Followers

Saturday, January 01, 2022

'नए वर्ष की ढेर शुभ-कामनाएँ'( चर्चा अंक-4296)

सादर अभिवादन ! 

शनिवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है ।

स्वागत है नववर्ष 2022

गत वर्ष 2021 भविष्य में मानवता के लिए भयावह तबाही के वर्ष के रूप में स्मृति-पटल पर अंकित रहेगा। 

विश्वव्यापी महामारी करोना ने दुनिया की सरकारों की स्वास्थ्य-व्यवस्था की कलई खोलकर रख दी. पिछले वर्ष ऑक्सीजन के संकट ने भारत में असमय मौतों का जो अंबार खड़ा किया उससे प्रबुद्ध मानवता सिहर उठी थी। 

2021 ने बीतते हुए भी ऑमीक्रोन नामक दुमछल्ला 2022 के साथ बाँध दिया है। 

दुनिया में बड़ी राजनीतिक हलचल हमारे पड़ोस में हुई  अफ़गानिस्तान में तालिबानी सत्ता पुनः स्थापित हुई जो स्त्रियों पर अत्याचार और मानवाधिकारों के हनन के लिए कुख्यात है। 

वैज्ञानिक उपलब्धि के रूप में हम कम से कम समय में तैयार की गई करोना वैक्सीन रही। फ़ख्र की बात है कि भारत ने अपनी करोना वैक्सीन कोवैक्सीन बना डाली जो भारतीय वैज्ञानिक वर्ग की महान उपलब्धि है। 

हम उम्मीद करते हैं कि वर्ष 2022 देश-दुनिया के लिए शुभता से भरा होगा। चर्चामंच की ओर से 

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ। 


आइए अब पढ़ते हैं आज की पसंदीदा रचनाएँ-

--

गीत "नूतन का करता अभिनन्दन" 

गये साल को है प्रणाम! 
है नये साल का अभिनन्दन।।
लाया हूँ स्वागत करने को
थाली में कुछ अक्षत-चन्दन।। 
है नये साल का अभिनन्दन।।
गुजरता हुआ पल  लौटेगा फिर से,
यही एक पल है इसे ही मनाएँ.
क़सम पहले दिन के प्रथम लम्हे की है,
वज़न दस किलो हो सके तो घटाएँ.
--

मैं भी था खुश कि 

कितनी हसरत से 

देख रहे सब मुझको 

एक दूसरे को कह रहे कि 

आने वाला वर्ष 

मुबारक सबको । 

--
तुम्हें पता है न
विदा के वक़्त की मुस्कान
मन के हर भार को 
हल्का कर देती है
और विश्वास को दुगुना
.. कि जो भी होगा 
वो अच्छा ही होगा !!
नई किरन
नया दिन
नई मुस्कान
नई उम्मीदें
नए विचार 
नई शुरुआत 
करते हैं चलो आज .....
गुजर गया सो गुजर गया 
आगे की बात करते हैं आज .....
छद्म वेश से विद्या सीखी
करके विप्र रूप धारण
सत्य सामने जब आया तो
किया क्रोध ने सब जारण।
--
न  होगा  फ़क़त  फाइलों-काग़ज़ों  में,
हक़ीक़त में भी मुल्क ख़ुशहाल होगा।

बढ़ेगी  न  केवल  अमीरों  की  दौलत,
ग़रीबों  के हिस्से भी कुछ माल होगा।
--
राज-ए दिल न कहो किसी से अजीबोगरीब दुनिया है,
जो दोस्त है कल वही दुश्मन भी हो सकता हैं।
          ******0******0******

गुलशन में फूलों  से ही नही कांटों की भी जरूरत होती हैं
जिन्दगी में खुशियां ही नही अश्को की भी  जरूरी होती हैं ।।
अचानक माहौल हुआ ये कैसा? 
हवा क्यों खुश्क हो गई? 
आफताब क्यों मंद है?
धरा की सोंधी खुशबू कहां खो गई? 
पूछते है लोग, आखिर अब कहाँ रहता हूं मैं?
अब तो केवल चुप हूँ, कुछ नहीं कहता हूँ मैं।

'उसके साथ तेरी मुस्कुराती तस्वीर' में कहीं,
रुसवाइयों में खुद को अक्सर, ढूंढता रहता हूँ मैं।

-- 

आज का सफ़र यहीं तक .. 

@अनीता सैनी 'दीप्ति'

16 comments:

  1. बहुत खूबसूरत रचनायें है नये साल के पहले संकलन में।
    कोरोना ,ओमीक्रोन,आदि चुनौतियों का भी संज्ञान लेती हुई रचनायें है।

    तथा नवबर्ष की शुभकामनाएं देती हुई रचयनायें
    । वेहतरीन संकलन । मेरी रचना को स्थान प्रदान करने के लिये अनीता जी का बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  2. सुंदर सारगर्भित तथा प्रेरक रचनाओं का उम्दा संकलन । आपको, चर्चा मंच को और सभी रचनाकारों को को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई 💐💐

    ReplyDelete
  3. नववर्ष शुभ हो मंगलमय हो सभी के लिये।

    ReplyDelete
  4. नववर्ष की अनंत शुभकामनाएं आप सभी को ...बेहतरीन लिंक्स एवम प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  5. नववर्ष की अनन्त शुभकामनाएं....

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा सूत्र ...
    नव वर्ष की मंगल कामनाएं सभी को ...
    आभार मेरी गज़ल को शामिल करने के लिए ...

    ReplyDelete
  7. बेहद सुंदर चर्चा प्रस्तुति
    आप सबको नववर्ष की ढेरों शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. सुंदर, सार्थक संकलन ... नववर्ष की शुभकामनायें सभी को ... आभार रचना को स्थान देने हेतु ...

    ReplyDelete
  9. नये साल की बहुत सुन्दर और सार्थक चर्चा।
    सभी पाठकों को नव वर्ष 2022 की हार्दक मंगल कामनाएँ।
    आपका आभार अनीता सैनी दीप्ति जी।

    ReplyDelete
  10. नये साल की बहुत सुन्दर और सार्थक चर्चा।
    सभी पाठकों को नव वर्ष 2022 की हार्दिक मंगल कामनाएँ।
    आपका आभार अनीता सैनी दीप्ति जी।

    ReplyDelete
  11. सुंदर रचनाएं, मेरी रचना को स्थान प्रदान करने के लिये हार्दिक आभार, सभी को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ🙏

    ReplyDelete
  12. सुंदर सारगर्भित प्रस्तुति । चर्चा मंच और सभी रचनाकारों को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐

    ReplyDelete
  13. नवजोत लिए,
    नव आश लिए,
    नवदीप का प्रकाश लिए,
    नववर्ष आए आपके जीवन में
    खुशियाँ अपार लिए 🙏🙏
    नववर्ष की सभी को हार्दिक हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं व बधाई🎉🎊
    नववर्ष मंगलमय हो🙏🙏

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति
    सभी को नवोदित वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. सभी रचनाकारों, पाठकों चर्चाकारों को
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं ।
    सराहनीय भूमिका , शानदार लिंक्स बेहतरीन चर्चा प्रस्तुति।
    सभी रचनाकारों को बधाई।
    सभी रचनाएं बहुत आकर्षक।
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए हृदय से आभार।
    सादर सस्नेह।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर चर्चा प्रस्तुति
    नववर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।