सर।
    सादर

    ReplyDelete
  13. अद्वितीय रचनाएँ, सुन्दर प्रस्तुति के साथ अपनी अलग छाप छोड़ता हुआ चर्चा मंच, मुझे शामिल करने हेतु असंख्य आभार माननीय शास्त्री जी - - नमन सह।

    ReplyDelete
  14. उम्दा संकलन ! सभी को शुभकामनाएं, स्वस्थ रहें प्रसन्न रहें

    ReplyDelete
  15. Grab the best fitness band under 2000 in india with premium quality and best
    Features. Buy now the best fitness band. best fitness band under 2000

    ReplyDelete
  16. आदरणीय डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' जी,
    मेरी रचना को उत्कृष्ट मंच प्रदान करने हेतु हार्दिक आभार ।
    एवं विविधतापूर्ण पठन सामग्री की लिंक्स उलब्ध कराने हेतु साधुवाद ।
    सादर नमन

    ReplyDelete
  17. अति सुंदर सच में बहुत ही अच्छी रचनाएं प्रस्तुत की है आपने पढ़के अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  18. Sarkariexam Says thank You Very Much For Best Content I Really Like Your Hard Work. Thanks
    amcallinone Says thank You Very Much For Best Content I Really Like Your Hard Work. Thanks
    9curry Says thank You Very Much For Best Content I Really Like Your Hard Work. Thanks

    ReplyDelete
  19. Get jobs as freelance models, freelance singers, freelance actors, freelance musicians, freelance painter jobs, freelance voice over artists jobs in India. musician jobs

    ReplyDelete
  20. Buy gifts for new moms. Add some happiness in their new beginning by giving them unique gifts for a new start. best gifts for grandma

    ReplyDelete
  21. At one place get all the latest trending and top news of what is going across India.
    Know what's happening across India at your fingertip in hindi. Know all the viral
    news across India. trending news in hindi

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।