Followers

Thursday, May 13, 2021

चर्चा - 4064

 आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
भारत के लिए परीक्षा की घड़ी है और साथ ही यह मानवता के लिए भी| सोशल मीडिया पर रोज मित्रों का बिछुड़ना आहत करता है, लेकिन सांत्वना भरे बोलों के सिवा देने को कुछ नहीं| हाँ, दुआ की जा सकती है| दुआ करते रहो, शायद यह किसी के काम आए 
चलते हैं चर्चा की ओर 
धन्यवाद सहित 
दिलबागसिंह विर्क 

10 comments:

  1. आदरणीय विर्क साहब आपका हृदय से आभार ।अच्छे लिंक्स।आपका दिन शुभ हो ।आपकी ब्लॉग टीम और परिवार स्वस्थ और प्रसन्न रहे।

    ReplyDelete
  2. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, दिलाबाग़सिंह भाई।

    ReplyDelete
  3. "सीमा" को शामिल करने के लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. सभी के स्वास्थ्य की कामना करते हुए सार्थक भूमिका के साथ पठनीय सूत्रों का चयन।

    ReplyDelete
  5. सुंदर लिंक। सबके स्वस्थ, सुखी एवं सानंद जीवन की शुभकामना!!! बधाई और आभार!!!

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी सामयिक चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन लिंक्स। मेरी रचना को चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार आदरणीय।

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।