Followers

Sunday, January 02, 2022

'२0२२ कहता है '( चर्चा अंक-4297)

सादर अभिवादनआज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है( शीर्षक और भुमिका आदरणीया अनीता सैनी जी की रचना से)सबसे पहले, आप सभी को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

२०२२ कहता है

तुम भावों में शब्दों को 

होंठो पर मुस्कुराहट जड़ो

मैं उल्लास लाया हूँ।

******

परमात्मा से यही प्रार्थना है किये साल हमारे जीवन में सुख,शांति और समृद्धि  लाए इसी मंगल कामना के साथ,चलते हैं आज की कुछ खास रचनाओं की ओर...

इन रचनाओं में भी सभी की दुआएं ही है...

*******
एक मुक्तक-कुछ दोहे "आप सबको मुबारक नया वर्ष हो" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 देशभक्ति के ज़ज़्बे का उत्कर्ष हो

सारी दुनिया में पसरा हुआ हर्ष हो।
धानी धरती हमेशा रहे उर्वरा,
आप सबको मुबारक नया वर्ष हो।।
--
देखो फिर से आ गया, नया-नवेला साल।

******
 

२0२२ कहता है

यों मायूसी में न सिमटो

खो जाओ स्वप्न में  

दौड़ गंतव्य की ओर 

मैं पता साहस का लाया हूँ।

******

******

नव वर्ष के विस्तार का करते हैं अभिनंदन।
नव हर्ष के विस्तार का करते हैं अभिनंदन।

सन इक्कीस के उस
दंश को भूलना है कठिन ।
हमने खाये तीर कई,
जिन्हें भूलना है कठिन ।
फिर भी नव संचार का करते हैं हम

936.यादें 2021
यादें 2021*
2020 की कड़वी यादों के साथ जब वर्ष 2021 का कैलेंडर बदला तो लगा कि अब कोरोना रूपी राक्षस लौटकर नहीं आएगा। जिंदगी पटरी पर लौटनी शुरू हुई थी। 5 अप्रैल 2020 में प्रस्तावित बाबा बैद्यनाथ साहित्योत्सव काव्याभिषेक को 4 अप्रैल 2021 में करने की घोषणा कर दी। ख़ौफ़ और आशंका के बीच तैयारियां शुरू हो गयी। 

दो हज़ार बाईसशुभकामनाकर धमाल आ मिल जुल कर उत्सव मना****** "नई सोच के साथ, नया साल मुबारक हो"

मगर सवाल ये है कि - किस आधार पर हम नए साल में नए बदलाव की कामना कर सकते हैं ? 

 अक्सर मन में विचार आता है "नया साल" आखिर  होता क्या है ?  देखे तो वही दिन वही रात होती है वही सुबह वही शाम होती है ,बस कैलेंडर पर तारीखे बदलती रहती है।

******


आज का सफर यही तक, अब आज्ञा देआप का दिन मंगलमय होकामिनी सिन्हा

12 comments:

  1. सुप्रभात !
    नव वर्ष की मंगलकामनाओं के साथ विविध रंगों से सज्जित अंक । मेरी रचना का पहले ही दिन पटल पर चयन करने के लिए आपका हार्दिक आभार एवम अभिनंदन । मेरी हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर और सार्थक चर्चा!
    सभी पाठकों को नव वर्ष 2022 की हार्दिक शुभकामनाएँ|
    आपका आभार आदरणीया कामिनी सिन्हा जी!

    ReplyDelete
  3. नव वर्ष की मंगलकामनाओं से सुसज्जित आज की चर्चा बहुत ही सुन्दर, सार्थक एवं सारगर्भित ! मेरी रचना को सम्मिलित किया आपका हृदय से बहुत बहुत धन्यवाद एवं आभार कामिनी जी ! आपके साथ साथ सभी पाठकों को नव वर्ष की हार्दिक मंगलकामनाएं ! सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
  4. नव वर्ष की ताज़गी लिए चर्चा मंच का सुंदर अंक, आभार मुझे भी शामिल करने हेतु, कामिनी जी!

    ReplyDelete
  5. आदरणीया, एक सार्थक और समसामयिक चर्चा के लिए चयनित रचनाओं ने इस मंच को सार्थकता वरदान की है। साधुवाद!

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्तुति, सभी रचनाएं बहुत आकर्षक और सुंदर।
    सभी रचनाकारों को बधाई।
    मेरी रचना को चर्चा में स्थान देने के लिए हृदय से आभार कामिनी जी ।

    ReplyDelete
  7. सुप्रभात🙏
    बहुत ही उम्दा व शानदार प्रस्तुति
    आभार🙏🙏

    ReplyDelete
  8. उम्दा चर्चा।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर सराहनीय संकलन आदरणीय कामिनी दी जी।
    शीर्षक पर अपनी रचना की पंक्तियाँ देख अत्यंत हर्ष हुआ।
    सृजन को मंच पर मान दिया दिल से आभार।
    सादर स्नेह

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति में मेरी ब्लॉगपोस्ट सम्मिलित करने हेतु आभार
    सबका नववर्ष मंगलमय हो!

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर चर्चा प्रस्तुति
    नववर्ष की ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  12. आप सभी स्नेहीजनों को हृदयतल से धन्यवाद एवं सादर अभिवादन

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।