Followers

Thursday, May 27, 2021

अप्प दीपो भव ( चर्चा - 4078न)

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
आज बुद्ध पूर्णिमा के दिन यह चर्चा तैयार कर रहा हूँ| निराशा के इस दौर में बुद्ध को याद करना और उनकी शिक्षाओं को दोहराना बहुत महत्त्वपूर्ण है| बुद्ध ने जीवन को दुखों का घर कहा है और आज इसकी सत्यता स्वयंसिद्ध है| बुद्ध परमात्मा के विषय पर मौन हैं क्योंकि परमात्मा पर बहस व्यर्थ है, उनके अंतिम शब्द उनके दर्शन का सार हैं| अंतिम शब्द हैं -
अप्प दीपो भव 
अर्थात अपने दीपक ख़ुद बनो| अध्यात्म की राह पर कोई किसी को कुछ नहीं दे सकता, जो पाना है उसे स्वयं ही पाना है | सार्त्र ने इसे जीवन के सन्दर्भ में कहा है - The other is hell अर्थात दूसरा नर्क है| जीवन को सुख पूर्वक जीना हो या अध्यात्म की राह पर चलना हो, आप को एकांत चुनना ही होगा और एकांत के लिए घर-परिवार छोड़ना जरूरी नहीं| गीता में इसे अकर्ता होना कहा है| दुख के इस दौर में हमें ऐसी जीवन-शैली को अपनाना ही होगा कि हम सुख-दुख से पार हो सकें|
चलते हैं चर्चा की ओर   
धन्यवाद 
दिलबागसिंह विर्क  

13 comments:

  1. रोचक व पठनीय सूत्र, आभार।

    ReplyDelete
  2. बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर सार्थक भूमिका के साथ पठनीय रचनाओं के सूत्रों से सजा चर्चा मंच ! आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद महोदय! मेरे ब्लॉग का यहाँ समावेश देख कर अच्छा लगा| सभी को प्रणाम|

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सार्थक चर्चा...। रचनाओं का अच्छा चयन।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छे सूत्रों का चयन आज के चर्चामंच में ! मेरी आपबीती को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार दिलबाग जी ! सादर वन्दे !

    ReplyDelete
  7. सुंदर सराहनीय अंक,आपको सादर शुभकामनाएं आदरणीय ।

    ReplyDelete
  8. रोचक लिंक्स से सुसज्जित चर्चा।

    ReplyDelete
  9. "दुख के इस दौर में हमें ऐसी जीवन-शैली को अपनाना ही होगा कि हम सुख-दुख से पार हो सकें|"
    समयानुकूल सकारात्मक सोच का संचार करती सार्थक भूमिका के साथ उन्दा लिंकों का चयन आदरणीय सर,
    सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनायें एवं नमन

    ReplyDelete
  10. बेहद सुंदर चर्चा संकलन

    ReplyDelete
  11. गौतम बुद्ध को आधार में रखकर बहुत शानदार भूमिका।
    सभी रचनाकारों को बधाई
    आज की प्रस्तुति बहुत शानदार है।
    सादर
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    ReplyDelete
  12. शानदार चर्चा के लिए नमन .... आपने मिसफिट का लिंक देकर मुझे कृतार्थ कर दिया विर्क सर आभार मंच आभार सुधि पाठक गण

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।